भारत और पाकिस्‍तानी के बीच छिड़ी साइबर जंग, 2000 वेबसाइटों को किया हैक

Posted by:

भारत और पाकिस्‍तान के बीच कैसे रिश्‍ते हैं ये पूरी दुनिया जानती है, इस हफ्ते भारत और पाकिस्‍तान के बीच साइबर जंग छिड़ी हुई है। दोनों देशों के हैकरों ने एक दूसरे की करीब 2000 से ज्‍यादा वेबसाइट हैक की गई हैं।

पढ़ें: कुछ ऐसा दिखता है वियना का माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस

गणतंत्र दिवस के मौके पर पाकिस्‍तानी हैकरों ने भारत की 2,118 वेबसाइटों को हैक किया जिसमें सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया और मॉडल पूनम पांडे की साइट शामिल है। वहीं भारत के साइबर ग्रुप रक्षक ने पाकिस्‍तान में 100 वेबसाइटों के होम पेज हैक किए। जबकि पाकिस्‍तानी हैकरों के टार्गेट में करीब 2600 वेबसाइटें थी लेकिन उनके से वे 2118 को हैक करने में ही कामयाब हो पाए।

पढ़ें: कभी देखी है फोटो खींचने की ऐसी टाइमिंग

पूनम पांड की वेबसाइट www.poonampandey.in को H4x0r और "Team Madleets" ने हैक किया था। साथ ही साइट पर मैसेज लिखा था कि पाकिस्‍तान जिंदाबाद, तुम्‍हारी साइट की सुरक्षा में खामी है। रिपोर्ट के अनुसार पॉकिस्‍तानी हैकरों के ग्रुप ने #OP26Jan नाम का एक ऑपरेशन शुरु किया था जिसमें कुछ बड़े हैकर ग्रुप्‍स ने मिलकर भारतीय साइटों को हैक किया।

पढ़ें: कैमरे से नहीं कंप्‍यूटर से बनाईं हैं ये तस्‍वीरें

भारत और पाकिस्‍तानी के बीच छिड़ी साइबर जंग

सूत्रों से मिली खबर के अनुसार भारतीय हैकरों के ग्रुप इंडियन साइबर रक्षक ने कहा है वे आगे भी पाकिस्‍तान की वेबसाइट को हैक करना जारी रखेंगे। बैंगलोर बेस्‍ड वेब सिक्‍योरिटी स्‍पेलिस्‍ट फर्म ग्‍लोबल साइबर सिक्‍योरिटी रिस्‍पांस टीम (GCSRT) का कहना है इंडियन एजेंसी जैसे साइबर क्राइम सेल भारतीय हैकरों पर नजर रख रही है साथ ही उनके खिलाफ कार्यवाही भी की जाएगी। जबकि सेट्रंल बैंक ऑफ इंडिया का कहना है मुसलिम हैकरों द्वारा साइट हैक करने के कुछ ही मिनटों बाद साइट काम करने लगी थी।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए क करें हिन्दी गिज़बोट फेसबुक पेज
Please Wait while comments are loading...
पुणे टेस्ट मैच शुरू होते ही भारत ने तोड़ा पाकिस्तान का रिकॉर्ड
पुणे टेस्ट मैच शुरू होते ही भारत ने तोड़ा पाकिस्तान का रिकॉर्ड
गर्भवती के पेट पर लात मार बच्चे की जान लेने के मामले में भाजपा नेता गिरफ्तार
गर्भवती के पेट पर लात मार बच्चे की जान लेने के मामले में भाजपा नेता गिरफ्तार
Opinion Poll

Social Counting