ये कंपनी जानबूझ कर हैक करती है बैंको की साइट

जैसे-जैसे देश कैशलेस की राह में बढ़ रहा है वैसे ही ऑनलाइन सिक्‍योरिटी से जुड़ी ढेरों खबरें अखबारों और न्‍यूज़ चैनलों की सुर्खियां बन रही हैं।

Written By:

जैसे-जैसे देश कैशलेस की राह में बढ़ रहा है वैसे ही ऑनलाइन सिक्‍योरिटी से जुड़ी ढेरों खबरें अखबारों और न्‍यूज़ चैनलों की सुर्खियां बन रही हैं। देश की सरकारी वेबसाइट्स कितनी सुरक्षित है इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि कैसे कुछ हैकर्स मिलकर बैंक की साइट को हैक कर लेते हैं।

पढ़ें: फोन से डिलीट हो चुकी फोटो कैसे वापस पाएं ?

ये कंपनी जानबूझ कर हैक करती है बैंको की साइट

लेकिन ये हैकिंग जानबूझ कर कराई गई थी ताकि ये पता लगाया जा सके कि बैंक की ऑनलाइन व्‍यवस्‍था कितनी सुरक्षित है। गुरुग्राम में बग्सबाउंटी नाम की कंपनी में काम कर रहे हैकर्स बैंक की सिक्‍योरिटी को चेक करने का काम करते है।

पढ़ें: 251 रुपए में स्‍मार्टफोन देने का किया था वादा, अब खुद ही छोड़ दी कंपनी

कंपनी के संस्‍थापक अंकुश जौहरी के अनुसार कंपनियां हमें अपनी साइटों को जानबूझ हैक करने को कहती है ताकि ये बात पुख्‍ता की जा सके के उनकी साइट हैकरों के हमले से सुरक्षित है।

ये कंपनी जानबूझ कर हैक करती है बैंको की साइट

अक्‍सर हैकर साइट को हैक करने के लिए किसी रिक्‍वेस्‍ट का इंतजार नहीं करते बस वे मौका मिलते ही साइट को हैक कर डेटा चुरा लेते हैं। कंपनी में काम करने वाले एक सदस्‍य का कहना है जो भी व्‍यक्ति बैंक की साइट में जाकर जिस चीज की रिक्‍वेस्‍ट करता है वो राउटर के माध्‍यम से हम तक पहुंच जाता है यानी सीधे श्‍ब्‍दों में कहें तो उसकी बैंक आइडी, पासवर्ड की जानकारी हमें मिल जाती है हालाकि हमारा मकसद उनका गलत प्रयोग करना नहीं है।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए क करें हिन्दी गिज़बोट फेसबुक पेज
English summary
The setting at this Gurugram office building basement could resemble a cool startup software company, complete with bean bags, bright furniture and Red Bulls instead of coffee.
Please Wait while comments are loading...
रिलायंस जियो को टक्कर देने के लिए एयरटेल ने उठाया बड़ा कदम
रिलायंस जियो को टक्कर देने के लिए एयरटेल ने उठाया बड़ा कदम
रिश्ता शर्मसार, चाचा ने छह साल की भतीजी को बनाया हवस का शिकार
रिश्ता शर्मसार, चाचा ने छह साल की भतीजी को बनाया हवस का शिकार
Opinion Poll

Social Counting