गूगल डूडल आज इस खास हस्ती के नाम, क्या जानते हैं आप इन्हें?

गूगल डूडल पर आज बेहद खास हस्ती का जन्मदिन मनाया गया है। ये अमेरिका की एक लेखिका हैं।

Written By:

गूगल ने मशहूर उपन्यास 'लिटिल वुमन' की लेखिका 'लूइसा मे एलकॉट' को उनकी 184 वीं जयंती पर डूडल के जरिए श्रद्धांजलि दी। गूगल ने अपने डूडल में 'लिटिल वुमन' के पात्रों मेग, जो, बेथ, एमी, और जो की दोस्त और पड़ोसी लॉरी को दर्शाया है।

एटीएम से रुपए निकालने वालों के लिए चौंकाने वाली खबर!

एलकॉट 'लिटिल वुमन', 'लिटिल मेन', 'जैक एंड जिल : अ विलेज स्टोरी' और 'एन ओल्ड फैशन्ड गर्ल' जैसे उपन्यास लिखे हैं।

गूगल डूडल आज इस खास हस्ती के नाम, क्या जानते हैं आप इन्हें?

यह उपन्यास बच्चों के बीच काफी लोकप्रिय है और 1949 व 1994 में इस पर फिल्में भी बनी हैं। एलकॉट का जन्म 29 नवंबर 1832 को न्यूयॉर्क में हुआ था। एलकॉट के माता-पिता शिक्षक थे। उनके पिता एमोस ब्रान्सन एलकॉट ट्रांसडेंटल दर्शन के प्रचारक भी थे। ब्रान्सन राल्फ वाल्डो एमर्सन और हेनरी डेविड थोरो के सहयोगी थे। एलकॉट के पालन-पोषण पर ट्रांसडेंटल दर्शन का काफी प्रभाव पड़ा था। एलकॉट अपनी चार बहनों में दूसरे नंबर पर थीं।

बिना बताए स्क्रीनशॉट लेने की आदत छोड़ दीजिए, खुल जाएगी पोल

गूगल डूडल आज इस खास हस्ती के नाम, क्या जानते हैं आप इन्हें?

परिवार की खराब आर्थिक हालात के कारण उन्हें कम उम्र से ही टीचर, दर्जी, आया और घरेलू सहायक इत्यादि की नौकरियां करनी पड़ी थीं। उनके लेखन की शुरुआत साहित्यिक पत्र-पत्रकिाओं से हुई। लेकिन जब उन्होंने अपने बचपन के अनुभवों को आधार बनाकर बाल उपन्यास लिटिल वुमन लिखा तो रातों रात उनकी पहचान एक लेखिका के तौर पर स्थापित हो गई। लिटिल वुमन की मुख्य नायिका 'जो' एलकॉट का ही प्रतिरूप थी। गूगल के डूडल में भी 'जो' के हाथ में कागज का पुलिंदा है जिसमें से कुछ कागज बाहर फिसर चुके हैं। एलकॉट का 1888 में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था।

नए स्मार्टफोन की बेस्ट ऑनलाइन डील्स के लिए यहाँ क्लिक करें


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज


Read more about:
English summary
Google Celebrates Louisa May Alcott's 184th birthday with a beautiful Doodle Hindi news. Read more hindi.
Please Wait while comments are loading...
आरबीआई के ऐलान से पहले ही बैंक ऑफ बड़ौदा ने दिया अपने ग्राहकों को तोहफा
आरबीआई के ऐलान से पहले ही बैंक ऑफ बड़ौदा ने दिया अपने ग्राहकों को तोहफा
दो साल के बेटे को रोज घंटो रेत में दबाती है मां, वजह रुला देने वाली
दो साल के बेटे को रोज घंटो रेत में दबाती है मां, वजह रुला देने वाली
Opinion Poll

Social Counting