गांवों तक सस्ता ब्रांडबेड पहुंचाएगी माइक्रोसाफ्ट

Written By:

हमारे देश भारत के महत्वाकांक्षी डिजिटल इंडिया कार्यक्रम में साझेदार बनने की इच्छा जताते हुए माइक्रोसॉफ्ट के पहले भारतीय मूल के सीईओ सत्य नडेला ने कहा है कि उनकी कंपनी कम लागत वाली ब्रॉडबैंड प्रौद्योगिकी भारत के पांच लाख गांवों तक पहुंचाएंगी। यानि डिजिटल इंडिया अभियान को देश के प्रत्येक कोने तक पहुंचाने में माइक्रोसॉफ्ट भी भारत के साथ मिलकर काम करेगा। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के सम्मान में दिए गए डिनर में उन्होंने बताया कि इसके लिए वह भारत सरकार के साथ मिलकर काम करेंगे। 

पढ़ें: सावधान इन 10 चीजों में छुपा हो सकता है कैमरा!

गांवों तक सस्ता ब्रांडबेड पहुंचाएगी माइक्रोसाफ्ट

उन्होंने आगे कहा कि सस्ती ब्रॉडबैंड तकनीक और उसके साथ क्लाउड कंप्यूटिंग इंटेलिजेंस को बढ़ावा देकर रचनात्मकता, कार्यकुशलता और उत्पादकता को बढ़ावा दिया जा सकता है। इससे सभी भारतीयों को खुद को साबित करने का मौका भी मिलेगा। इससे बाजार में सस्ते उत्पाद व सेवाएं मिलेंगी। अगले सप्ताह कंपनी भारत के डाॅटा सेंटरों से बाहर के क्षेत्र में काम कर रहीं क्लाउड सर्विस के बारे में जानकारी साझा करेंगे। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की सराहना करते हुए नडेला ने कहा कि उनका विजन व इसे आगे ले जाने के लिए उनका एजेंडा एकदम सही है। 

पढ़ें: iPhone की अजीबो गरीब एक्सेसरीज

नडेला ने माना कि मेक इन इंडिया व डिजिटल इंडिया का मुख्य उद्देश्य विश्वस्तरीय इंफ्रास्ट्रक्चर को भारत में लाना है। यह यहां की डिजिटल सुरक्षा, संप्रभुता और निजता को ध्यान में रखकर किया जा रहा है, जो कंपनी के लिए एक बड़ा कीर्तिमान है। भारत के पास विश्व स्तर के उद्यमी हैं और मानव पूंजी है।

Read more about:
English summary
At a dinner hosted in honor of Indian Prime Minister Narendra Modi’s visit to the US, Microsoft CEO Satya Nadella announced that the company wants to help bring internet access to 500,000 villages across India.
Please Wait while comments are loading...
 सचिनः अ बिलियन ड्रीम्स प्रीमियर: सबकी नजर तेंदुलकर पर और तेंदुलकर की नजर बेटी सारा पर, क्यों?
सचिनः अ बिलियन ड्रीम्स प्रीमियर: सबकी नजर तेंदुलकर पर और तेंदुलकर की नजर बेटी सारा पर, क्यों?
रेलवे ट्रैक के पास मृत पड़ी थी मां, भूखा बच्चा पीता रहा दूध
रेलवे ट्रैक के पास मृत पड़ी थी मां, भूखा बच्चा पीता रहा दूध
Opinion Poll

Social Counting