एक अरब लोगों ने खरीदे स्मार्टफोन, सैमसंग रहा नंबर वन

Posted by:

अनुसंधान फर्म आईडीसी के आकड़ों के अनुसार पिछले साल स्मार्टफोन की वैश्विक ब्रिकी 38 प्रतिशत से अधिक बढ़कर एक अरब हो गई। फर्म का कहना है कि भारत व चीन जैसे देशों में सस्ते फोनों की मजबूत मांग के चलते पिछले साल स्मार्टफोन की ब्रिकी बढी।इसके अनुसार पिछले साल 2013 में दुनिया भर में कुल मिलाकर 100.42 करोड़ स्मार्टफोन बिके। यह 38.4 प्रतिशत की बढोतरी दिखाता है क्योंकि साल 2012 में यह आंकड़ा 72.53 करोड़रहा था। 

पढ़ें: सैमसंग हेड ऑफिस सियोल की कुछ शानदार तस्‍वीरें

पिछले साल में सैमसंग ने सबसे अधिक 31.39 करोड़ फोन बेचे और उसकी बाजार भागीदारी 31.3 प्रतिशत रही। इसके बाद एप्पल ने 15.34 करोड़ फोन (15.3 प्रतिशत बाजार भागीदारी) तथा हुआवे ने 4.88 करोड़ फोन (4.9 प्रतिशत बाजार भागीदारी) बेचे। बाजार भागीदारी के लिहाज से एलजी चौथे तथा लेनोवो पांचवें स्थान पर है।

पढ़ें: नहाते टाइम भी बात करिए इन 10 स्‍मार्टफोन्‍स से

इसके अनुसार वैश्विक स्मार्टफोन बाजार ने एक उपलब्धि हासिल करते हुए पहली बार किसी साल में एक अरब का आंकड़ा लांघा है। इसके अनुसार चौथी तिमाही में दुनिया भर में कंपनियों ने 24.2 प्रतिशत की बढोतरी के साथ कुल मिलाकर 28.44 करोड़ स्मार्टफोन बेचे।

एक अरब लोगों ने खरीदे स्मार्टफोन, सैमसंग रहा नंबर वन

सैमसंग और गूगल ने किया पेटेंट समझौता

सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स और गूगल ने भविष्‍य में पेटेंटों के उल्‍लंघन को लेकर एक नया समझौता किया है जिसके तहत दोंनो के बीच कानूनी तौर पर विवाद कम होंगे और दोनों कंपनियों के बीच ज्‍यादा से ज्‍यादा सहयोग होगा। यह समझौता अगले दस साल के दौरान पेटेंट के लिए दायर किए जाने वाले आवेदनों एवं मौजूदा पेटेंटों के लिए है। दोनों कंपनियां पहले से ही स्मार्टफोन एवं टेलीविजन पर एक-दूसरे का सहयोग कर रही हैं।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए क करें हिन्दी गिज़बोट फेसबुक पेज
Please Wait while comments are loading...
जरूरत से ज्यादा ही सेक्सी है हीरोइन, सरकार ने लगा दिया एक साल का बैन
जरूरत से ज्यादा ही सेक्सी है हीरोइन, सरकार ने लगा दिया एक साल का बैन
फिल्मी स्टाइल से महिला पुलिस वाली ने की कार्रवाई, दूल्हे को मंडप से उठाया और पीड़ित की भरवाई मांग
फिल्मी स्टाइल से महिला पुलिस वाली ने की कार्रवाई, दूल्हे को मंडप से उठाया और पीड़ित की भरवाई मांग
Opinion Poll

Social Counting