ई-कॉमर्स बाजार में सबसे तेज रफ्तार है भारत की

भारतीय ई-कॉमर्स बाजार का आकार 2015 तक छह अरब डॉलर का हो जाएगा। यह 2014 के 3.5 अरब डॉलर के मुकाबले 70 फीसदी की वृद्धि है। यह जानकारी यहां गार्टनर इंक ने गुरुवार को दी। सर्वेक्षण कंपनी में शोध निदेशक प्रवीण सेंगर के मुताबिक देश में डिजिटल कॉमर्स अभी अपनी प्रारंभिक अवस्था में है। एशिया-प्रशांत क्षेत्र में हालांकि भारत सबसे तेजी से उभरता हुआ ई-कॉमर्स बाजार है।

पढ़ें: ये रहे भारत के मोस्‍ट सर्च स्‍मार्टफोन

भारत में अभी 3.5 अरब डॉलर का ई-कॉमर्स बाजार है, जो कि हर साल 60 से 70 फीसदी तक बढ़ रहा है। यह रिटेल बाजार का मात्र 4 फीसदी है। सेंगर ने कहा, समग्र ई-कॉमर्स बाजार में व्यापार से उपभोक्ता (बी टू सी) ई-कॉमर्स सबसे बड़ा है। 'व्यापार से व्यापार' (बी टू बी) ई-कॉमर्स केवल संस्थानों तक ही सीमित है। मोबाइल कॉमर्स का चलन भी काफी बढ़ रहा है।

पढ़ें: ये हैं दुनियां के बेहतरीन 20 ऑफिस

ई-कॉमर्स बाजार में सबसे तेज रफ्तार है भारत की

विभिन्न कंपनियां इस पर निवेश कर रहीं हैं। अभी कुल डिजिटल कॉमर्स का लगभग पांच प्रतिशत कारोबार मोबाइल द्वारा होता है। गार्डनर के मुताबिक, इंटरनेट का कम उपयोग, डिजिटल माध्यम से खरीदारी का आकार कम होना, सामानों की वापसी की अधिकता जैसे कारणों से बीटूसी मॉडल के ई-कामर्स के मुनाफे पर दबाव बना हुआ है।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए क करें हिन्दी गिज़बोट फेसबुक पेज
Please Wait while comments are loading...
12 शिवरात्रियों में से महाशिवरात्रि इतनी महत्वपूर्ण क्यों?
12 शिवरात्रियों में से महाशिवरात्रि इतनी महत्वपूर्ण क्यों?
पुणे टेस्ट मैच शुरू होते ही भारत ने तोड़ा पाकिस्तान का रिकॉर्ड
पुणे टेस्ट मैच शुरू होते ही भारत ने तोड़ा पाकिस्तान का रिकॉर्ड
Opinion Poll

Social Counting