ब्लास्ट होने के पहले आपके फोन की बैटरी देती है ये हिंट

Posted By: Arpit Shukla

    आजकल ऐसी घटनाएँ बहुत सुनी जाती हैं कि मोबाइल ब्लास्ट हो रहे हैं और ये काफी हद तक जानलेवा भी साबित होता है. किसी भी मोबाइल में ब्लास्ट होने का सामान्य कारण बैटरी है, खासतौर पर सैमसंग मोबाइल्स में.

    हम अगर बात करें सैमसंग मोबाइल्स के ब्लास्ट होने कि तो सिर्फ एक घटना ऐसी नहीं है यहाँ बहुत सी घटनाएँ सुनने को मिलती रहती हैं. इससे पहले कि आप भी ऐसी घटनाओं का सामना करें हम आपको बता देंगे कि आपको सावधानी कैसे बरतनी है.

    ब्लास्ट होने के पहले आपके फोन की बैटरी देती है ये हिंट

    हम gizbot पर पहले भी बैटरीज के ब्लास्ट होने कि बात कर चुके हैं औरबैटरीज के ब्लास्ट होने के पीछे क्या कारण है हम इस बारे में भी बात कर चुके हैं. इससे पहले कि आपको कोई खतरा हो आज हम बात करेंगे कि आप ये कैसे पता लगायेंगे कि क्या आपका मोबाइल ब्लास्ट होने वाला है या नहीं.

    13MP कैमरा वाले Xiaomi Redmi 4 पर परमानेंट प्राइस कट

    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    मोबाइल का अत्यधिक गर्म होना :

    लीथियम आयन बैटरीज चार्ज किये जाने पर अपने आप गर्म हो जाती है, लेकिन जब कभी बैटरी ज़रुरत से ज्यादा गर्म होने लगती है कि आप उसको टच भी नही कर पा रहे हैं तो तो अपनी बैटरी को अपने मोबाइल से निकल लीजिये.

    मोबाइल की बैटरी का फूलना :

    अगर आपके मोबाइल कि बैटरी में उभार या फुलाव आ रहा है तोऐसी बैटरी मोबाइल सर्किटके लिए हानिकारक होती है और अगर आप अपने मोबाइल को ब्लास्ट होने से रोकना चाहते हैं तो बैटरी को मोबाइल से अलग कर दीजिये.

    बैटरी का स्पिन टेस्ट :

    जब कभी आपका मोबाइल ज़रुरत से ज्यादा गर्म होने लगे तो उसका स्पिन टेस्ट ज़रूर करें, इसमें अपने मोबाइल से बैटरी को अलग करिये और टेबल पर बैटरी को घुमाइए अगर आपकी बैटरी घूम जाती है तो समझ जाइये कि इसको बदलने का समय आगया है.

    मोबाइल में तोड़-फोड़ करना :

    कुछ लोग इरादतन और गैर इरादतन अपने मोबाइल को नुकसान पहुंचाते हैं उसको फेंकते हैं क्या आपको पता है ऐसा करना बहुत नुकसानदेह हो सकता है आपका मोबाइल ब्लास्ट भी हो सकता है.

    जानिए Phone Battery से जुड़े 5 वो झूठ जिसे हम सब मानते हैं ?
    कम तापमान वाली जगहों पर मोबाइल चार्ज करना :

    कम तापमान वाली जगहों पर मोबाइल चार्ज करना :

    लोग जो कम तापमान वाली जगहों पर रहते हैं वो मोबाइल ब्लास्ट होने का बहुत सामना करते हैं क्यूंकि रिपोर्ट के अनुसार लिथियम आयन बैटरीज को कम तापमान वाली जगहों पर चार्ज करने से ब्लास्ट होने का खतरा बढ़ जाता है क्यूंकि इसमें मैटेलिक लिथियम कि एक परमानेंट प्लेट रहती है जो कि बैटरी के फ़ैल होने के खतरे को कई गुना बढ़ा देती है.

    लोकल बैटरी को खरीदना :

    कुछ लोग अपने मोबाइल के लिए लोकल बैटरीजखरीद लेते हैं जिनकी कोई गारंटी नही होती ऐसा करना भी आपके लिए खतरनाक हो सकता है क्यूंकिलोकल बैटरीज कभी भी धोका दे सकतीहैं तो हमेशा अपने मोबाइल के लिए किसी ब्रांडेड बैटरी को ही चुने.

    चार्जिंग के दौरान को मोबाइल को दबा कर रखना :

    मोबाइल को चार्जिंग के दौरान कुछ लोग अपने तकिये के नीचे रख लेते हैं जबकि ऐसा करना खतरनाक साबित हो सकता है मोबाइल को चार्जिंग के दौरान हमेशा खुली जगह पर रखना चाहिए जिससे मोबाइल ओवरहीटिंग ना करे और उसको पर्याप्त हवा मिल सके.

    पानी में गिरे स्मार्टफोन को घर पर ठीक करने की कोशिश :

    स्मार्टफोन का इस्तेमाल हम हर जगह करते हैं। लोग टॉयलेट से लेकर डिनर टेबल तक फोन यूज करते हैं ऐसे में फोन का पानी में गिर जाना काफी कॉमन है। ऐसे में हम फोन को रिपेयर शॉप पर ठीक कराने की जगह खुद ही एक्सपर्ट बनकर फोन ठीक करने लग जाते हैं। एक्सपर्ट का कहना है कि पानी के थोड़े-बहुत छींटे आने पर घर पर ही फोन सुखाया जा सकता है, लेकिन अगर फोन आनी के अंदर चला गया है और आप उसे घर पर ठीक करने की कोशिश कर रहे हैं, तो आपकी सभी कोशिशों के बावजूद फोन में शॉर्ट सर्किट हो सकता है और इसकी वजह से आपके फोन की बैटरी में भी ब्लास्ट हो सकता है।


    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    English summary
    Exploding mobile batteries has become a very common sight for the smartphone users, especially the Samsung users. There has not been just one incident that has been under the limelight of exploding batteries, but numerous such cases.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more