SHOCK: तो इसलिए आईफोन खरीदना हो सकता है आपकी सबसे बड़ी गलती!

Written By:

    एप्पल के iPhone प्रोडक्ट ने दुनिया में धूम मचाई हुई है। अपने ख़ास फीचर्स और विशेष तकनीक से इसने पूरी दुनिया में अपनी ख़ास पहचान बनाई है। iPhone की कई जेनरेशन लॉन्च कर चुकी यह मोबाइल निर्माता कंपनी अब अपना नया iPhone लॉन्च लेकर दुनिया के सामने आई है। कंपनी ने iPhone SE के नाम से नया डिवाइस लॉन्च किया है, जो बाजार में उपलब्ध हो गया है। डॉलर में इसकी कीमत 399 के करीब बताई जाती है।

    सलमान खान और अक्षय कुमार भी हैं इस स्मार्टफोन के दीवाने!

    वहीँ भारतीय बाजार में भी इसकी कीमत 25-32 हजार के करीब होगी। यह फोन लोगों के लिए परफेक्ट लग रहा है। लेकिन कुछ कारण हैं, जिनको जानकर आप दो एप्पल के दो iPhone प्रोडक्ट को लेने से बचना चाहेंगे। ये प्रोडक्ट हैं iPhone 6 और 6 प्लस। जानते इस बारे में विस्तार से:

    दूरदर्शन ने शुरू की स्मार्टफोन पर फ्री टीवी की सेवा!

    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    #1

    फोन में प्रोसेसर का क्या महत्व होता है, ये तो आप जानते ही होंगे। लेकिन प्रोसेसर अगर कमजोर हो तो फोन की सारी खूबियाँ एक तरफ हो जाती हैं। iPhone 6 और 6 प्लस एप्पल के A8 प्रोसेसर और M8 को- प्रोसेसर के साथ आता है। जबकि 6s और 6s प्लस में कंपनी ने A9 प्रोसेसर और M9 को-प्रोसेसर लगाया है। जिससे इन फोन की परफोर्मेंस पर फर्क पड़ना लाजमी है। ऐसे में एडवांस प्रोसेसर और को-प्रोसेसर वाला फोन खरीदना ही अच्छा रहेगा। जो आपके आने वाले दो साल की जरूरत को पूरा करेगा और यह आउटडेटेड भी नहीं है।

    #2

     iPhone 6s, 6s प्लस और se में 12 मेगापिक्सल का आई साइट कैमरा दिया गया है। जबकि दूसरी ओर iPhone 6 और 6 प्लस अब भी एप्पल के पुराने 8 मेगापिक्सल कैमरे का इस्तेमाल करता है। इस कारण इससे लिए गए फोटो 12 मेगापिक्सल की तुलना में ज्यादा बेहतर नहीं आते।

    #3

    यही अंतर फ्रंट कैमरे के साथ भी है। iPhone 6, 6 प्लस और se में 5 मेगापिक्सल का फेस टाइम कैमरा दिया गया है। जबकि iPhone 6 और 6 प्लस एप्पल के पुराने 1.2 मेगापिक्सल फेस टाइम कैमरे के साथ आता है। अगर आप सेल्फी लेने के शौक़ीन हैं, तो ये अंतर आपको बड़ा लग सकता है। iPhone SE के साथ ही 6s और 6s प्लस में एप्पल का नया रेटिना फ्लैश दिया गया है। जो आपके पिक्चर क्वालिटी के अनुभव को लाजवाब बनाता है।

    #4

    iPhone 6 और 6 प्लस का डिस्प्ले 6s और 6s प्लस की तरह ही 4.7/5.5 इंच का है। दोनों के बीच सिर्फ स्क्रीन फंक्शन का अंतर है। iPhone 6s और 6s प्लस एप्पल के 3D टच तकनीक को सपोर्ट करता है। इस फीचर की मदद से आप स्क्रीन पर जोर से दबाकर सेकेंडरी ऐप मेनू में अपने आप पहुँच जाते हैं। यह एडवांस फीचर फोन की इन सीरीज के बीच बड़ा अंतर है।

    #5

    iPhone 6 और 6 प्लस के महत्वहीन होने का सबसे बड़ा कारण इनकी कीमत है। iPhone SE को करीब 400$ में पेश किया जाने वाला है। इस कीमत में ग्राहकों को लेटेस्ट फीचर वाला फोन मिल रहा है, जो उनके लिए अच्छा है। वहीँ आप अगर बड़ी या सबसे बड़ी स्क्रीन चाहते हैं, तो iPhone 6s ($ 650) और iPhone 6s प्लस को ($750) में खरीद सकते हैं। जबकि iPhone 6 की कीमत $ 550 है और iPhone 6 प्लस को खरीदने के लिए $ 650 खर्च करने होंगे। लेकिन इतने पैसे खर्च करने के बाद भी आपको एक ऐसा फोन मिलता है, जिसके फीचर आउटडेटेड हैं और नए iPhone सीरीज से काफी पीछे हैं। इसलिए ऐसा करना कोई समझदारी नहीं मानी जाएगी।


    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    English summary
    People are crazy for iPhone. The one who can afford they and even the who can not afford. It is everyone's dream to have a iPhone in hand. But today we something for you. Hare are the Reasons why you shouldn't buy an iPhone.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more