अब ट्रेन निकलने से आधे घंटे पहले तक बुक करा पाएंगे टिकेट..!

Posted by:

इंसान को कभी भी, कहीं भी यात्रा करनी पढ़ सकती है। कब, कहाँ से किसका बुलावा आ जाए कोई नहीं जानता। ऐसी आपातकालीन स्थिति में ट्रेन आदि में टिकेट बुक करना भी एक बढ़ा टास्क है। लेकिन अब आईआरसीटीसी न यात्रियों की इस समस्या का समाधान भी कर दिया है। अब यात्री आईआरसीटीसी की वेबसाइट से 30 मिनट पहले तक train टिकेट बुक करा पाएंगे।

स्पेस टेक्नोलॉजी में सबसे एडवांस्ड देशों में है भारत, जानिए और कौन से देश हैं एडवांस

अब ट्रेन निकलने से आधे घंटे पहले तक बुक करा पाएंगे टिकेट..!

रेलवे एक अधिकारी के अनुसार भारतीय रेलवे विभाग ने यात्रियों की सुविधा के लिए गए इस फैसले को लेकर अपने रिज़र्वेशन चार्ट सिस्टम में भी बदलाव किया है। अब यह चार्ट दो बार बनाया जाएगा। पहला चार्ट ट्रेन खुलने से चार घंटे पहले बनेगा जबकि दूसरा व फाइनल चार्ट 30 मिनट पहले बनेगा।

ये गैजेट्स दिलाएंगे आपको फ्यूचर का एहसास..!

रेलवे के इस नए नियम के मुताबिक, पहला चार्ट बन जाने के बाद सीट उपलब्ध रहने पर इनकी बुकिंग काउंटर के अलावा आईआरसीटीसी की वेबसाइट से भी कराई जा सकेगी। साथ ही रेलवे विभाग ने चार्ट बनाने वाले विभाग को निर्देश दिया है कि 12 नवंबर से ट्रेन खुलने से चार घंटे पहले रिज़र्वेशन चार्ट बन जाना चाहिए।

अब ट्रेन निकलने से आधे घंटे पहले तक बुक करा पाएंगे टिकेट..!

दिवाली से पहले लॉन्च हुए ये टॉप 10 बजट स्मार्टफोन!

रेलवे अधिकारी ने कहा कि इस फैसले से पैसेंजर को रिज़र्वेशन चार्ट बनने के बाद भी ऑनलाइन बुकिंग करने की सुविधा मिलेगी। फाइनल चार्ट ट्रेन खुलने से 30 मिनट पहले बनेगा जिसे ट्रेन पर मौजूद रहने वाले टिकट जांचकर्ता को उपलब्ध कराया जाएगा।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए क करें हिन्दी गिज़बोट फेसबुक पेज
English summary
Indian railway catering and tourism corporation has released a new plan. Now it lets the users book the ticket just 30 minutes before train departure.
Please Wait while comments are loading...
एक शख्‍स ने करण जौहर को कहा नपुंसक तो मिला करारा जवाब
एक शख्‍स ने करण जौहर को कहा नपुंसक तो मिला करारा जवाब
बेहद बोल्ड हैं जहीर की होने वाली पत्नी सागरिका, तस्वीरों में कैद उनके दिलकश अंदाज
बेहद बोल्ड हैं जहीर की होने वाली पत्नी सागरिका, तस्वीरों में कैद उनके दिलकश अंदाज
Opinion Poll

Social Counting