हैकर्स की नज़र कैसे बचाएं पेटीएम, मोबिकविक और फ्रीचार्ज को

Written By:

मुद्रीकरण के बाद मोदी के द्वारा मन की बात में लोगों से अनुरोध किया गया कि वो ई-वॉलेट का ज्‍यादा से ज्‍यादा इस्‍तेमाल करें और व्‍यापारियों से भी कहा गया कि वो पेटीएम और अन्‍य ई-वॉलेट की सुविधा ग्राहकों को प्रदान करें ताकि उन्‍हें बहुत ज्‍यादा समस्‍या का सामना न करना पड़े। मोदी के इस संदेश के बाद, कई राज्‍यों में छोटे व्‍यापारी भी डिजीटलीकरण में जुट गए हैं और लोग भी अब ज्‍यादा से ज्‍यादा पेमेंट करने की शुरूआत, कार्ड से करने लगे हैं।

हैकर्स की नज़र कैसे बचाएं पेटीएम, मोबिकविक और फ्रीचार्ज को

अगर आप भी ई-वॉलेट का इस्‍तेमाल करना चाहते हैं तो पेटीएम, मोबिकविक और फ्रीचार्ज प्रमुख हैं जिन्‍हें आप आसानी से अपने स्‍मार्टफोन में प्‍लेस्‍टोर से डाउनलोड करके इंस्‍टॉल कर सकते हैं और इनमें पैसे को रख सकते हैं। जब भी आपको जरूरत हो तो इसी से सभी कामों को आसानी से किया जा सकता है।

जियो का इफेक्‍ट, वोडाफोन यूजरों की बल्‍ले-बल्‍ले

आप इन ई-वॉलेट के माध्‍यम से रिचार्ज, खरीददारी और कहीं भोजन भी कर सकते हैं। साथ ही इनमें टिकट आदि बुक करने की सुविधाएं भी होती हैं। पर अगर आपने थोड़ी चूक की तो आपके एकाउंट पर हैकर्स की मार पड़ सकती है।

ये हैं 10 बेस्‍ट स्‍मार्टफोन, हमारे पास है प्रूफ ?

आपको अपने इन ई-वॉलेट को हैकर्स से उसी तरह सावधान रखना होगा, जिस प्रकार आप पर्स को जेबकतरों की नज़र से दूर रखते हैं। ये हैकर्स बहुत ही स्‍मार्ट और शातिर होते हैं और आपकी थोड़ी सी लापरवाही को ही अपना हथियार बना लेते हैं। आइए जानते हैं कि आप किस प्रकार इन हैकर्स से अपने पेटीएम, मोबिकविक और फ्रीचार्ज को बचा सकते हैं

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

पब्लिक वाई-फाई का इस्‍तेमाल न करें

अगर आप ई-वॉलेट का इस्‍तेमाल करते हैं और आपको कभी भी इससे कोई काम करने की जरूरत पड़ती है तो वहां कैच करने वाले पब्लिक वाई-फाई का इस्‍तेमाल कतई न करें। वैसे भी पब्लिक वाई-फाई से बचना चाहिए, इनसे स्‍मार्टफोन के हैक होने की संभावना होती है।

नए स्मार्टफोन की बेस्ट ऑनलाइन डील्स के लिए यहाँ क्लिक करें

थर्ड पार्टी कीबोर्ड का इस्‍तेमाल न करें

कभी भी ई-वॉलेट को इस्‍तेमाल करने के दौरान किसी भी थर्ड पार्टी कीबोर्ड का प्रयोग न करें। हो सकता है कि ये किसी हैकर के द्वारा बनाई गई एप हो, जिससे उसे आपके द्वारा कीबोर्ड पर टाइप किए जाने वाले वर्ड से समझ में आ जाये कि आपका पासवर्ड क्‍या है।

जेलब्रोकन फोन या एप के इस्‍तेमाल से बचें

ई-वॉलेट का इस्‍तेमाल करने वाले लोग जेलब्रोकन फोन या एप के माध्‍यम से कभी भी ई-वॉलेट को इस्‍तेमाल न करें। इससे उनकी जानकारी लीक हो सकती है और उसका मिसयूज हो सकता है।

कई लोग लोभ में आकर ऐसा कर लेते हैं और बाद में उनकी सिक्‍योरिटी में सेंध लगने की वजह से फ्रॉड हो जाता है और उनको इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है।

 

एप लॉक एप का इस्‍तेमाल करें

अगर आप ई-वॉलेट का इस्‍तेमाल करते हैं तो एप लॉक करने वाली एप का इस्‍तेमाल करें। इसके लिए आपको प्‍लेस्‍टोर पर जाकर बेस्‍ट रेटिंग वाली सिक्‍योरिटी एप का चयन करना चाहिए और उसे डाउनलोड करने के बाद इंस्‍टॉल कर लेना चाहिए। इससे आपकी एप पर हमेशा लॉक रहेगा और अगर कोई फीजिकली उसे हैक करने की कोशिश करेगा तो लॉक लगे होने की वजह से उसे सफलता नहीं मिलेगी।

ई-मेल से लिंक कर लें ई-वॉलेट

आप ई-वॉलेट को बनाते समय ही अपनी मेल आईडी को उसके साथ लिंक कर लें। ऐसा करने से आपके द्वारा किए जाने वाले हर ट्रांसजेक्‍शन की डिटेल मेल में आ जाएगी और कोई भी गैरकानूनी गतिविधि होने पर आपको उसका पता भी चल जाएगा।

इस प्रकार आप अपने ई-वॉलेट को सुरक्षित रख सकते हैं और हैकर्स की नज़र से बचा सकते हैं।

नए स्मार्टफोन की बेस्ट ऑनलाइन डील्स के लिए यहाँ क्लिक करें


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

English summary
Here are 5 ways to protect your e-wallet from being prone to hackers.
Please Wait while comments are loading...
शादी के 2 माह बाद ही देवर से बन गए भाभी के अवैध रिश्‍ते, पति ने पकड़ा तो उठाया ये कदम
शादी के 2 माह बाद ही देवर से बन गए भाभी के अवैध रिश्‍ते, पति ने पकड़ा तो उठाया ये कदम
गर्लफ्रेंड का दिल किसी और पर आ गया तो 3 साल की मोहब्‍बत का ऐसा हुआ हश्र, पढ़कर कांप जाएंगे
गर्लफ्रेंड का दिल किसी और पर आ गया तो 3 साल की मोहब्‍बत का ऐसा हुआ हश्र, पढ़कर कांप जाएंगे
Opinion Poll

Social Counting