अब हाथ भी करेंगे टच स्‍क्रीन का काम

Posted By: Staff

अब हाथ भी करेंगे टच स्‍क्रीन का काम

कितना अच्‍छा होता अगर हमे फोन मिलाने के लिए फोन को निकालने की जरूरत ही नहीं पड़ती, बस हाथ की हथेली पर नंबर डायल करते और फोन मिल जाता है, आप सोंच रहें होंगे यह तो हो ही नहीं सकता। इस हाइटेक युग से सबकुछ संभव है। वाशिंगटन स्थित माइक्रोसॉफ्ट रिर्सच सेंटर में पीएचडी के स्‍टूडेंट क्रिस हैरिसन और उनकी टीम ने ओमिनी टच नाम से एक ऐसी डिवाइस तैयार की है जिसकी मदद से किसी भी सतह या फिर चीज को टच इंटरफेस के रूप में बदल सकते हैं।

इस डिवाइस में एक प्रोजेक्‍टर लगा हुआ है जो यूजर के सामने की सतह पर प्रोजेक्‍शन द्वारा कंप्‍यूटर जिनती बड़ी स्‍क्रीन तैयार करता है, स्‍क्रीन के साइज को घटा बड़ा भी सकते हैं, स्‍क्रीन में दिए गए आइकॉन टच करने पर वैसा ही रिस्‍पांस देते हैं जैसे इस समय टच फोन में मिलता है। हैरिसन के अनुसार जब तक यह पूरी तरह से प्रयोग करने लायक नहीं हो जाती तब तक इसमें तकनीकी रूप से और उन्‍नत करने जरूरत है।

कैसे कार्य करती ओमिनी टच डिवाइस

हैरिसन के अनुसार इस डिवाइस के अंदर प्राइम सेंस तकनीक से लैस शार्ट रेंज कैमरा लगा हुआ है जो माइक्रो विजन शौ वैक्‍स और लेजर पीको प्रोजेक्‍टर की मदद से 320x240 की एक इमेज स्‍क्रीन तैयार करता है। ओमिनी टच को कंप्‍यूटर से कनेक्‍टर करने के बाद यह कंप्‍यूटर के सभी आइकॉन और फीचर को वॉल या फिर आपके हाथों में प्रोजेक्‍ट करता है। स्‍क्रीन में जब किसी आइकॉन को टच किया जाता है तो डिवाइस में लगे सेंसर उस जगह को सर्च करके रियेक्‍ट करते है और डिवाइस कंप्‍यूटर को उस रियेक्‍शन के बारे में तुरंत सूचित कर प्रोसीजर पूरा हो जाता है।

Please Wait while comments are loading...
#INDvsAUS: धोनी की जादूई स्टंपिंग ने बदला मैच का रुख, देखें वीडियो
#INDvsAUS: धोनी की जादूई स्टंपिंग ने बदला मैच का रुख, देखें वीडियो
इस खिलाड़ी से कोहली ने कहा- 'कैच पकड़ना नहीं आता तो स्लिप में खड़ा क्यों होता है'
इस खिलाड़ी से कोहली ने कहा- 'कैच पकड़ना नहीं आता तो स्लिप में खड़ा क्यों होता है'
Opinion Poll

Social Counting