आपने देखा रावण का यह डिजिटल अवतार!

दशहरा प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी आया और चला गया। हमने परंपरा को निभाते हुए बुराई पर अच्छाई की विजय का जश्न मनाते हुए रावण के पुतले का दहन किया। कभी आपने विचार किया है कि आज के युग में भी हम रावण को याद रखे हुए हैं लेकिन यदि रावण सचमुच आज के आधुनिक समय में होता तो कैसा होता, कितना हाईटेक होता, उसके अस्त्र-शस्त्र कैसे होते, वह किन-किन शक्तियों से लैस होता।

मिज़ू ने लॉन्च किया अपना स्टाइलिश और आकर्षक मिज़ू मेटल

चूंकि जिस प्रकार आज आधुनिक डिवाइस, हार्डवेयर, साफ्टवेयर हमारे जीवन का अंग बन चुके हैं ठीक उसी प्रकार यह रावण के लिए भी बहुत जरूरी होते। हमारा तो एक सिर है उस दशानन के दस सिर थे। किन-किन गैजेट्स के उपयोग के लिए कौन-कौन से सिर का इस्तेमाल करता। लेकिन इस बारे में भी विचार करना जरूरी है कि क्या आपको नहीं लगता है कि आज हम आधुनिक तकनीक के युग में ऐसे खो गए हैं कि अपने परिवार, दोस्त, रिश्तेदार यहां तक कि परिवार के सदस्यों से भी कटते जा रहे हैं।

भारतीय डाक विभाग दे रहा है ये मुफ्त फोन

यह ठीक है कि आधुनिक तकनीक से हम दूर बैठे अपने प्रियजनों से जुड़े हैं लेकिन पास बैठे परिवारजन एवं पड़ोसी से कटे भी हैं। खैर, हमारा उद्देश्य यहां इस बात की चर्चा करना नहीं है। हम यहां कल्पना करना चाहते हैं कि आज के हाइटैक रावण की जिसके बारे में शायद ही आपने कभी सोचा होगा लेकिन हमने विचार किया और इस संबंध में कुछ बिंदु निकलकर आएं। इनको हम आपसे साझा कर रहे हैं।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

डिजिटल रावण

आज आधुनिक तकनीक ने मनुष्य के लिए सबसे जरूरी मोबाइल बना दिया है। इसके बिना कुछ अधूरापन-सा महसूस होता है तो निश्चित रूप से रावण के लिए भी स्मार्टफोन एक प्रमुख जरूरत बन जाती।

डिजिटल रावण

आज हम ही ऑनलाइन शाॅपिग के मायाजाल से नहीं छूट पाते। कभी कोई साइट छूट देती है तो कभी कोई ‘‘बिग बिलियन डेज'की घोषणा करती है तो ऐसे में हम न चाहते हुए भी खरीदारी कर ही लेते हैं। इसमें रावण भी पीछे न रहता और वह भी अपने कपड़ों, गैजेट्स, ज्वैलरी, जूतों आदि की ऑनलाइन शॉपिंग करता।

डिजिटल रावण

आज के आधुनिक युग में ऑफिस का काम हो या सरकारी काम सभी के लिए ईमेल का प्रयोग होता है। ऐसे में रावण भी अपने राजपाठ के संचालन, सूचनाओं के आदान-प्रदान एवं आदेशों के निवर्हन के लिए अपने स्मार्टफोन पर ईमेल का बहुत उपयोग करता।

डिजिटल रावण

हम अपने गैजेट्स से लगातार दूसरों से कनेक्ट रहने के लिए इंटरनेट (2जी, 3जी व 4जी), ब्लूटूथ, वाईफाई, हाॅटस्पाॅट, एनएफसी आदि का इस्तेमाल करते हैं। इसी प्रकार रावण भी हाइटैक रहने के लिए इनका उपयोग जरूर करता।

डिजिटल रावण

आज हमने गैजेट्स तो अपनाएं परंतु उसपर हैकर्स व साइबर अपराध का शिंकजा भी कसता गया। ऐसे में हमने पासवर्ड आदि सुरक्षात्मक उपयोग शुरू कर दिए। रावण द्वारा भी इन डिवाइसों में पासवर्ड का उपयोग किया जाता व उन्हें याद रखा जाता ताकि पासवर्ड का सही मैनेजमेंट हो सके।

डिजिटल रावण

 आधुनिक युग में हम अपने आपको ऐप एवं गैजेट के उपयोग से फिट रखते हैं। ठीक उसी प्रकार महापंडित, तपस्वी व शास्त्रों का ज्ञाता रावण भी अपने आपको लंबी आयु एवं फिटनेस के लिए इन आधुनिक गैजेट्स का उपयोग करता।

डिजिटल रावण

आज हमारी नजर भी बाजार में आने वाले नए गैजेट्स एवं आधुनिक तकनीकों पर रहती है ताकि हम अपने आपको अपग्रेड कर सकें। इसी प्रकार रावण भी नए गैजेट्स एवं आधुनिक तकनीकों को अपनाकर अपने डिवाइसों को अपग्रेड करता रहता।

डिजिटल रावण

आज जब हम उब जाते हैं या थक जाते हैं तो फ्रैश होने के लिए गेम्स एवं ऐप्स का सहारा लेते हैं। ऐसे ही रावण भी पुराने समय के संगीत और नृत्य की जगह अपने स्मार्टफोन में गेम्स खेलता और ऐप्स डाउनलोड करता और फिर राजा तो राजा होता हैं न काम करवाता है, करता नहीं।

डिजिटल रावण

आज के युग में नेता से लेकर अभिनेता और इंजीनियर से लेकर डाॅक्टर्स सभी की सेल्फी के प्रति दीवानगी साफ दिखाई देती है। ऐसे में दशानन रावण, जोकि दस सिरों का स्वामी था, का सेल्फी के प्रति विशेष मोह होना स्वाभाविक है। साथ ही हमारे और आपके जैसे साधारण लोग भी दस सिरों वाले के साथ अपना सेल्फी लेकर बहुत खुश होते और सोशल मीडिया में भी शेयर करते।

डिजिटल रावण

आज के प्रमुख राजनीतिज्ञों की भांति ही रावण भी अपने स्मार्टफोन की मदद से सोशल मीडिया साइट्स जैसे फेसबुक, ट्विटर, वाट्सऐप, गूगल, हाइक आदि पर एक्टिव रहता ताकि उसे अपने शासनकाल की गतिविधियों की ऑनलाइन सूचना मिलती रहे।


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

English summary
Have you ever seen digital ravan. If no then today we will show you digital ravan. How he behaves, what he does and what hobbies he has. Everything is here.
Please Wait while comments are loading...
'योगीराज' में 'यादवराज' की 24 भर्तियों के साक्षात्कार पर रोक
'योगीराज' में 'यादवराज' की 24 भर्तियों के साक्षात्कार पर रोक
शहीदी दिवस: 1931 में आज ही के दिन दी गई थी भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरू को फांसी
शहीदी दिवस: 1931 में आज ही के दिन दी गई थी भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरू को फांसी
Opinion Poll

Social Counting