गैजेट्स खरीद रहे हैं? ऐसे बचाएं हज़ारों रुपए

Written By:

इन दिनों टेक्नोलॉजी ने हर जगह है. बिज़नस हो, घर हो या कोई और बिजी लाइफ हर जगह टेक्नोलॉजी की मदद ली जाती है. गैजेट्स ने आज लाइफ कई गुना ज्यादा आसान कर दी है. अब स्मार्टफोन को ही देख लीजिए, इस छोटे से गैजेट से आप क्या नहीं कर सकते हैं.

वहीँ यदि बात करें इनकी कीमत की, तो एक अच्छे गैजेट के लिए आपको रुपए भी अधिक खर्चने होते हैं. कई यूज़र्स की कोशिश होती है कि वह इन गैजेट्स आदि पर कम रुपए खर्च करें, लेकिन इसके लिए क्या करना चाहिए यह समझ नहीं पाते हैं.

गैजेट्स खरीद रहे हैं? ऐसे बचाएं हज़ारों रुपए

आज हम इस आर्टिकल की मदद से आपको बताएंगे कि आप कैसे इन गैजेट्स की खरीदारी में रुपए बचा सकते हैं.

Used टेक डिवाइस इस्तेमाल करना
नए डिवाइस को खरीदने से बेहतर, आप पुराने डिवाइस को खरीदें. किसी डिवाइस को ट्राय करने के लिए बेहतर है की आप इस्तेमाल किए हुए डिवाइस को खरीदें. पहले डिवाइस को समझ लें, उसका इस्तेमाल कैसे होता है यह जान लें. जैसे मान लें कि आप पहली बार स्मार्ट वॉच खरीद रहे हैं और आपको लगे कि इसका आपके लिए कुछ खास इस्तेमाल नहीं तो यह आपके लिए एक फ़िज़ूल खर्च होगा. इसलिए आप used डिवाइस लें.

मॉडल नंबर
डिवाइस का मॉडल नंबर बताता है कि डिवाइस किस साल में बना है. कोशिश करें कि आप ऐसा डिवाइस लें जो काफी पुराना न हो. साथ ही आज की टेक्नोलॉजी में बेहद पिछड़ा न हो. वहीं जब आप स्मार्टफोन/टैब ले रहे हैं तो ऐसा डिवाइस लें जिसमें अपडेट उपलब्ध हो. इसका कारण यह भी है कि जब डिवाइस पुराना होने लगता है तो इसकी कीमत भी कम होने लगती है.

डिस्काउंट
कोई भी डिवाइस लेने से पहले पूरी जांच करें. ऑनलाइन साइट्स पर डिवाइस की कीमत चेक करें. चेक करें कि कौन से डिवाइस पर कितना डिस्काउंट उपलब्ध है. जिससे आप अच्छी डील में अधिक रुपए बचा सकें.



English summary
Technology has made everything easy. If you need one, buy one. Here are some tips to save money when buying any device, gadgets.
Please Wait while comments are loading...
रेप को हथियार की तरह इस्‍तेमाल करते हैं आतंकी, Sex Slave ने सुनाई आपबीती
रेप को हथियार की तरह इस्‍तेमाल करते हैं आतंकी, Sex Slave ने सुनाई आपबीती
चार दिन पहले हुई शादी का सड़क पर पलक झपकते हुआ दर्दनाक अंत
चार दिन पहले हुई शादी का सड़क पर पलक झपकते हुआ दर्दनाक अंत
Opinion Poll

Social Counting