सैमसंग पे की भारत में लांचिंग जल्द

ई-वालेट के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए अब सैमसंग अपनी पेमेंट वालेट सर्विस भारत में लांच करने की तैयारी कर चुकी है। सैमसंग ने इसके लिए कई कार्ड सर्विस प्रोवाइडरो के साथ करार भी किया है।

Written By:

दक्षिण कोरियाई तकनीकी दिग्गज सैमसंग अपने मोबाइल पेमेंट वॉलेट को 2017 की पहली छमाही में भारतीय बाजार में पेश करने की योजना बना रही है। Mashable India की एक रिपोर्ट के मुताबिक, सैमसंग ने सैंमसंग पे को भारत में लाने के लिए अमेरिकन एक्सप्रेस से साझेदारी की है और वीजा और मास्टरकार्ड जैसे दिग्गजों के साथ भी बातचीत कर रही है।

पढ़ें: JPG फाइल को वर्ड फाइल में कन्वर्ट करने का सबसे आसान तरीका

सैमसंग पे की भारत में लांचिंग जल्द

देश में सैमसंग पे के लांच होने के बाद घरेलू ई-वॉलेट दिग्गजों को कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ेगा।

रपट में कहा गया है, "सैमसंग ने इस सेवा का दिसंबर 2016 से ही भारत में परीक्षण शुरू कर दिया है। इस हफ्ते की शुरुआत में दक्षिण कोरियाई प्रौद्योगिकी कंपनी ने भारत में नोट 5 स्मार्टफोन का अपडेट जारी किया था, जिसके साथ सैमसंग पे एप भी दिया गया है।

पढ़ें: व्हाट्सएप की वजह से फुल हो रही है फोन की मैमोरी, तो फॉलो करें ये ट्रिक्स

सैमसंग पे की भारत में लांचिंग जल्द

हालांकि सैमसंग पे केवल महंगे और प्रीमियम सैमसंग स्मार्टफोन के साथ ही काम करेगा, जिससे इसकी पहुंच सीमित होगी।

मार्केट रिसर्च फर्म काउंटरपॉइंट के मुताबिक, भारत में गैलेक्सी एस 6, एस 6 एज, एस 6 एज प्लस, एस 7, एस 7 एज और नोट 5 (केवल इन्हीं मॉडलों पर सैमसंग पे काम करेगा) के 25 लाख से ज्यादा ग्राहक हैं। काउंटरपॉइंट के वरिष्ठ विश्लेषक तरुण पाठक के मुताबिक, "पेमेंट एप की शुरुआत के लिए ये प्रीमियम ग्राहक बेहतर रहेंगे।"

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए क करें हिन्दी गिज़बोट फेसबुक पेज
Read more about:
English summary
South Korean tech giant Samsung is planning to launch its mobile payment wallet in India in the first half of 2017, media reports said.
Please Wait while comments are loading...
12 शिवरात्रियों में से महाशिवरात्रि इतनी महत्वपूर्ण क्यों?
12 शिवरात्रियों में से महाशिवरात्रि इतनी महत्वपूर्ण क्यों?
पुणे टेस्ट मैच शुरू होते ही भारत ने तोड़ा पाकिस्तान का रिकॉर्ड
पुणे टेस्ट मैच शुरू होते ही भारत ने तोड़ा पाकिस्तान का रिकॉर्ड
Opinion Poll

Social Counting