सैमसंग ने लांच किया गैलेक्‍सी एस 4, क्‍या खास है नए एस 4 में ?

Posted by:

लंबे इंतजार के बाद सैमसंग ने अपना नया स्मार्ट फोन गैलेक्सी एस 4 लांच कर दिया है, एस 3 की रिकार्ड ब्रेकिंग ब्रिकी के बाद सैमसंग को एस 4 की ब्रिकी होने की अच्‍छी उम्‍मीद है। शुरुआत करते हैं एस 4 की डिजाइन से, सैमसंग एस 4 की डिजाइन को लेकर कई तरह की अफवाहे टेक जगत में की जा रहीं थी जैसे हो सकता है इस बार सैमसंग नए एस 4 की बॉडी में मेटल का प्रयोग करें या फिर इसका शेप एस 3 से काफी अलग होगा।

सैमसंग ने लांच किया गैलेक्‍सी एस 4, क्‍या खास है नए एस 4 में ?

एस 4 की बॉडी पॉलीकार्बोनेट की बनी हुई है जो इसके भार को कम करती है। फोन में दी गई 5 इंच की सुपर एमोल्‍ड स्‍क्रीन 1080 पिक्‍सल सपोर्ट करती है यानी 441 पिक्‍सल पर इंच, स्‍क्रीन की सबसे खास बात है इसे किसी तरह से ऑपरेट किया जा सकता है अक्‍सर सर्दियों में हम हाथों में दस्‍ताने पहने रहते हैं ऐसे में टच स्‍क्रीन फोन ऑपरेट करने में दिक्‍कत होती है लेकिन एस 4 की स्‍क्रीन दस्‍ताने पहन कर भी आपरेट की जा सकती है।

पढ़ें: सैमसंग गैलेक्‍सी एस 4 कांसेप्‍ट स्‍मार्टफोन

एस 4 अंतराष्‍ट्रीय बाजार में 8 कोर एक्‍सनॉस ऑक्‍टा 5 सीपीयू के साथ पेश किया गया है जो 1.9 गीगाीहर्ट की स्‍पीड से रन करता है। जैसा की अंदाजा लगाया जा रहा था सैमसंग एस 4 में 4.2.2 जैली बीन का सबसे लेटेस्‍ट अपग्रेड वर्जन दिया गया है, साथ में 2 जीबी रैम और 16 जीबी /32 जीबी /64 जीबी मैमोरी ऑप्‍शन मौजूद हैं।

ज्‍यादा देर तक बैटरी बैकप के लिए एस 4 में 2,600 एमएएच की बैटरी दी गई है। कनेक्‍टीविटी फीचरों में नजर डालें तो एस 4 में सभी कनेक्‍टीविटी फीचर अपग्रेड किए गए हैं। जैसे एनएफसी, 4.0 ब्‍लूटूथ, आईआर ब्‍लास्‍टर के साथ वाईफाई सपोर्ट । सैमसंग ने यूएस के एस 4 वर्जन में स्‍नैपड्रैगन 600 प्रोसेसर प्रयोग किया है।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए क करें हिन्दी गिज़बोट फेसबुक पेज
Please Wait while comments are loading...
जीएसटी का इंतजार हुआ खत्म, वित्त सचिव शक्तिकांत दास ने कहा 1 जुलाई से हो जाएगा लागू
जीएसटी का इंतजार हुआ खत्म, वित्त सचिव शक्तिकांत दास ने कहा 1 जुलाई से हो जाएगा लागू
प्राइम मेंबरशिप के तहत एक नहीं कई प्लान ला रहा है रिलायंस जियो, ये रही पूरी लिस्ट
प्राइम मेंबरशिप के तहत एक नहीं कई प्लान ला रहा है रिलायंस जियो, ये रही पूरी लिस्ट
Opinion Poll

Social Counting