फेसबुक ने खरीदी पहली भारतीय कंपनी लिटिल आई

Written By:

भारतीयों का लोहा पूरी दुनिया में माना जाता है, फिर वो चाहे माइक्रोसॉफ्ट हो या आईबीएस जैसी कोई दूसरी कंपनियां। फेसबुक ने भी भारतीयों की काबलियत के चलते हैं बेंगलुरु बेस पहली भारतीय कंपनी लिटिल आई का अधिग्रहण किया है। लिटिल आई लैब्‍स एंड्रायड एप्‍लीकेशनों को और बेहतर बनाने का काम करती है।

पढ़ें: मोबाइल फोन से होने वाले फायदे और नुकसान ?

कंपनी के अपनी वेबसाइट http://www.littleeye.co/ में इस बात की पुष्‍टी करते हुए लिखा है Little Eye Labs is joining Facebook. Read More. फेसबुक की तरफ से सुब्‍बु सुब्रमणियम का कहना है ऐसा पहली बार हुआ है जब फेसबुक ने किसी भारतीय कंपनी का अधिग्रहण किया है, लिटिल आई की मदद से फेसबुक को अपनी एप्‍लीकेशनें सुधारने में काफी मदद मिलेगी।

पढ़ें: 6 आदतें जो आपकी बैटरी को रखेंगी सुरक्षित

फेसबुक ने खरीदी पहली भारतीय कंपनी लिटिल आई

पढ़ें: इन 10 तरीकों से खोजें अपना खोया हुआ फोन

लिटिल आई लैब्‍स के सीईओ गिरधर मूर्ति इस डील को लेकर काफी उत्‍साहित है। लिटिल आई की टीम जल्‍द कैलिफोर्निया के मेनलो पार्क स्थित फेसबुक हेडक्‍वार्टर जाएगी जहां पर फेसबुक एप्‍लीकेशन को बेहतर बनाने का काम करेगी।

लिटिल आई लैब को 2012 में बेंगलूर के गिरिधर मूर्ति, कुमार रंगराजन, सत्यम कुंडुला तथा लक्ष्मण काकीराला ने मिलकर खोला था। रंगराजन के अनुसार हमारे बिजनेस को बढ़ाने में जीएसएफ और वेंचरईस्‍ट ने काफी मदद की इनकी वजह से हमें ग्‍लोबल प्‍लेटफार्म मिला जहां से हमें फेसबुक जैसी कंपनी ने आगे आने का मौका दिया।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए क करें हिन्दी गिज़बोट फेसबुक पेज
Please Wait while comments are loading...
बूचड़खानों पर 'योगी एक्शन' को लेकर आजम खान का बड़ा बयान
बूचड़खानों पर 'योगी एक्शन' को लेकर आजम खान का बड़ा बयान
योगी इफेक्ट: पांच साल से अधूरी सड़क आदेश के बाद रातों रात बनकर हो गई तैयार
योगी इफेक्ट: पांच साल से अधूरी सड़क आदेश के बाद रातों रात बनकर हो गई तैयार
Opinion Poll

Social Counting