अगर फॉलो नहीं करते ये टिप्स, तो खतरे में पड़ सकती है ऑनलाइन बैंकिंग

By Agrahi
|

एडवांस्ड टेक्नोलॉजी के इस दौर में ज्यादातर लोग हर चीज ऑनलाइन करना चाहते हैं। आज ऑनलाइन ट्रांजेक्शन को बेहतर विकल्प मानते हैं। इससे न तो बैंक के चक्कर काटने पढ़ते हैं न ही खास दिन और समय का इंतजार करना पड़ता है। अब कहीं भी कभी मनी ट्रांसफर किया जा सकता है।

 

10 मोदी एप्स, जिन्हें देख मोदी भी होते हैं खुश10 मोदी एप्स, जिन्हें देख मोदी भी होते हैं खुश

पहले के दिनों में बैंकिंग बेहद मुश्किल हुआ करती थी। चाहे रुपए निकलने हों या जमा करने हों, बैंक जाए बिना कोई काम नहीं हो पाता था। बैंकों की लंबी कतारें काफी परेशानी भरी होती थीं। यदि आप वर्किंग हैं तो इसके लिए अलग से समय निकालना पड़ता थ, वरना संडे को तो बैंक भी छुट्टी मनाते हैं।

व्हाट्सएप का नया नियम ग्रुप एडमिन के लिए बना मुसीबतव्हाट्सएप का नया नियम ग्रुप एडमिन के लिए बना मुसीबत

हालाँकि ऑनलाइन बैंकिंग से आज काफी कुछ आसान हो चुका है। घर बैठे ही आप अपनी बैंकिंग निपटा सकते हैं। लेकिन, इसमें आपको थोड़ा सावधान होने की भी जरुरत है। आज हम आपको ऐसी कुछ बातें बता रहे हैं जो आपकी ऑनलाइन बैंकिंग को और भी अधिक सेफ और सिक्योर बना सकती हैं।

पासवर्ड

पासवर्ड

जब भी हम किसी अकाउंट में पासवर्ड सेट करते हैं तो उसे आसान से आसान रखते हैं, जिससे हम आसानी से उन्हें याद रख सकें। कोई भी कठिन पासवर्ड नहीं रखना चाहता है, लेकिन बता दें कि आपके आसान पासवर्ड ही आपके लिए मुसीबत बन सकते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि यह हैकर्स के लिए बेहद इजी टास्क हो जाता है। इसलिए ध्यान रखें कि जब भी आप नेट बैंकिंग या अन्य जरुरी चीजों के लिए पासवर्ड सेट करें तो वह आसानी से तोड़ा जाने वाला न रखें।

टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन

टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन

अपनी ऑनलाइन बैंकिंग को सिक्योर करने का एक बेहतर तरीका है टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन। सबसे पहले आप इस फीचर को अपने अकाउंट के लिए एक्टिवेट कर लें। इसके बाद जब भी आप लॉगऑन करेंगे तो यह आपसे से यूनिक पासवर्ड मांगेगा, जो कि आपको आपके फोन में हर नई अकाउंट एंट्री पर मिलेगा।

शेयर न करें जानकारी
 

शेयर न करें जानकारी

एक बात हुई मजबूत और कठिन पासवर्ड सेट करने की और एक जरुरी बात है अपनी निजी जानकारी किसी से शेयर न करने की। ऐसा करके आप मुसीबत को खुद ही न्योता देंगे। हो सकता है आपका फोन, अकाउंट या अन्य डिवाइस किसी गलत हाथ में पड़ जाए।

अपना पीसी चेक करें

अपना पीसी चेक करें

जब भी कोई और व्यक्ति आपका लैपटॉप यूज़ करे (खासकर कोई ऐसा जिस पर भरोसा न करते हों), तो उसके बाद आप आने पीसी को जरुर चेक करें। देखें कहीं कंप्यूटर में कोई कीलॉगर्स या कोई हैकिंग से संबंधित सॉफ्टवेयर तो नहीं। हो सकता है अनजाने में आप कोई गलती कर बैठें।

फोन का भी रखें खास ध्यान

फोन का भी रखें खास ध्यान

इन दिनों ऑनलाइन बैंकिंग के लिए अधिकतर लोग अपने स्मार्टफोन को ही इस्तेमाल करते हैं। बैंक एप्स ने इसे और आसान बना दिया है। इसके लिए आपको बार बार कंप्यूटर खोलने की भी जरुरत नहीं है। लेकिन ऐसे में आपको अपने स्मार्टफोन को बेहद सेफ रखने की जरूरत है। ध्यान रहे कि आप ऐसी कोई एप इस्तेमाल न करें जिससे आपके अकाउंट डिटेल चोरी हो सके।

