कैसे चुनें एक सही वर्चुअल रियलिटी (VR) हेडसेट ?

    वी.आर यानी वर्चुअल रियलिटी का काफी बोलबाला है। वर्चुअल रियलिटी हेडसेट के साथ घर बैठे ही अलग दुनिया की सैर कर सकते हैं। डिवाइस से आपको गेमिंग और एप्लिकेशन का इस्तेमाल करने पर बेहद ही अलग अहसास होता है।

    बाजार में कई ऐसे हेडसेट हैं जो वर्चुअल रियलिटी को सपोर्ट करते हैं। हालांकि ऐसे में किसी एक हेडसेट का चुनाव करना काफी मुशिकल हो सकता है। ऐसे में बाजार में मौजूद हेडसेट को चुनने के ऑपशन को आसान बनाना काफी जरूरी है।

    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्<200d>दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    Standalone VS Tethered

    दोनों के बीच का अंतर आत्म-स्पष्टीकरणपूर्ण है लेकिन दोनों का इस्तेमाल करते समय अनुभव थोड़ा अलग है। स्टैंडअलोन आपके हेडसेट को ज्यादा मूवमेंट करने का मौका देता है। इसमें आपको ज्यादा एक्सप्लोर करने के लिए एक वाइड एरिया मिलता है। जिससे आप स्ट्रिंग या तार के रेडियस से सीमित नहीं रहते हैं। बता दें, विलंबता वह देरी है जो स्रोत से हेडसेट के सिग्नल के बीच निकलती है।

    जिससे गंभीरता से इमर्सिव अनुभव कम हो जाता है। इस तरह के वी.आर हेडसेट बहुत भारी और इस्तेमाल करने में असहज होते हैं। एक वी.आर दुनिया में पूरी तरह से इमर्सिव फॉर सिग्नल में देरी होने पर उसी तरह से नहीं रहता है। अतिरिक्त शक्ति, और कंप्यूटिंग क्षमताओं सीमित रेडियस को व्यवस्थित करने के लिए पर्याप्त कारण है। इस तरह के हेडसेट में क्वालिटी का उपयोग करने पर क्वालिटी बेहतर ही होती है। अगर आप खासतौर पर फिल्में देखने के लिए अपने हेडसेट का इस्तेमाल करना चाहते हैं, तो रेडियस कोई परेशानी नहीं है।

     

    डिजाइन

    जब हम डिजाइन करते हैं, हम उसके लुक्स के बारे में बात नहीं करेंगे क्योंकि सौंदर्यशास्त्र व्यक्तिगत स्वाद से काफी ज्यादा जरूरी है। हम इस बात पर ध्यान देंगे कि वी.आर हेडसेट कितना आरामदायक है। आप कई घंटों तक डिवाइस का इस्तेमाल करते हैं। एक बुरी तरह से डिज़ाइन किया गया हेडसेट आपके वी.आर अनुभव में एक रिंच लाने के साथ-साथ आपके स्वास्थ्य को भी काफी खराब कर सकता है।

    डिस्प्ले

    अगर आपकी वर्चुअल दुनिया धुंधली है तो आप दृढ़ता से खुद को यह विश्वास नहीं दिला सकते कि आप वास्तव में किसी और दुनिया के अंदर हैं। जिसका मतलब यह है कि बेहतर प्रदर्शन से ही बेहतर अनुभव मिल सकता है। बाजार में कई हेडसेट हैं जो एकीकृत डिस्प्ले से लैस हैं। साथ ही कई ऐसे हेडसेट भी हैं जो आपको आपके स्मार्टफोन में इंसर्ट करने की मंजूरी देते हैं।

    फिल्ड ऑफ व्यू

    मानव आंखों में एक दृश्य क्षेत्र है जो लगभग 180-240 डिग्री है। हेडसेट के एफओवी दुनिया को एक दृढ़ प्रतिपादन देता है। जिसे रिक्रिएट किया जाता है। मानव आंखें रिक्रिएट किए गए वर्चुअल वातावरण में होने वाली गलतियों को आसानी से पकड़ लेती है। जिसे snorkel mask effect कहा जाता है।

    एडजेस्टेबल लैंस

    1. द फोकस
    2. इंटरप्यूपिलरी डिस्टेंस
    3. लैंस-टू-आई डिस्टेंस

    ट्रेकिंग और कंट्रोलिंग

    ट्रेकिंग एरिया- सिमुलेशन के लिए इस्तेमाल किए जा जाने वाले क्षेत्र के आयाम को ट्रैकिंग एरिया के रूप में जाना जाता है।
    पोजिशनल ट्रेकिंग- ऑब्जेक्ट या व्यक्ति की स्थिति जिसे ट्रैकर्स माना जाता है। वह समृद्ध वी.आर अनुभव के लिए जरूरी है।


    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    Read more about:
    English summary
    Navigating a synthetic world that mimics the world we inhabit or a better yet, a world which someone or something else inhabits, is something which you can fully immerse yourself into, with the all the innovations that have been happening in the field of VR, a number of headsets in the market can give you exactly what you are looking for.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more