छात्रों के लिए आ गया 2,250 रुपए का टैबलेट लैपटॉप 'आकाश'

Posted By: Staff

छात्रों के लिए आ गया 2,250 रुपए का टैबलेट लैपटॉप 'आकाश'

नयी दिल्ली। छात्रों के लिए सस्ता लैपटाप मुहैया कराने की सरकार की योजना, परिकल्पना के छह वर्ष बाद आज तब मुकाम तक पहुंच गई जब देश के सबसे सस्‍ते टैबलेट लैपटॉप 'आकाश' को औपचारिक रूप से पेश किया गया। मानव संसाधन विकास मंत्री कपिल सिब्बल ने एक समारोह में 500 छात्रों को यह सस्ते लैपटाप प्रदान किये। लिनक्स आधारित इस उपकरण में ब्राडबैंड इंटरनेट, वीडियो कांफ्रेंसिग, मीडिया प्लेयर भी उपलब्ध है।

इस उपकरण को मानव संसाधन विकास मंत्रालय की राष्टीय स्कूली शिक्षा सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी नीति (एनएसईआईसीटी) और आईआईटी राजस्थान के सहयोग से तैयार किया गया है जिसका निर्माण डाटाविंड नामक कंपनी ने किया है। इसी परियोजना को फरवरी 2009 में हरी झंडी दिखाई गई थी और इस उद्देश्य के लिए 4,612 करोड़ रूपये का बजट निर्धारित किया गया था।

कपिल सिब्बल ने इस मौके पर कहा कि इस टैबलेट लैपटाप की कीमत करीब 1,500 रूपये निर्धारित की गई थी, लेकिन अभी इसकी कीमत 2,276 रूपये हो गई है। सरकार इस पर 50 प्रतिशत की सब्सिडी प्रदान करेगी और अभी यह छात्रों को करीब 1,100 रूपये में उपलब्ध होगा। प्रारंभ में इस परियोजना के तहत 10 डालर में छात्रों के लिए लैपटाप तैयार करने की योजना बनाई गई थी जो बाद में 35 डालर रखी गई हालांकि वर्तमान में इसकी लागत 49 डालर आई है।

सात इंच के इस टच स्क्रीन टैबलेट लैपटाप में हार्ड डिस्क तो नहीं है, लेकिन लिनक्स आधारित उपकरण को 32 जीबी के बाहरी हार्ड ड्राइव से जोड़ा जा सकता है, जिसकी कीमत 2,276 रूपये रखी गई है। सरकार ने इस उपकरण पर 50 प्रतिशत की सब्सिडी प्रदान की है और छात्रों को यह करीब 1,100 रूपये में प्राप्त होगा।

प्रत्येक राज्य को प्रथम चरण के तहत ऐसे 3,300 लैपटाप प्रदान किये जा रहे हैं। यह लैपटाप किसी स्टॉल पर उपलब्ध नहीं होगा, बल्कि राज्य सरकारों और शैक्षणिक संस्थाओं के माध्यम से छात्रों को मिलेंगे।

Please Wait while comments are loading...
भाजपा से हाथ मिलाने के बाद नीतीश को सताने लगा यह डर
भाजपा से हाथ मिलाने के बाद नीतीश को सताने लगा यह डर
अगर की ये गलती, तो jio phone के सिक्योरिटी वाले 1500 रुपए 3 साल बाद भी नहीं मिलेंगे वापस
अगर की ये गलती, तो jio phone के सिक्योरिटी वाले 1500 रुपए 3 साल बाद भी नहीं मिलेंगे वापस
Opinion Poll

Social Counting