ये है बिना पंखुडि़यों वाला पंखा फिर भी देता है हवा ?

Posted by:

अक्‍टूबर 2009 को जेम्‍स डायसन नाम की कंज्‍यूमर इलेक्‍ट्रॉनिक कंपनी अपने वैक्‍यूम क्‍लिनर के लिए जानी जाती थी लेकिन उसी समय डायसोना ने बाजार में एक ऐसी डिवाइस उतारी जिसने हवा देने वाले पंखों की परिभाषा ही बदल दी।

जेम्‍स डायसोना ने पहली बार दुनिया का पहला ऐसा पंखा पेश किया जिसमें ब्‍लेड यानी हवा देने वाली पंखुडि़या ही नहीं लगी थी लेकिन फिर भी वो साधारण पंखे से तेज हवा दे सकता था। देखने में ये डिवाइस सर्किल यानी गोलाकार डिजाइन में है, इसमें कोइ बटन भी नहीं है बस जब भी हवा के लिए पंखा ऑन करना हो एक ट्यूब में से हवा का प्रवाह आपकी ओंर आने लगेगा।

<center><center><iframe width="100%" height="360" src="//www.youtube.com/embed/gChp0Cy33eY?feature=player_embedded" frameborder="0" allowfullscreen></iframe></center></center>

अब सबसे बड़ा सवाल ये उठता है जब पंखे में पंखुडि़या ही नहीं हैं तो हवा कहां से आती थी। इसके पीछे कई वैज्ञानिक कारण हैं सबसे पहला इस पंखे में दी गई ट्यूब में एक मोटर लगी हुई है जो ब्‍लेड की जगह पैडल को तेजी से घूमाती है और हवा को ट्यूब के अंदर खींचती है अब ट्यूब के अंदर हवा को बाहर जाने का रास्‍ता भी चाहिए जो ऊपर बने गोलाकार सर्किल से निकल जाती है। 

डायसोना ब्‍लेडलेस फैन

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

Dysona Bladeless Fan

डायसोना ब्‍लेडलेस फैन

Dysona Bladeless Fan

डायसोना ब्‍लेडलेस फैन

Dysona Bladeless Fan

डायसोना ब्‍लेडलेस फैन

Dysona Bladeless Fan

डायसोना ब्‍लेडलेस फैन

Dysona Bladeless Fan

डायसोना ब्‍लेडलेस फैन

Dysona Bladeless Fan

डायसोना ब्‍लेडलेस फैन

Dysona Bladeless Fan

डायसोना ब्‍लेडलेस फैन

Dysona Bladeless Fan

डायसोना ब्‍लेडलेस फैन


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

Please Wait while comments are loading...
तारा शाहदेव की सास कहती थी- धर्म बदल लो नहीं तो बिस्‍तर यही रहेगा, मर्द बदलते रहेंगे
तारा शाहदेव की सास कहती थी- धर्म बदल लो नहीं तो बिस्‍तर यही रहेगा, मर्द बदलते रहेंगे
क्या फिक्स था आईपीएल का फाइनल? मिल गए एक नहीं 10 'सबूत'
क्या फिक्स था आईपीएल का फाइनल? मिल गए एक नहीं 10 'सबूत'
Opinion Poll

Social Counting