English ಕನ್ನಡ മലയാളം தமிழ் తెలుగు
 
Share This Story

मोज़िला का नया मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम 'बीट2जी'

Updated: Sunday, August 7, 2011, 11:49 [IST]

मोज़िला का नया मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम 'बीट2जी'

बाज़ार में लगातार आ रहे नए-नए मोबाइल फोन मॉडलों के साथ ही मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम अर्थात 'मोबाइल ओएस" के क्षेत्र में भी जबरदस्त प्रतियोगिता की शुरुआत हो चुकी है। ऐपल, माइक्रोसॉफ्ट और गूगल के बाद अब मोज़िला भी जल्द ही बाज़ार में अपना मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम लॉन्च करने जा रहा है।

मोजिला को इंटरनेट ब्राउजिंग के क्षेत्र में इंटरनेट एक्सप्लोरर का वर्षों का एकाधिकार खत्म करने वाली कंपनी के रूप में जाना जाता है। इंटरनेट एक्सप्लोरर को चुनौती देने के लिए मोज़िला द्वारा बाज़ार में उतारे गए फायरफॉक्स वेब-ब्राउज़र को इंटरनेट यूज़र्स ने बहुत पसंद किया था। इसके परिणामस्वरूप इंटरनेट ब्राउज़िंग के बाज़ार पर अपनी मज़बूत पकड़ बना पाने में मोज़िला को सफलता मिली। विशेष रूप से मोज़िला को वेब-ब्राउज़िंग में 'टैब" अवधारणा की शुरुआत करने का श्रेय दिया जाता है।

फायरफॉक्स ब्राउज़र के अनेक सफल संस्करणों को बाज़ार में प्रस्तुत करने के बाद मोज़िला अब मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम के बाज़ार में ऐपल व माइक्रोसॉफ्ट जैसे दिग्गजों को चुनौती देने की तैयारी में है। अब यह खबर बाहर आ चुकी है कि मोज़िला में इस समय 'बूट टू गेक्को' (बीटूजी) नामक प्रोजेक्ट पर कार्य चल रहा है। मोज़िला के अनुसार पूरी तरह वेब-आधारित इस मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम में किसी भी अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा दी जाने वाली सभी सुविधाएं मौजूद होंगी।

इस समय बाज़ार में ऐपल का 'आई ऑपरेटिंग सिस्टम" और विंडोज़ का 'फोन 7" मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टमों की दौड़ में सबसे आगे हैं। कहा जा रहा है कि इन दोनों ऑपरेटिंग सिस्टमों की कमियों का अध्ययन करने के बाद ही मोज़िला ने अपने नए ऑपरेटिंग सिस्टम को विकसित करने का कार्य शुरु किया है। इस दौरान मोज़िला के इंजीनियरों ने पाया है कि वेब-ऐप्लीकेशनों को रन करते समय इन दोनों ही ऑपरेटिंग सिस्टमों में अनेक समस्याएं आतीं हैं। इसीलिए मोज़िला ने ऐसे मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम पर कार्य करना शुरु किया है, जो वेब-ऐप्लीकेशनों को भी सपोर्ट कर सके। मोज़िला ने आशा व्यक्त की है कि यह बीटूजी ऑपरेटिंग सिस्टम का प्रयोग आगे चलकर कम्प्यूटर पर भी किया जा सकेगा।

फिलहाल इस ऑपरेटिंग सिस्टम का प्रयोग गूगल ऐन्ड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम वाले मोबाइल फोन मॉडलों पर ही किया जा सकेगा। मोज़िला के अनुसार मोबाइल सिस्टम के बाज़ार में मौजूदा कंपनियों के एकाधिकार को खत्म करने के उद्देश्य से ही इस ऑपरेटिंग सिस्टम को बाज़ार में उतारा जा रहा है।

Story first published:  Sunday, August 7, 2011, 11:49 [IST]
कमेंट लिखें

Please read our comments policy before posting

Click here to type in Hindi