ड्राइविंग के दौरान मोबाइल प्रयोग से बच्चों को खतरा

क्या आप वाहन चलाते अक्सर अपने मोबाइल का प्रयोग करते हैं? अगर हां, तो आप वास्तव में अपने बच्चों की जान जोखिम में डाल रहे हैं। एक शोध के अनुसार, वाहन चलाते वक्त मोबाइल का प्रयोग करने पर ड्राइवरों की तुलना में अभिभावकों का ध्यान भटकने की संभावना भी कम नहीं है।

पढ़ें: वेडिंग केक जो टेक्‍नालॉजी लवर को बना देंगे दीवाना

अग्रणी लेखक मिशेल एल. मैसी ने कहा, "वाहन चलाने वाले करीब 90 प्रतिशत अभिभावकों ने कहा कि शोध में ध्यान आकर्षित करने वाली, जिन 10 चीजों को परखा गया, वे उनमें से कम से कम एक पर उस समय आकर्षित हुए जब वाहन चला रहे थे और बच्चे उनके साथ थे।

पढ़ें: फेसबुक : अब अपने दोस्‍तों की लोकेशन पर रखिए नजर

 ड्राइविंग के दौरान मोबाइल प्रयोग से बच्चों को खतरा

मैसी, यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन की सी.एस. मॉट चिल्ड्रेंस हॉस्पिटल की आपातकालीन मेडिसिन चिकित्सक हैं शोध एक से लेकर 12 साल तक के बच्चों के 570 अभिभावकों की प्रतिक्रिया पर आधारित है। करीब दो-तिहाई उत्तरदाताओं ने कहा कि वाहन चलाते समय उन्होंने फोन पर आई कॉल का जवाब दिया, जबकि इस दौरान बच्चे उनके साथ थे।

लगभग 15 प्रतिशत अभिभावकों ने कहा कि उन्होंने चलते वाहन में बच्चों की मौजूदगी में फोन पर संदेश टाइप किया। मैसी ने उल्लेख किया, "महत्वपूर्ण बात यह है कि वाहन चालकों ने फोन पर बात करने की अपेक्षा बच्चों को खाना देने जैसे विकर्षण का खुलासा अधिक किया। एकेडेमिक पीडिएट्रिक्स पत्रिका में प्रकाशित शोध में शोधकर्ताओं ने कहा कि हम केवल तकनीक-आधारित विकर्षणों की समस्याओं के बढ़ने की उम्मीद कर सकते हैं चूंकि मोबाइल का उपयोग लगातार बढ़ रहा है।

Please Wait while comments are loading...
तारा शाहदेव की सास कहती थी- धर्म बदल लो नहीं तो बिस्‍तर यही रहेगा, मर्द बदलते रहेंगे
तारा शाहदेव की सास कहती थी- धर्म बदल लो नहीं तो बिस्‍तर यही रहेगा, मर्द बदलते रहेंगे
संभल में अपनी सास से संभलकर रहना दामाद जी!
संभल में अपनी सास से संभलकर रहना दामाद जी!
Opinion Poll

Social Counting