निष्क्रिय खातों के निपटारे के लिए ऑनलाइन हेल्पडेस्क

Written By:

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ने निष्क्रिय खातों के निपटारे के लिए एक ऑनलाइन सहायता शुरू की। श्रम मंत्रालय ने गुरुवार को एक बयान जारी कर यह जानकारी दी। इस संबंध में जारी किए गए बयान के मुताबिक, "इसका मुख्य उद्देश्य निष्क्रिय पड़े खाताधारकों को अपने खातों का पता लगाने तथा उनके निपटारे अथवा उनमें पड़ी राशि को उनके मौजूदा खातों में हस्तांतरित करने में मदद देना है।

पढ़ें: 8 जीबी इंटरनल मैमोरी के साथ ले आइए ये 10 बेस्‍ट एंड्रायड किटकैट स्‍मार्टफोन

मार्च 2014 से ईपीएफओ के निष्क्रिय खातों में 27,000 करोड़ रुपये की राशि बेकार पड़ी है। ईपीएफओ की वेबसाइट के जरिए इस ऑनलाइन हेल्पडेस्क पर आवश्यक जानकारियां दी जा सकती हैं। ग्राहकों द्वारा निष्क्रिय खातों की विस्तृत जानकारी देने के बाद उन्हें एक संदर्भ आईडी दी जाएगी।

निष्क्रिय खातों के निपटारे के लिए ऑनलाइन हेल्पडेस्क

मंत्रालय के मुताबिक, "इसी संदर्भ आईडी के आधार पर संबंधित क्षेत्रीय अधिकारी (जहां सदस्य का पीएफ खाता है) ईपीएफ सदस्य से सम्पर्क करेगा और उनके निष्क्रिय खाते के निपटारे अथवा उसमें पड़ी राशि को किसी और खाते में हस्तांतरित करने में उसका मार्गदर्शन करेगा।"

उन्होंने आगे कहा, "यूनिवर्सल खाता संख्या (यूएएन) की शुरूआत होने से उपर्युक्त योजना पूरी करने में काफी मदद मिलने की आशा है, क्योंकि यूएएन के जरिये पिछली अनेक पीएफ खाता संख्या को मौजूदा खाता संख्या के साथ जोड़ा जा सकता है।"

गौरतलब है कि पिछले साल अक्टूबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए दिशा-निर्देशों के मुताबिक हेल्पडेस्क की स्थापना की गई।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए क करें हिन्दी गिज़बोट फेसबुक पेज
English summary
Employees' Provident Fund Organisation has introduced an online helpdesk to help members trace out their "inoperative accounts".
Please Wait while comments are loading...
जीएसटी का इंतजार हुआ खत्म, वित्त सचिव शक्तिकांत दास ने कहा 1 जुलाई से हो जाएगा लागू
जीएसटी का इंतजार हुआ खत्म, वित्त सचिव शक्तिकांत दास ने कहा 1 जुलाई से हो जाएगा लागू
प्राइम मेंबरशिप के तहत एक नहीं कई प्लान ला रहा है रिलायंस जियो, ये रही पूरी लिस्ट
प्राइम मेंबरशिप के तहत एक नहीं कई प्लान ला रहा है रिलायंस जियो, ये रही पूरी लिस्ट
Opinion Poll

Social Counting