आपके एरिया का एयर पॉल्यूशन बताएंगी ये मोबाइल एप

Posted By: Arunima mishra

    स्मॉग वायु में मौजूद धुंध, धुएं और धूल के बारीक कणों के मिलने से बनता है। इसके लिए सीधे तौर पर वायु प्रदूषण जिम्मेदार होता है। सर्दी में तापमान कम होने के कारण वायु धरती के आसपास ही रहती है। हवा में मौजूद प्रदूषक कण भी धरती के आसपास जमा हो जाते हैं। हवा की गति कम होने के कारण प्रदूषक कण सघन होने लगते हैं, जिससे स्मॉग की स्थिति बनती है। यही कारण है कि दिल्ली में पिछले आठ से 10 दिन में पीएम 2.5 और पीएम 10 का स्तर निर्धारित स्तर से तीन से चार गुना तक बढ़ गया है जिससे हवा बेहद जहरीली हो गई है।

    आपके एरिया का एयर पॉल्यूशन बताएंगी ये मोबाइल एप

    प्रदूषण का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सुबह व देर रात के समय दिल्ली की फिजा में कुहासा अभी से दिखने लगा है। उधर, स्मॉग भी छा रहा है जो अब आने वाले दिनों में और बढ़ेगा। इससे तय है कि आने वाले दिन दिल्लीवासियों के लिए मुसीबत भरे साबित हो सकते हैं। बम-पटाखे जलने से हुआ प्रदूषण पहले से बढ़ा हुआ था। केंद्र सरकार की संस्था सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वैदर फॉरकास्टिंग एंड रिसर्च ( SAQWFR) के मुताबिक दीवाली पर आतिशबाजी के बाद खतरनाक पर्टिकुलेट मैटर यानी पीएम 2.5 का स्तर 507 तक पहुंच गया, जबकि पीएम 10 का स्तर 511 तक था।

    अगर पीएम 2.5 और पीएम 10 का स्तर 400 से ज्यादा होता है तो प्रदूषण का स्तर बेहद ही खतरनाक हो जाता है। प्रदूषण की मात्रा बढ़ने पर हवा में सांस से जुड़ी बीमारियां का खतरा पैदा हो जाता है। हृदय और फेफड़े की बीमारी वाले लोग इसकी चपेट में जल्दी आ जाते हैं, खासकर अस्थमा के रोगियों की मुश्किल कई गुना बढ़ जाती है। यही कारण आज हम टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से कुछ हद तक हम इससे बच सकते हैं। इसीलिए आज हम आपको कुछ ऐसे ऐप के बारे में बताने जा रहें हैं जिनसे आप एयर पॉलुशन का स्तर खुद चेक कर सकते हैं।

    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    एयरवेद एप

    यह एप दुनियाभर की जगहों के वायु प्रदूषण की बिलकुल सटीक जानकारी देता है। इससे हवा में PM2.5, AQI, और PM10 का स्तर आसानी से मापा जा सकता है।

    सफ़र-एयर

    यह एप Ministry of Earth Sciences and India research institute, IITM, Pune ने बनाया है जो भारत का पहला एयर क्वालिटी फॉर्कस्टिंग है। जिससे आप उसी दिन और उसके तीन दिनों तक के तापमान की जानकारी ले सकते हैं। यह आप वायु की गुणवत्ता और स्वास्थ्य संबंधित जानकारी कलर कोड सिस्टम के दुवारा देता है।

    समीर

    यह एप केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा हर घंटे की National Air Quality Index (AQI) यानी वायु गुणवत्ता की जानकारी देता है। यही नहीं यह पेचीदा एयर क्वालिटी डेटा को नंबर्स में बदला कर दिखता है जिसे लोगों को समझने में आसानी होती है। इसके साथ ही यह एप आसपास के क्षेत्र की 5 किमी तक की कोई भी घटना की तस्वीर और लोकेशन GPS के दुवारा भी दिखता है।

    4000 एमएएच बैटरी वाला Lenovo K8 Plus हुआ सस्ता

    प्लम एयर रिपोर्ट

    यह एप आप के शहर का प्रदूषण स्तर की जानकारी देता है। इसमें आप PM2.5, PM10, Ozone (O3), और Nitrogen Dioxide (NO2) की उच्चतम स्तर की जानकारी पा सकते हैं। इसके साथ ही यह एप सैटलाइट डेटा से एयर क्वालिटी की सटीक जानकारी देता है।

    एयरविज़ुअल

    एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI), यह एंड्रॉइड एप दुनियाभर के 9,500 से अधिक शहरों का एयर पॉलुशन और वेदर डेटा देता है। यही नहीं या एप PM2.5 और PM10 की हर घंटे की जानकारी देता है। इस एप में उपभोगता अपने शहर का मंथली हिस्ट्री, कलर के दुवारा AQI value का डिस्क्रिप्शन और स्वास्थ्य से संभंधित जानकारी भी पा सकते है।

    एयरलांस डेटा

    अगर आप यह जाने के इच्छुक है कि आप किस तरह की हवा में जी रहें हैं तो यह एप आपके लिए सबसे अच्छा है क्योंकि यह एप एडवांस टेक्नोलॉजी से लैस है। इससे आप अपने इलाके की हवा की गुणवत्ता (दिल्ली-एनसीआर, भारत) का पता कर सकते हैं। यही नहीं यह एप आपको अपडेट भी करता है जैसे जैसे हवा में परिवर्तन होता रहता है।


    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    English summary
    Whether you live in Delhi or any other city, you should download some apps that you can use to check air pollution level in areas around you conveniently.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more