कंप्यूटर माउस के जनक डगलस का निधन

Posted by:

अपनी उंगलियों में कंप्‍यूटर की स्‍क्रीन को नचाने वाले माउस के अविष्‍कारक डग एंजेलबर्ट की 88 वर्ष में मौत हो गई है। 1960 में एंजेलबर्ट में माउस का अविष्‍कार किया था, उस समय माउस को बनाने में लकड़ी का प्रयोग किया गया था साथ ही ट्रैक बॉल की जगह लकड़ी के माउस में दो पहिए लगे हुए थे।

डग एंजेलबर्ट का जन्‍म 30 जनवरी 1925 को ओरेगन के पास पोर्टलैंड में हुआ था उनके पिता रेडियो मैकैनिक और मां गृहणी थीं। अगर उनकी पढ़ाई पर नजर डालें तो उन्‍होंने ओरेगन राजकीय विश्वविद्यालय से इलेक्‍ट्रिकल इंजीनियरिंग की डिग्री लेने के बाद दूसरे विश्व युद्ध में राडार टेक्‍नीशियन के रूप में काम किया। इसके बाद वे नासाा की संस्‍था नाका में इलेक्‍ट्रिकल इंजीकनयर के पद पर काम करने लगे। लेकिन बाद में उन्‍होंने और आगे पढने की ठानी और इसके लिए वे बर्कले स्‍कित कैलीफोनिया विश्वविद्यालय में पढ़ाई की।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

Douglas Engelbart

Douglas Engelbart

Douglas Engelbart

Douglas Engelbart

Douglas Engelbart

Douglas Engelbart

Douglas Engelbart


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

जिस समय एंजेलबर्ट ने माउस का अविष्‍कार किया उस समय माउस बड़े बड़े कमरों के बराबर कंप्‍यूटर होते थे, 1986 में उन्‍होंने सैन फ्रांसिसको अपने द्वारा बनाए गए माउस का पहली बार पदर्शन किया, लेकिन उनसे इस अविष्‍कार से वे अपनी आर्थिक स्‍थति ज्‍यादा नहीं सुधार पाए क्‍योंकि 1987 में उनके माउस का पेटेंट खत्‍म हो गया। एसआरआई ने 1883 में 40,000 अमरीकी डॉलर में इस तकनीक का लाइसेंस एपल को दे दिया

Please Wait while comments are loading...
चीनी मीडिया की धमकी,कहा-लड़ाई हुई तो 10 घंटे में दिल्ली पहुंच जाएगी सेना, मिला जवाब
चीनी मीडिया की धमकी,कहा-लड़ाई हुई तो 10 घंटे में दिल्ली पहुंच जाएगी सेना, मिला जवाब
कोलकाता के शाही इमाम बोले, शॉर्ट पेंट और हल्की सी गंजी पहनना लड़कियों के लिए ठीक नहीं
कोलकाता के शाही इमाम बोले, शॉर्ट पेंट और हल्की सी गंजी पहनना लड़कियों के लिए ठीक नहीं
Opinion Poll

Social Counting