असली है या नकली कैसे पहचानें ?

Posted By: Staff

ऐपल ने सैन फ्रांसिस्को के एक मेगा इवेंट में कल रात आईफोन 6 एस और 6 एस प्लस लॉन्च कर दिए हैं। इससे पहले ही अनेक ई-कॉमर्स वेबसाइटों ने आईफोन के पुराने मॉडल की कीमत को काफी कम कर दिया है। यहां तक कि इसके कुछ मॉडल की कीमत तो 10,000 रुपए तक आ गई है।

पढ़ें: कैसे बढ़ाएं अपने लैपटॉप की बैटरी लाइफ ?

ऐसे में यदि आप आईफोन खरीदने का प्लान कर रहे हैं तो जरा संभालकर कहीं लालच में आप नकली आईफोन के चक्कर में न फंस जाए। चलिए हम आपको असली-नकली आईफोन 6 की पहचान के कुछ टिप्स दिए देते हैंः मूल्यः कभी भी कम कीमत के लालच में न आए।

पढ़ें: पॉकेट प्रिंटर, कीमत केवल 6999 रुपए

ऑनलाइन या ऑफाइन जैसे भी खरीदे कुछ चीजों को जरूर चेक कर लें जैसे कि डिवाइस की मोटाई, वजन, डिस्प्ले साइज, वेलकम स्क्रीन, बटन लोकेशन, ऑपरेटिंग सिस्टम, ऐपल का लोगो, वारंटी, इनबिल्ट ऐप्स, सीरियल नंबर और मेमोरी कैपेसिटी आदि। इन चीजों से आप आसानी से असली-नकली की पहचान कर सकते हैं।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

1

आईफोन 6 के बॉक्स पर देखे यदि उसपर आईफोन ब्लैक कलर से लिखा है तो असली लेकिन यदि गोल्ड/ऑरेंज कलर से आईफोन टेक्स्ट लिखा है तो नकली। असली आईफोन का बॉक्स कॉम्पैक्ट होता है जबकि नकली का साइज बड़ा होता है। असली में बॉक्‍स पर बार कोड होता है व बॉक्‍स के बैक में भी मोबाइल के बारे में कुछ लिखा होता है।

2

ध्यान से देखे तो असली आईफोन 6 नकली से कुछ पतला होता है। नकली के साइड बटन इस्तेमाल करने में नकली के बटनों से हार्ड होते हैं जिन्हें दबाने में अधिक शक्ति का इस्तेमाल करना पड़ता है। असली की वॉल्यूम की अधिक फ्री व दबाने पर आवाज करती हैं, पर नकली में नहीं है। असली का वाइब्रेशन बटन भी सरलता से मूव हो जाता है पर नकली का नहीं।

3

मोबाइल के पेपर्स के नीच एक्सेसरीज-इयरफोन, डेटा केबल व चार्जर होता है। दोनों इयरफोन समान होते हैं क्वालिटी की जांच सुनकर की जा सकती है। नकली में डाटा केबल इयरफोन के नीचे की तरफ होती है। असली ट्रे में चार्जर व डाटा केबल रखने की जगह बनी रहती है नकली में केवल चार्जर रखने की जगह होती है।

4

मोबाइल को ऑन करने पर डिस्प्ले की शार्पनेस, बैटरी परसेंट आईकॉन के कलर, कैमरा आईकॉन, स्लाइट टू अनलाॅक ऑप्शन, नोटिफिकेशन आदि में अंतर साफ दिखाई देता है। असली की डिस्प्ले काली होती है, जबकि नकली की स्क्रीन कलरफुल।

5

बॉक्स में आईफोन 6 के साइज का प्लास्टिक कार्ड होता है जबकि असली-नकली दोनों में ही यह कार्ड करीब एक जैसा होता है। दोनों के बीच एक छेद होता है पर असली में कैमरा के स्थान पर भी छेद होता है, जोकि नकली में नहीं रहता। असली मोबाइल के कागजों की क्वालिटी अच्छी रहती है। असली बॉक्स में पेपरों में सेफ्टी क्लिप लगी होती है।

6

नकली आईफोन 6 का ऐप स्टोर चीनी भाषा के साथ खुलता है। इसके ऐप्स के नीचे चीनी भाषा लिखी होती है। ऐप सर्च के लिए की-बोर्ड तो अंग्रेजी में होता पर सर्च चीनी भाषा में ही होता है। सर्च रिजल्ट के ऐप्स भी चीनी होते हैं। असली में सभी कुछ अंग्रेजी में होता है।

7

असली आईफोन 6 का कैमरा अंदर की ओर से वाइड डायमीटर में रहता है नकली का कैमरा सीधा दिखाई देता है जिसके चारों ओर एक सिल्वर डायल होता है। असली में एलईडी फ्लैश लाइट पीले रंग की और फैली हुई दिखाई देती है। नकली में फ्लैश पीली तो होती है पर अंदर की ओर सिकुड़ी हुई होती है।

8

असली आईफोन 6 के बैक कवर पर आईफोन के नीचे की ओर लिखे टेक्स्ट बॉटम की तरफ होते हैं। नकली मोबाइल में ये कुछ ऊपर होते हैं। बैक लाइन में भी बड़ा अंतर होता है। नकली आईफोन का लोगो मिरर की तरह शेडो रिफलेक्ट करता है। असली में साइनिंग तो होती है पर रिफलेक्शन नहीं।


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

Read more about:
English summary
In the past few days, fake iPhones in the brand new models, 6s have been flooding in the market, spotted in 20 countries, reports OpSec Security, a company that offers products and services to fight counterfeiting.
Please Wait while comments are loading...
आज हड़ताल पर देशभर के बैंक, सिर्फ इन बैंकों में होगा काम
आज हड़ताल पर देशभर के बैंक, सिर्फ इन बैंकों में होगा काम
हीरोइन बनाने की बात कह लड़कियों को बुला लेता, फिर शुरू होता गंदा खेल
हीरोइन बनाने की बात कह लड़कियों को बुला लेता, फिर शुरू होता गंदा खेल
Opinion Poll

Social Counting