सैमसंग ने पेश की ब्राउजर बेस ओएस क्रोमबुक

Posted By: Staff

सैमसंग ने पेश की ब्राउजर बेस ओएस क्रोमबुक

क्‍या आप एक ऐसा लैपटॉप खरीदना चाहते है जिसमें दिया गया ब्राउजर आपरेटिंग सिस्‍टम का काम भी करे। सैमसंग ने यूके में सैमसंग क्रोम नाम से ब्राउजर बेस लैपटॉप लांच किया है जिसमें गूगल क्रोम ब्राउजर दिया गया है जो लैपटॉप में ओएस के अलावा ब्राउजर का काम भी करता है।

सैमसंग की क्रोमबुक को उन लोगों के बनाया गया है जो ज्‍यादातर समय लैपटॉप में ऑनलाइन रहत हैं। हम अक्‍सर मैकबुक या फिर अन्‍य साधारण आपरेटिंग सिस्‍टम के सभी फीचरों का प्रयोग नहीं कर पाते है मगर क्रोमबुक में सभी फीचर यूजर की जरूरतों को ध्‍यान में रखते हुए दिए गए हैं। क्रोमबुक के स्‍मार्ट ब्राउजर में अगर आपको कोई डाक्‍यूमेंट या फाइल ओपेन करनी है तो आपके लैपटॉप में इंटरनेट कनेक्‍टीविटी होना जरूरी है क्‍योंकि क्रोम में सभी फाइल और डेटा ऑनलाइन सेव होते हैं।

क्रोमबुक में साधारण नेट कनेक्‍टीविटी के अलावा 3जी कनेक्‍टीविटी की सुविधा भी दी गई है जिसे आप चाहे तो अपने 3जी फोन से भी कनेक्‍ट कर सकते हैं। इसके अलावा क्रोमबुक में लॉगइन करने में मात्र 10 सकेंड का वक्‍त लगता है। स्‍क्रीन में लॉगइन करने के लिए आपको अपने जीमेल एकाउंट का एक्‍सेस इसमें इंटर करना पड़ेगा। क्रोमबुक में कुछ चीजें ऐसी हैं जो भारतीय उपभोक्‍ताओं को न पसंद आंए। क्रोमबुक में आप किसी भी सॉफ्टवेयर को अलग से इंस्‍टाल नहीं कर सकते हैं।

अगर आप को मनोरंजन के लिए कोई टूल इंस्‍टाल करना भी है तो ऑनलाइन उस एप्‍लीकेशन का प्रयोग आप कर सकते हैं। क्रोम में गूगल डॉक की मदद से आफिस या फिर प्रोजेक्‍ट वगैरह बनाए जा सकते हैं। इसके अलावा बुक में हाईडेफिनेशन वीडियो, ईमेल, मैप जैसी सेवाओं को प्रयोग भी युजर कर सकते हैं। क्रोमबुक का भार कैरी करने के हिसाब से (1.5 किलो) ठीक है। लगातार नेट पर ऑनलाइन रहने के बावजूद क्रोमबुक 8 घंटे का बैटरी बैकप प्रोवाइड करती है। यूएस के बाजारा में क्रोमबुक 26,906 रूपए में उपलब्‍ध है भारत में कंपनी इसे कुछ समय बाद लांच करेगी।

Please Wait while comments are loading...
बाहुबली और श्रीदेवी समेत 24 दुर्लभ मूर्तियों को विदेशों से वापस ला चुकी है मोदी सरकार
बाहुबली और श्रीदेवी समेत 24 दुर्लभ मूर्तियों को विदेशों से वापस ला चुकी है मोदी सरकार
SOLAR ECLIPSE 2017: साल का दूसरा सबसे बड़ा ग्रहण हुआ खत्म
SOLAR ECLIPSE 2017: साल का दूसरा सबसे बड़ा ग्रहण हुआ खत्म
Opinion Poll

Social Counting