टेलिकॉम इंडस्‍ट्री के लिए कुछ खास नहीं रहा 2013

Posted by:

भारत 2013 में 90 करोड़ टेलीफोन कनेक्शन के साथ दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा दूरसंचार बाजार बना रहा , लेकिन अगली पीढ़ी की सेवा को अपनाने की दिशा में कुछ अधिक ग्रोथ नहीं हुई। राष्ट्रीय दूरसंचार नीति (एनटीपी) 2012 के जारी होने से सरकार को हालांकि आगे की दिशा मिल गई, लेकिन 2008 में स्पेक्ट्रम बिक्री से संबंधित मामलों के कारण फैसला लेने की प्रक्रिया की रफतार काफी धीमी रही। सरकार ने हालांकि अधिग्रहण और विलय नीति जारी करने और इस क्षेत्र में 100 फीसदी विदेशी निवेश को अनुमति देने जैसे कुछ महत्वपूर्ण कदम उठाए।

पढ़ें: एंड्रायड स्‍मार्टफोन में कैसे सेट करें वॉलपेपर

टेलिकॉम इंडस्‍ट्री के लिए कुछ खास नहीं रहा 2013

सेल्युलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीओएआई) के महानिदेशक राजन एस मैथ्यूज ने कहा, 2013 की शुरुआत एनटीपी 2012 जारी करने से हुई, जिससे क्षेत्र में स्थिरता कायम हो सकती है। उधर दूरसंचार परामर्श कंपनी कॉम फर्स्ट के निदेशक महेश उप्पल ने हालांकि कहा, एनटीपी 2012 लागू करना एक सकारात्मक कदम है, लेकिन इसका तत्काल प्रभाव अधिक नहीं होगा। उप्पल के अनुसार 2जी और 3जी पर मौजूदा विवाद का अधिक संबंध नीति से नहीं है, बल्कि प्रक्रिया से है। क्षेत्र के कारोबारी हालांकि नई अधिग्रहण और विलय नीति से उत्साहित हैं।

पढ़ें: अपना एंड्रायड फोन कैसे करें रीसेट?

टेलिकॉम इंडस्‍ट्री के लिए कुछ खास नहीं रहा 2013

उप्पल का मानना है कि इससे मध्यम आकार की कंपनियों को फायदा मिलेगा और बड़ी कंपनियों को अधिक विकल्प मिलेंगे। गार्टनर के प्रमुख शोध विश्लेषक ऋषि तेजपाल ने कहा, अधिग्रहण और विलय नीति का गहरा प्रभाव होगा। एक बार बाजार में स्थिरता आ जाए, तो यह अपना असर दिखाने लगेगा। 100 फीसदी विदेशी निवेश से हालांकि विश्लेषकों को अधिक उम्मीद नहीं है। वोडाफोन के अलावा कम ही कंपनियां अधिक उत्सुक हैं। वोडाफोन अपनी हिस्सेदारी 64.38 फीसदी से बढ़ाना चाहती है। इस क्षेत्र के लिए निवेश एक प्राथमिकता है, लेकिन विदेशी निवेश नहीं। केपीएमजी के साझेदार जयदीप घोष ने कहा, कंपनियों ने ग्राहकों की गुणवत्ता पर ध्यान देना शुरू कर दिया है और मोटा डीलर कमिशन तथा प्रमोशनल मिनट देना छोड़ दिया है।

पढ़ें: सैमसंग की स्‍मार्टफोन डील

2008 के बाद पहली बार कॉल दर बढ़ी है। उन्होंने कहा कि डाटा ग्राहकों की संख्या बढ़ाने के लिए कंपनियों ने 3जी किराया 75-80 फीसदी तक घटाते हुए 2जी के समकक्ष कर दिया है। 2012 के दिसंबर के आखिर में मोबाइल ग्राहकों की संख्या 86.472 करोड़ थी और बुनियादी तार वाले टेलीफोन कनेक्शन की संख्या 3.079 करोड़ थी। इस तरह वॉयरलेस और लैंडलाइन वाले कुल टेलीफोन कनेक्शन की संख्या 89.551 करोड़ थी।

टेलिकॉम इंडस्‍ट्री के लिए कुछ खास नहीं रहा 2013

इस साल अक्टूबर के आखिर तक मोबाइल ग्राहकों की संख्या बढ़कर 87.548 करोड़, लैंडलाइन बुनियादी टेलीफोन कनेक्शन की संख्या घटकर 2.908 करोड़ हो गई और लैंडलाइन तथा वॉयरलैस सभी तरह के टेलीफोन कनेक्शन की कुल संख्या बढ़कर 90.456 करोड़ हो गई। विश्लेषकों के मुताबिक तरंगों की नीलामी में अपेक्षा के अनुरूप प्रगति नहीं हो पाई। उनके मुताबिक अत्यधिक ऊंचे रिजर्व मूल्य के कारण मार्च में तरंगों की नीलामी से कोई लाभ नहीं मिला। अब सभी की निगाहें अगले वर्ष 23 जनवरी से शुरू होने वाली स्पेक्ट्रम की अगले दौर की नीलामी पर टिकी हुई है। सरकार के मुताबिक उसने इस वर्ष रिजर्व मूल्य पहले से कम रखा है और इस नीलामी से करीब 65 करोड़ डॉलर का राजस्व हासिल होगा।

2013 में क्‍या हुआ
राष्ट्रीय दूरसंचार नीति-2012 जारी
दूरसंचार क्षेत्र में 100 फीसदी विदेशी हिस्सेदारी को अनुमति
वोडाफोन ने भारतीय साझेदार की पूरी हिस्सेदारी खरीदने में रुचि दिखाई
अधिग्रहण और विलय नीति मंजूर
टेलीकॉम टॉवर कारोबार को अधोसंरचना का दर्जा
प्रौद्योगिकी के संदर्भ में एकीकृत दूरसंचार लाइसेंस को मंजूरी
कुल टेलीफोन कनेक्शन अक्टूबर अंत तक 90.456 करोड़।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए क करें हिन्दी गिज़बोट फेसबुक पेज
Please Wait while comments are loading...
उत्तर प्रदेश चुनाव 2017: भाजपा ने जारी की उम्मीदवारों की पहली लिस्ट
उत्तर प्रदेश चुनाव 2017: भाजपा ने जारी की उम्मीदवारों की पहली लिस्ट
 435 किलो का पाकिस्तानी हल्क हाथ से रोकता है ट्रैक्टर, खाता है 36 अंडे, देखें VIDEO
435 किलो का पाकिस्तानी हल्क हाथ से रोकता है ट्रैक्टर, खाता है 36 अंडे, देखें VIDEO
Opinion Poll

Social Counting