PUBG में अब चीटर्स की खैर नहीं, 13 मिलियन चीटर्स पर लगा बैन

    PUBG का लोगों पर कैसा दीवानापन है, इसे तो इसकी बढ़ती हुई लोकप्रियता से ही आंका जा सकता है। छोटे बच्चे से लेकर व्यस्क हर कोई पबजी का दीवाना है। जब पिछले साल पबजी को लॉन्च किया गया था तो इसकी शुरुआत एक छोटे लेवल से हुई थी। मगर जैसे ही लोगों ने इसे खेलना शुरू किया, इसकी लोकप्रियता आसमान छूने लगी और यही कारण रहा कि इसे बढ़ने से कोई नहीं रोक सका, लेकिन हर लोकप्रिय मल्टीप्लेयर गेम्स की तरह इसके सामने भी कई चुनौतियां आई और सबसे बड़ी चुनौती और समस्या है धोखेबाज यानि चीटर्स।

    PUBG में अब चीटर्स की खैर नहीं, 13 मिलियन चीटर्स पर लगा बैन

    चीट कोड्स के इस्तेमाल से चीटिंग

    चीटर्स के बारे में आप भी बखूबी जानते हैं कि ये वो लोग होते हैं, जो बिना मेहनत किए, चीट कोड्स की मदद से गेम को आसानी से जीतना चाहते हैं, दूसरे शब्दों में कहें तो ये हार्ड वर्क करने वाले लोगों की मेहनत पर पानी फेरने का काम करते हैं। पबजी के उदय के साथ-साथ धोखाधड़ी करने वाले सॉफ़्टवेयर के बहुत सारे लोग आए, जिनमें दीवारों से दूसरी तरफ देखना, एंबोटिंग, स्पीड-हैक और दूसरों से जल्दी हेल्थ बढ़ाने जैसे बहुत से चीट कोड शामिल हैं। यहां तक कि कुछ असामान्य भी हैं जैसे बुलेट पंजीकरण नहीं होता हैं यानी बुलेट का कोई भी असर आप के ऊपर नहीं होगा, पूरे मानचित्र और अन्य लोगों से भी लूट आसानी से करना। इस तरह ये चीटर्स चीटिंग करके गेम के विनर बन जाते हैं।

    यह भी पढ़ें:- PUBG में अपनी कंपनी का महिंद्रा ट्रैक्टर देखकर चेयरमैन ने पूछा, "यह PUBG क्या है...?"

    हालांकि गेम इतना शानदार और मजेदार है कि ये गेम लवर्स के रग-रग में बहता है, लेकिन इन चीटर्स की वजह से गेम के प्रति थोड़ी निराशा लोगों में जरूर है। हालांकि यह कहना गलत होगा कि पबजी कॉर्प के डेवलपर्स ने इस और अन्य मुद्दों से निपटने के लिए कुछ भी नहीं किया है। इस समस्या के हल के लिए काम जरुर हो रहा है लेकिन फिलहाल उसकी गति थोड़ी धीमी है।

    13 मिलियन यूजर्स बैन

    एक रेडडिट यूजर ने अब उन सभी नंबरों को संकलित किया है जिन्हें डेवलपर्स ने धोखेबाज़ों पर प्रतिबंध लगाने के लिए इस्तेमाल किया है। व्यक्ति ने निष्कर्ष निकाला कि प्लेयर अननोन बैटल ग्राउंड ने खेल के लॉन्च के बाद करीब 13 मिलियन खिलाड़ियों पर प्रतिबंध लगा दिया है। ये वाकई में एक बहुत बड़ा कदम हैं, जो गेम की विश्वसनीयता को कायम रखने में कारगर साबित हुआ है।

    यह भी पढ़ें:- 12 सितंबर से PUBG में हुए नए बदलाव, हथियार और व्हीकल को किया गया अपडेट

    ऐसे करें चीटर्स की रिपोर्ट

    जनवरी 2018 में सबसे ज्यादा प्रतिबंध लगाया गया, जब ब्लूहोल ने धोखाधड़ी के आधार पर 1 मिलियन अकाउंट्स पर बैन लगा दिया था। पब जी ने धोखेबाज़ों को कंट्रोल करने और आइडेंटिफाई करने के लिए कुछ उपाय भी रखे हैं, जिसमें रिप्लेज़ और ऑप्शन शामिल हैं, जिससे कोई भी खिलाड़ी संदिग्ध खिलाड़ी के ऊपर रिपोर्ट कर सकता है। फिर निश्चित रूप से ब्लूहोल अपने हिस्से पर धोखेबाज़ों का पता लगाने के लिए तीसरे पक्ष के सॉफ्टवेयर का यूज़ करेगा और करवाई भी करेगा।

    फिक्स पबजी

    पबजी के प्लेयर्स की लगातार शिकायतों के बाद पब जी ने फिक्स पब जी नाम से एक डेडिकेटिड वेबसाइट भी बनाई है जहां खिलाड़ियों को काम करने वाले डेवलपर्स का एक रोडमैप दिखाई देगा। इस रोडमैप के एक बड़े हिस्से में पेयर खेलेन वाले प्लेयर्स के लिए जीवन को आसान बनाने और खेल से धोखेबाज़ों को बाहर निकलाना शामिल है।

    English summary
    What kind of publicity is the people of PUBG, it can be judged by its growing popularity. But like every popular multiplayer games, there have been many challenges in front of it, and the biggest challenge and the problem is cheat, i.e. cheaters. To deal with these challenges and teach cheaters a lesson, Pabji has taken some steps.
    भारत का अब तक का सबसे बड़ा राजनीतिक पोल. क्या आपने भाग लिया?
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more