कोबो वॉक्‍स और अमेजन किंडले टैबलेट में कौन है बेहतर?

Posted By: Staff

कोबो वॉक्‍स और अमेजन किंडले टैबलेट में कौन है बेहतर?

टैबलेट बाजार में मौजूद पीसी कंपनियों में काबो वॉक्‍स और अमेजन दो बडे़ खिलाड़ी है। बाजार में यूजर फ्रेंडली फीचरों के साथ अच्‍छे लुक से लैस टैबलेट की भारी मांग बनी हुई है। हाल ही में दोनों कंपनिया अमेजन और कोबो वॉक्‍स ने किंडले और कोबो वॉक्‍स नाम से अपने-अपने टैबलेट लांच किए थे। आइए हम आपको बताते है इन दोनों टैब के फीचरों में क्‍या अंतर है और कौन सा टैब ज्‍यादा बेहतर है।

शुरूआत करते है दोनों कंपनियों के टैब की स्‍क्रीन से, कोबो वॉक्‍स और अमेजन किंडले में 7 इंच का एक जैसा स्‍क्रीन साइज दिया गया है जो 1024 x 600 रेज्‍यूलूशन को सपोर्ट करता है। किंडले और कोबो वॉक्‍स की स्‍टोरेज कैपेसिटी भी 8 जीबी है जो दोनों टैब में बराबर है। हां भार के मामले में कोबो वॉक्‍स अमेजन के किंडले से हल्‍का है, किंडले का भार 413 ग्राम है वहीं कोबा के वॉक्‍स टैबलेट का भार 401 ग्राम है। अगर आप नेट सर्फिंग के ज्‍यादा शौकीन है तो कोबो वॉक्‍स के मुकाबले किंडले वॉक्‍स टैब ज्‍यादा पसंद आएंगा।

किंडले में इनबिल्‍ड बैटरी 8 घंटे का बैटरी बैकप देती है वहीं कोबो टैब 7 घंटे का बैटरी बैकप प्रोवाइड करता है। सबसे खास बात जो दोनों टैब को एक दूसरे में अलग करती है वहीं है टैब में दिया गया ऑनलाइन सपोर्ट, अमेजन किंडले में यूजर को 3 मिलियन टाइटल्‍स का सपोर्ट मिलता है वहीं कोबो वॉक्‍स में केवल 2 मिलियन टाइटल्‍स का सपोर्ट दिया गया है जो बाजार में टैब की मांग पर काफी असर डालेगा।

वैसे तो कोबो का वॉक्‍स टैब फीचर और लुक के मामले में किंडले से कम नहीं है मगर जहां बात ऑनलाइन स्‍टोर और यूजर फ्रेंडली ब्राउजर की आती है अमेजन किडले कोबो के मुकाबले ज्‍यादा बेहतर टैब साबित होता है। हम आपको बता दे अमेजन का किंडले इस 15 नवंबर को बाजार में लांच किया गया था वहीं कोबो वॉक्‍स 28 अक्‍टूबर को लांच होने की संभावना जताई जा रही है।

अमेजन किंडले फीचर

Please Wait while comments are loading...
नागालैंड की इन महिलाओं ने दुनिया के सामने पेश की नई मिसाल
नागालैंड की इन महिलाओं ने दुनिया के सामने पेश की नई मिसाल
अगर की ये गलती, तो jio phone के सिक्योरिटी वाले 1500 रुपए 3 साल बाद भी नहीं मिलेंगे वापस
अगर की ये गलती, तो jio phone के सिक्योरिटी वाले 1500 रुपए 3 साल बाद भी नहीं मिलेंगे वापस
Opinion Poll

Social Counting