कहीं आपका फोन भी तो नहीं है जानलेवा, इस कोड से जानें

By Neha
|

स्मार्टफोन तकनीक हर रोज बदलती जा रही है। यूजर्स पहले से ज्यादा 'हाइटेक और स्मार्ट' फोन खरीदने की कोशिश करते हैं। दरअसल स्मार्टफोन इंसान की जिंदगी में इस कदर शामिल हो गया है कि हम में से शायद ही कोई पूरा 1 दिन भी अपने फोन से दूर रह सके। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ये फोन आपके लिए जान का खतरा बन चुके हैं।

 
कहीं आपका फोन भी तो नहीं है जानलेवा, इस कोड से जानें

मोबाइल को साइलेंट किलर भी माना जाता है, क्योंकि इसकी रेडिएशन इंसानी दिमाग और शरीर के लिए काफी खतरनाक होती है। मोबाइल रेडिएशन से ब्रेन कैंसर से लेकर न्यूरोडेगेनेरेटिव डिसऑर्डर, हार्ट फेलियर, प्रजनन क्षमता, बहरापन और सुनने में परेशानी जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।

Exclusive: जियो प्रीपेड प्लान फिर हुए चेंज, नए प्लान में हर रोज मिलेगा 3GB डेटाExclusive: जियो प्रीपेड प्लान फिर हुए चेंज, नए प्लान में हर रोज मिलेगा 3GB डेटा

आपको बता दें कि स्मार्टफोन से निकलने वाली रेडिएशन को (Specific Absorption Rate) SAR कहते हैं। इंडिया में SAR के लिए तैयार मानक के हिसाब से इसे 1.6 वॉट प्रति किग्रा से ज्यादा नहीं होना चाहिए। इससे ज्यादा रेडिएशन होने पर ये आपको नुकसान पहुंचा सकता है।

20100 mAh बैटरी वाले ये हैं दमदार 5 पावर बैंक, कीमत 1500 रुपए से शुरू20100 mAh बैटरी वाले ये हैं दमदार 5 पावर बैंक, कीमत 1500 रुपए से शुरू

स्मार्टफोन का निर्माण करते वक्त मोबाइल से निकलने वाली रेडिएशन को एक स्टेंडर्ड पैमाने पर मापा जाता है, लेकिन इस समय कई ब्रांडेड हैंडसेट हाई रेडिएशन के साथ बेचे जा रहे हैं। अगर आप अपने स्मार्टफोन का रेडिएशन स्तर यानी एसएआर पता करना चाहते हैं, तो अपने फोन से *#07# कोड डायल करें। अगर एसएआर वैल्यू 1.6 वॉट प्रति किग्रा (1.6 W/kg) से ज्यादा निकलकर आती है, तो अपना फोन बदल लें।

 
Best Mobiles in India

English summary
how to check radiation rate of mobile phones. More detail in hindi.

बेस्‍ट फोन

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X