फर्जी ईमेल से रहे सावधान

फर्जी ईमेल से रहे सावधान

जब भी आपको कोई फर्जी ईमेल प्राप्त हो, तो इसे फिशिंग कहते हैं। इस तरह के फर्जी ईमेल आपके बैंक अकाउंट नंबर, पासवर्ड जैसे जरुरी जानकरियां चोरी करने की कोशिश करते हैं। चाहे ये फर्जी ईमेल कितने भी लुभावने हों, इनमें दिए लिंक्स पर गलती से भी क्लिक न करें, ये आपको बहुत महंगा पड़ सकता है।

देखें बैंक की वेबसाइट एन्क्रिप्टेड है या नहीं

देखें बैंक की वेबसाइट एन्क्रिप्टेड है या नहीं

ऑनलाइन बैंकिंग के लिए जाहिर है आप बैंक की वेबसाइट पर जाएंगे। यह वेबसाइट्स आपको काफी सिक्योर और सेफ लगती हों, लेकिन फिर भी चेक करें कि यह एन्क्रिप्टेड हैं या नहीं। इसके लिए वेबसाइट के यूआरएल को देखें, वहां ग्रीन लॉक का साइन है या नहीं।

पब्लिसिटी

पब्लिसिटी

आपकी बैंक अकाउंट डिटेल्स किसी के भी हाथ लग सकती हैं यदि आप किसी अन्य ले डिवाइस से लॉग इन करें। कोशिश करें कि आप एक ही डिवाइस से लॉग इन करें।

ट्रैक अकाउंट

ट्रैक अकाउंट

अपने बैंक अकाउंट से संबंधित हर जानकारी का अपडेट रखें। ध्यान रखें कि आपके अकाउंट में कितने रुपए है, आपने कब कितने क्रेडिट किए या डेबिट किए आदि। इससे आपको हर चीज की सही जानकारी रहेगी। अकाउंट ट्रैक करना हमेशा ही मदद करता है।

सेव न करें पासवर्ड

सेव न करें पासवर्ड

ऑनलाइन बैंकिंग में एक और सबसे ध्यान रखने वाली बात है पासवर्ड को सेव न करना। जब भी आप पीसी से किसी भी अकाउंट में लॉग इन करते हैं तो यह आपको पासवर्ड सेव करने की सलाह देता है, इसे भूलकर भी स्वीकार न करें। यह गलत हाथों में भी पड़ सकती है।

पासवर्ड स्कैम

पासवर्ड स्कैम

एशिया अक्सर फेक कॉल्स के जरिए होता है। इन कॉल्स में यह खुद को कंपनी एजेंट बताते हैं, और आपसे फोन पर आया पासवर्ड मांगते हैं, जिसके बाद अकाउंट हैक होने की संभावनाएं होती हैं। इस स्कैमिंग के चक्कर में कई लोग अपना नुकसान करा चुके हैं। तो अपनी डिटेल शेयर करने से पहले कई बार सोचें।

बैंक एप्स का करें इस्तेमाल

बैंक एप्स का करें इस्तेमाल

ऑनलाइन बैंकिंग को सिक्योर बनाने का एक और तरीका है, ये है बैंक एप इस्तेमाल करना। इसमें जब भी आप कोई ट्रांजेक्शन करते हैं तो वह सेफ रहती है।

लॉगआउट करना न भूलें

लॉगआउट करना न भूलें

ऑनलाइन बैंकिंग के दौरान थोड़ी सी भी लापरवाही बेहद भारी पड़ सकती है। इसलिए ध्यान रखें कि जब भी आप बैंक वेबसाइट पर लॉग इन करें तो लॉगआउट करना बिलकुल न भूलें, आपको इसका खमियाजा भुगतना पड़ सकता है।

कोई भी गड़बड़ लगे तो बैंक को दें जानकारी

कोई भी गड़बड़ लगे तो बैंक को दें जानकारी

बैंक अकाउंट से कई छोटी मोती सर्विस के डिडक्शन होते हैं, लेकिन इस चक्कर में आप कोई बड़ी गड़बड़ी को अन्देखा न कर दें। जब भी आपको लगे कि आपके अकाउंट से रुपए निकाले गए हैं, चाहे वो कम ही क्यों न हों, बैंक को जरुर सूचना दें। इससे आपको भी तसल्ली रहेगी।

 
Best Mobiles in India

English summary
Make your online banking more secure and safe with these awesome online safety tips. Read more detail in Hindi.

बेस्‍ट फोन

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X