आकाशवाणी ने शुरु की मुफ्त समाचार एसएमएस सेवा

Posted by:

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को आकाशवाणी के समाचार सेवा प्रभाग की मुफ्त समाचार एसएमएस सेवा का उद्घाटन किया। एसएमएस सेवा चार भारतीय भाषाओं असमी, गुजराती, तमिल और मलयालम में शुरू की गई है। इस मौके पर जावड़ेकर ने कहा कि सरकार ने विविध मीडिया मंचों के जरिए लोगों तक पहुंचने के लिए नवीन दृष्टिकोण अपनाया है।

पढ़ें: क्‍या आप जानते हैं सबसे पहला मैसेज कब भेजा गया था ?

उन्होंने कहा कि सरकार का प्रयास है कि लोगों की संचार जरूरतों को पूरा करते हुए समाज के विभिन्न वर्गो के साथ संवाद स्थापित किया जाए और युवाओं की आकांक्षाओं को पूरा किया जाए।

जावड़ेकर ने कहा कि आकाशवाणी की एसएमएस सेवा का लक्ष्य एक भाषा में जनता तक तत्काल समझने योग्य जानकारी पहुंचाना है। जावड़ेकर ने कहा कि मोबाइल फोन समाज के सभी वर्गो को अधिकार संपन्न बनाने के साधन के रूप में कार्य कर रहे हैं।

पढ़ें: स्‍मार्टफोन कांसेप्‍ट जो दिखाएंगे भविष्‍य की राह

आकाशवाणी ने शुरु की मुफ्त समाचार एसएमएस सेवा

उन्होंने कहा कि लोगों तक पहुंच और संपर्क बनाने की बात को ध्यान में रखते हुए आकाशवाणी समाज के विभिन्न वर्गों के लिए विशिष्ट रूप से निर्मित समाचार और संबद्ध जानकारियां तैयार करने के बारे में विचार कर सकता है।

इससे पहले आकाशवाणी ने पिछले वर्ष नौ सितम्बर को अंग्रेजी में और 19 सितम्बर 2014 को पांच अन्य भाषाओं- हिंदी, मराठी, डोगरी, संस्कृत और नेपाली में मोबाइल सेटों पर मुफ्त समाचार सेवा शुरू की थी। अब तक इस सेवा का लाभ उठाने वालों की संख्या तीन लाख से ऊपर पहुंच चुकी है।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए क करें हिन्दी गिज़बोट फेसबुक पेज
English summary
Noting that mobile phones acted as a tool of empowerment to all sections of society, Information and Broadcasting Minister Prakash Javadekar has suggested that All India Radio could consider a customised news and related information to varied sections of the society.
Please Wait while comments are loading...
बूचड़खानों पर 'योगी एक्शन' को लेकर आजम खान का बड़ा बयान
बूचड़खानों पर 'योगी एक्शन' को लेकर आजम खान का बड़ा बयान
योगी इफेक्ट: पांच साल से अधूरी सड़क आदेश के बाद रातों रात बनकर हो गई तैयार
योगी इफेक्ट: पांच साल से अधूरी सड़क आदेश के बाद रातों रात बनकर हो गई तैयार
Opinion Poll

Social Counting