आपके स्मार्टफोन पर भी आ सकता है कोरोना वायरस, ऐसे करें साफ और रहें सुरक्षित


कोरोना वायरस ने इस वक्त पूरी दुनिया को अपने घुटनों पर ला दिया है। इस बीमारी ने सभी लोगों को अपने-अपने घरों में बंद रहने के लिए मजबूर कर दिया है। ये बीमारी किसी भी बीमार आदमी के संपर्क में आने से फैल रही है। ऐसे में हमें हर हमेशा साफ-सुथरे और दूसरों के संपर्क से दूर रहने की सलाह दी गई है। हमें बार-बार हाथ धोने, मास्क पहनने, एक-दूसरे लोगों से दूर रहने की सलाह दी गई है। ऐसे में क्या आपने कभी सोचा है कि क्या आपका स्मार्टफोन सुरक्षित है।

स्मार्टफोन समेत सभी गैजेट्स में भी कोरोना का खतरा

आप दिनभर में जितने भी गैजेट्स का इस्तेमाल करते हैं, वो कई जगहों पर रखा जाता होगा। क्या उसमें भी कोरोना वायरस रह सकता है...? अगर रह सकता है तो कितने देर तक रह सकता है...? ऐसी परिस्थिति में हमें अपने फोन या अन्य गैजेट्स का इस्तेमाल करते वक्त भी किन बातों का ख्याल रखना चाहिए...? अपने गैजेट्स को कैसे साफ करें ताकि उसमें कोरोना वायरस ना रहें...? इन सभी सवालों के जवाब हम आपको इस आर्टिकल में बताने जा रहे हैं।

WHO की पुरानी रिपोर्ट के अनुसार...

विश्व स्वास्थ्य संगठन यानि WHO के एक शोध में ऐसा कहा गया था कि 2003 में आया SARS-CoV वायरस एक ग्लास यानि कांच की सतह पर 96 घंटे तक जिंदा रह सकता है। इसके अलावा प्लास्टिक की सतह पर वो वायरस 72 घंटे यानि 3 दिनों तक जिंदा रह सकता था।

National Institutes of Health की नई रिपोर्ट के अनुसार

इसके अलावा हाल ही में अमेरिका के National Institutes of Health ने भी एक रिसर्च किया था, जिसके मुताबिक SARS-CoV-2 यानि की नोवल-कोरोना वायरस भी पहले के SARS-CoV वायरस की ही तरह मजबूत है। National Institutes of Health के अनुसार ये वायरस भी प्लास्टिक के पदार्थ और स्टेनलेस स्टिल पर 72 घंटों तक जिंदा रह सकता है।

इसके अलावा इस रिसर्च की रिपोर्ट में ये भी बात कही गई है कि नोवल-कोरोना कार्डबोर्ड पर 24 घंटे और कॉपर यानि तांबे के पदार्थ पर 4 घंटे तक जिंदा रह सकता है। हालांकि अमेरिका के National Institutes of Health के द्वारा किए गए इस नए शोध में अभी तक इस बात का पता नहीं चल पाया है कि आजकल पूरी दुनिया में तबाही मचाने वाला नोवल-कोरोना वायरस ग्लास यानि कांच की सतह पर कितने दिनों तक जिंदा रह सकता है।

स्मार्टफोन पर भी कोरोना वायरस रह सकता है

बहराल, फिर भी अगर हम पुराने कोरोना वायरस यानि SARS-CoV के हिसाब से ही सोचें तो कांच पर ये वायरस करीब 96 घंटे यानि 4 दिनों तक भी जिंदा रह सकता है। ऐसे में अगर आप अपना स्मार्टफोन या कोई अन्य गैजेट्स बार-बार छूते हैं तो आपको भी कोरोना वायरस होने का खतरा हो सकता है।

इसका मतलब है कि कोरोना वायरस आपके स्मार्टफोन, लैपटॉप, टैबलेट आदि के जरिए भी आपके शरीर में आ सकता है। इस वजह से अपने-आप को सुरक्षित रखने के साथ-साथ अपने गैजेट्स को भी सुरक्षित रखना बेहद जरूरी है। उसमें भी खासतौर पर स्मार्टफोन को सुरक्षित रखना सबसे ज्यादा जरूरी है क्योंकि उसे हम रोज बहुत बार कई अलग-अलग जगहों पर रखते हैं और कभी भी छूकर यूज़ करते हैं।

स्मार्टफोन को ऐसे साफ रखें

ऐसे में आपको अपना स्मार्टफोन भी साफ करना चाहिए। अपने स्मार्टफोन को साफ करने के लिए आप गैजेट्स को साफ करने वाले लीक्विड का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा आप किसी भी साफ कपड़े को गीला करके उससे बार-बार अपने स्मार्टफोन को पोछकर साफ रख सकते हैं।

सभी गैजेट्स को साफ रखने का तरीका

स्मार्टफोन समेत अपने सभी गैजेट्स को साफ रखने के लिए आप उसे बार-बार सैनिटाइज़ करें। इसके लिए आप 70% isopropyl अल्कोहल सोल्यूशन का भी उपयोग कर सकते हैं। हालांकि आप इस बात का ध्यान रखें कि किसी भी गैजेट्स को सैनिटाइज़ करते वक्त आप 70 प्रतिशत से ज्यादा isopropyl अल्कोहल सोल्यूशन का इस्तेमाल ना करें और ना ही किसी कीटनाशक लीक्विड पधार्थ का इस्तेमाल करें।

यह भी पढ़ें:-COVID-19 की वजह से जियो फोन यूज़र्स को भी 17 अप्रैल तक दिया गया मुफ्त ऑफर

इसके अलावा आप अपने स्मार्टफोन के डिस्प्ले पर स्क्रीन प्रोटेक्टर लगा लें और उसे अच्छे से साफ करते रहें। इससे आपके फोन के डिस्प्ले को भी कोई नुकसान होने का खतरा नहीं होगा।

ऐसे ही आप अपने टैबलेट को भी साफ रख सकते हैं और लैपटॉप के कीबोर्ड पर भी एक कवर लगाकर, उसे आप रोज साफ कर सकते हैं। इन तरीकों का इस्तेमाल करने के बाद आपको गैजेट्स के जरिए भी कोरोना वायरस का खतना नहीं रहेगा।

Most Read Articles
Best Mobiles in India

Have a great day!
Read more...

English Summary

Corona virus has brought the whole world to its knees at this time. The disease has forced all people to remain locked in their homes. In such a situation, we have been advised to wash hands frequently, wear masks, stay away from each other. Have you ever wondered if your smartphone is safe.