जानिए क्यों हिट हो रही है मोदी की 'भीम एप'

Written By:

देश में नोटबंदी के बाद से नो कैश, एक समस्या बनी हुई है। इसी समस्या से निपटने के लिए लोग बिना कैश के गुजारा कर रहे हैं। कैश की समस्या न हो इसके लिए कई लोगों ने डिजिटल पेमेंट का सहारा लिया है। जिससे लेन-देन में काफी मदद मिली है। छोटे मोटे रिचार्ज से लेकर बड़ी खरीदारियों में डिजिटल पेमेंट बेहद काम आई है।

जानिए क्यों हिट हो रही है मोदी की 'भीम एप'

इसी के चलते भारत सरकार ने भी अपनी एक नई एप भीम लॉन्च की है। जिसे कम ही समय में काफी लोकप्रियता मिली है। गूगल प्ले स्टोर ने भी भीम एप को 4.1 रेटिंग दी है। लॉन्च के बाद से इस एप को 30 लाख ज्यादा बार डाउनलोड किया गया है।

64 जीबी इंटरनल मैमोरी के साथ लेईको ले 2 स्नैपडील पर, कीमत 13,999 रुपए

इस ऐप के जरिए सरकार की कोशिश कैशलेस ट्रांजैक्शन को गांव-गांव तक पहुंचाने की है। इससे ईवॉलेट कंपनियां जैसे पेटीएम, फ्रीचार्ज और मोबीक्विक को कड़ी चुनौती मिलेगी। सरकार की तरफ से यह कदम नोटबंदी लागू होने के बाद पेटीएम कारोबार में हुए कई गुना इजाफे के बाद उठाया गया।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

बिना इन्टरनेट के करें इस्तेमाल

भीम एप को इस्तेमाल करने के लिए इन्टरनेट की आवश्यकता नहीं है। इसे एक नार्मल फोन में इस्तेमाल किया जा सकता है।

सीधे ट्रांजैक्शन

भीम ऐप आपका ट्रांजैक्शन सीधे सेलर और बैंक खाते के बीच कराता है। इसमें कोई थर्ड पार्टी नहीं होती।

बैंक खाते से सीधे जुडती है एप

भीम ऐप आपके बैंक खाते से सीधे तौर पर जुड़ा रहता है। इससे सीधे अपने खाते में पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं।

कर सकते हैं खरीदारी

भीम ऐप के साथ बैंक खाते को लिंक करके खरीददारी या किसी तरह का लेन-देन कर सकते हैं। खरीददारी करते वक्त ऐप से भुगतान करने के लिए बस दुकानदार के मोबाइल नंबर की जरूरत होती है।

क्यू आर कोड का भी है विकल्प

ऐप में स्कैन और क्यू आर कोड के जरिए भी भुगतान करने की सुविधा उपलब्ध है।

नए स्मार्टफोन की बेस्ट ऑनलाइन डील्स के लिए यहाँ क्लिक करें


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

English summary
5 interesting facts about BHIM app that makes it a super hit app. Read more in detail.
Please Wait while comments are loading...
CJI ने बनाई 5 सदस्यीय संविधानिक पीठ, प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले चारों जजों को नहीं किया शामिल
CJI ने बनाई 5 सदस्यीय संविधानिक पीठ, प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले चारों जजों को नहीं किया शामिल
  सरकार ने भी इन खबरों को बताया झूठा, इन 5 फेक न्यूज पर न करें भरोसा
सरकार ने भी इन खबरों को बताया झूठा, इन 5 फेक न्यूज पर न करें भरोसा
Opinion Poll

Social Counting

पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot