फ्रीडम 251 से जुड़ी ये बातें जरुर जानना चाहेंगे आप!

Written By: Staff

फ्रीडम 251 मोबाइल के बारे में सुनकर आपके दिमाग की घंटी जरूर बजेगी। रिंगिंग बेल कंपनी द्वारा किए गए दावे के अनुसार यह देश का सबसे हाईटेक फोन होगा जो तमाम फीचर्स के साथ महज 251 रुपए में उपलब्ध कराया जाएगा। लेकिन लोगों के हाथ में मोबाइल आने से पहले ही ये विवादों में जाकर फंस गया। लांचिंग के दिन ही कुछ मिनट में मोबाइल कंपनी की वेबसाइट क्रेश हो गई।

वीक सिग्नल या नो नेटवर्क, ये 5 ट्रिक्स करेंगी मदद!

वहीँ, इसकी वास्तविकता को लेकर भी कई सारे सवाल मीडिया रिपोर्ट्स में खड़े किये गए। विवादों में फंसी कंपनी ने सरकारी दबाव बढ़ने पर लोगों को मोबाइल दिलाने का दावा किया है। इसके लिए जून तक का समय माँगा गया है। इसकी सच्चाई तो समय के साथ ही सामने आएगी, लेकिन हम आपको इस पूरे घटनाक्रम के बारे में कुछ रोचक बातें बताना चाहते हैं। आइये जानते हैं ऐसी ही रोचक बातें।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

#1

इस सब की शुरुआत 16 फरवरी को प्रिंड मीडिया में छपे बड़े-बड़े विज्ञापनों से हुई, जिसमें देश के सबसे सस्ते फोन का उदघाटन समारोह सरकार से जुड़े कुछ बड़े लोगों के आने का दावा किया गया। यह सब देखकर लोगों को लगा कि सरकार के द्वारा सबसे सस्ता फोन लॉन्च किया जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स में भी इस सबसे सस्ते फोन को लेकर चर्चा शुरू हो गई।

#2

दिल्ली के नेहरु पार्क में आयोजित लॉन्चिंग समारोह में केंद्र सरकार के मंत्रियों ने भी शिरकत की। कार्यक्रम काफी भव्य था, जिसमें कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुतियां हुईं। कार्यक्रम की भव्यता देखकर मीडिया को लगा कि यह एक बहुत बड़ा प्रोजेक्ट है। माना गया कि सरकार द्वारा मदद करने से या सब्सिडी देने से इस प्रकार का प्रोजेक्ट संभव है।

#3

खैर कार्यक्रम पूरा होने के बाद अब बारी मुख्य उद्देश्य की थी। जिस पर सभी की नजर थी। लेकिन यह क्या, कंपनी ने जो फोन अपना बताकर लोगों के सामने रखा, वह पहले से ही बाजार में बिक रहा था। यह फोन एड्कोम कम्पनी का था। कुछ समय बाद लोगों को समझ आ गया कि इस प्रोजेक्ट में सरकार का कोई दखल या योगदान नहीं है। कार्यक्रम में शामिल मंत्री भी लोगों को इस योजना के बारे में जागरूक करने के लिए थे। रिंगिंग बेल्स 3600 का मोबाइल 251 में बेचने की बात कह रही थी। जो संभव नहीं है।

#4

तमाम बाधाओं के बाद आखिर कंपनी ने 18 फरवरी को ऑनलाइन बुकिंग की शुरुआत की। जिसे लोगों का जबरदस्त रिस्पोंस मिला। इस कारण कुछ ही घंटों में वेबसाइट क्रेश हो गई। लोगों की शिकायत से जिज्ञासा और बड़ी। साइट क्रैश होने पर कंपनी के सीईओ मोहित ने लोगों से माफ़ी मांगी और अगले दिन शुरुआत करने का भरोसा दिया।

#6

साइट शुरू होने के बाद कंपनी ने दावा किया कि 70 मिलियन लोगों ने बुकिंग की। जिस पर उन्हें फुली हाईटेक मोबाइल को जून माह तक घर तक पहुंचाने का दावा किया। बाद में कंपनी के सीईओ ने बताया कि भुगतान की सुविधा के लिए कैश ऑन डिलेवरी शुरू की जा रही है।

#7

विवाद खड़ा होने पर जनता का दबाव बड़ा और सरकार ने रिंगिंग बेल्स कंपनी की जांच शुरू करने का आदेश दिया। इसके बाद कंपनी के एमबीए सीईओ और कंपनी से जुडी कई साड़ी ऐसी बातें सामने आईं, जिससे लोगों का भरोसा उठ गया। दरअसल, कंपनी के पास इतने सारे फोन उपलब्ध कराने के लिए कोई संसाधन ही नहीं पाए गए। एड्कोम कंपनी ने भी रिंगिंग बेल्स पर केस ठोकने की बात कही गई। इस तरह फ्रीडम 251 ऐसे अंजाम तक जा पहुंचा।


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

English summary
Let's uncover how all these events planned out over the weeks and got the company trapped into multiple court hearings that the promoters would be attending in the days to come.
Please Wait while comments are loading...
सितंबर की शुरुआत में आएगा 200 रुपए का नोट, होंगे ये 2 फायदे
सितंबर की शुरुआत में आएगा 200 रुपए का नोट, होंगे ये 2 फायदे
सबसे ज्यादा कमाते हैं शाहरुख-सलमान, ये रही टॉप-10 की लिस्ट
सबसे ज्यादा कमाते हैं शाहरुख-सलमान, ये रही टॉप-10 की लिस्ट
Opinion Poll

Social Counting