मुस्लिमों के लिए आईटेल ने बनाया खास मोबाइल

Posted By: Staff

मुस्लिमों के लिए आईटेल ने बनाया खास मोबाइल

नोकिया, सैमसंग, एलजी, ब्‍लैकबेरी और सोनी जैसे दिग्‍गज ब्रांडों के नाम तो आपने सुने होंगे मगर पीसी बाजार में आईटेल नाम की नई मोबाइल कंपनी के फोन ने खलबली मचा दी है। आईटेल का आई 786 काफी चर्चा का विष्‍ाय बना हुआ है। आप सोंच रहें होंगे ऐसा कौन सा फीचर है जो और किसी में नहीं है। 2009 में स्‍थापित आईटेल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने मुस्लिमों के लिए खास फोन लांच किया है। कंपनी इससे पहले भी अपने कई उत्‍पादों को लांच कर चुकी है।

आईटेल के आई 786 में मुस्लिमों के लिए कई तरह की नई एप्‍लीकेशन दी गईं है। फोन में आजान एर्लाम और प्रार्थना सभाओं का सही सही समय दर्ज है फोन में दिया गया जकात कैलकुलेटर इसका सबसे शानदार फीचर है। कंपनी के एक अधिकारी ने फोन की लांचिंग के मौके पर बताया कंपनी ने इस फोन को केवल कंपनी लाभ के लिए नहीं बनाया है बल्‍की समाज के प्रति कंपनी की कुछ जिम्‍मेदारियां भी है। आई 786 से होने वाले लाभ का 2.5 प्रतिशत हिस्‍सा कंपनी गरीब मुस्लिम बच्‍चों के ऊपर खर्च करेगी।

फीचरों के मामले में आई 786 एक साधारण फोन है। ड्यूल सिम सपोर्ट के साथ फोन में दिया गया मल्‍टीमीडिया प्‍लेयर एमपी3, एमपी4 के अलावा कई फार्मेट को सपोर्ट करता है। डेटा ट्रासफर के लिए आई 786 में ब्‍लूटूथ का फीचर भी दिया गया है। कैमरे की बात करें 1.3 मेगापिक्‍सल कैमरे की क्‍वालिटी साधारण है, फोन में फोटो कैपचरिंग के साथ वीडियो रिर्काडिंग भी की जा सकती है।

आप बता सकते है यह खास फोन कितनी तरह की भाषाओं को सपोर्ट करता है नहीं तो हम बता देते है आईटेल का नया फोन 11 भाषाओं को सपोर्ट करता है। जिसमें उर्दू, हिन्‍दी, इंडोनेशियन, अंग्रेजी प्रमुख है। कंपनी के एक अधिकारी के अनुसार भारतीय बाजार में आई 786 की अनुमानित कीमत 2,999 रूपए के करीब होगी।

आईटेल आई 786 के फीचर एक नजर में

  • आजान एर्लाम और प्रार्थना सभाओं का समय
  • 1.3 मेगापिक्‍सल कैमरा
  • जकात कैलकुलेटर
  • ब्‍लूटूथ

Please Wait while comments are loading...
आज हड़ताल पर देशभर के बैंक, सिर्फ इन बैंकों में होगा काम
आज हड़ताल पर देशभर के बैंक, सिर्फ इन बैंकों में होगा काम
हीरोइन बनाने की बात कह लड़कियों को बुला लेता, फिर शुरू होता गंदा खेल
हीरोइन बनाने की बात कह लड़कियों को बुला लेता, फिर शुरू होता गंदा खेल
Opinion Poll

Social Counting