अब हिन्‍दी में टाइप करें मोबाइल मैसेज

Posted By:

अब हिन्‍दी में टाइप करें मोबाइल मैसेज

अगर आप अपने एंड्रायड फोन में केवल इंग्‍लिश कीबोर्ड की वजह से मैसेज टाइप नहीं कर पाते तो दोस्‍तों एंड्रायड ट्विक डॉट इन की नई एंड्रायड एप्‍लीकेशन की मदद से आप हिन्‍दी के अलावा मलयालम भाषा में भी मोबाइल मैसेज टाइप कर सकते हैं। नई इंडिक एप्‍लीकेशन को आप अपने एंड्रायड फोन में गूगल प्‍ले से फ्री मे डाउनलोड कर सकते हैं। इंडिक एप्‍लीकेशन ट्विक डॉट इन आईस्‍क्रीम सैंडविच प्‍लेटफार्म के अलावा लेटेस्‍ट जैली बीन ओएस प्‍लेटफार्म भी सपोर्ट करती है। यानी आप इसे नए वर्जन के स्‍मार्टफोन में भी डाउनलोड कर सकते हैं।

कैसे काम करती है ये एप्‍लीकेशन

इस एप्‍लीकेशन को हमने गैलेक्‍सी एस 3 में डाउनलोड कर ट्राई किया। एप्‍लीकेशन को गूगल प्‍ले से इंस्‍टाल करने के बाद फोन की सेटिंग में जाकर Language & Input option में जाकर अपनी पंसद की भाषा सलेक्‍ट करने के बाद आप हिन्‍दी कीबोर्ड का प्रयोग कर सकते हैं। लेकिन एप्‍लीकेशन को प्रयोग करने पर कुछ दूसरी चीजों के बारे में जानकारी मिली जैसे टेक्‍ट टाइम करने के दौरान आपको एरर करेक्‍शन, टेक्‍ट प्रीडिक्‍शन यानी अपने आप एरर दूर करने के अलावा कई दूसरे फीचर नहीं मिले।

स्‍विफ्ट की

पिछले महिने स्‍विफ्ट की नाम की एप्‍लीकेशन लांच हुई थी जिसमें हिन्‍दी और अंग्रेजी भाषा के अलावा 54 अलग अलग भाषाओं का प्रयोग किया जा सकता है। यूजर स्‍विफ्ट की को गूगल प्‍ले से 99 रुपए में डाउनलोड कर सकता है।

स्‍विफ्ट की एप्‍लीकेशन दो वर्जनों में उपलब्‍ध है जिसमें आप फुल और फ्री ट्रायल स्‍विफ्ट की दोनों में कोई भी वर्जन डाउनलोड कर सकते हैं।

पिछले साल जून में गूगल ने एनाउस किया था कि उसका एंड्रायड 4.1 जैली बीन प्‍लेटफार्म भारतीय भाषाओं हिन्‍दी, मलयालम, तेलगू के अलावा मलयालम सहित18 भाषाओं को सपोर्ट करेगा।

 

पढ़ें: बिना ब्‍लूटूथ के इन 5 मोबाइलों से एनएफसी द्वारा ट्रांसफर कर सकते हैं डेटा

Please Wait while comments are loading...
मुजफ्फरनगर ट्रेन हादसा: नॉर्दन रेलवे के जीएम समेत 8 के खिलाफ एक्‍शन
मुजफ्फरनगर ट्रेन हादसा: नॉर्दन रेलवे के जीएम समेत 8 के खिलाफ एक्‍शन
मुंबई: सड़क हादसे में दो टीवी एक्टर्स की मौत, कलर्स के एक सीरियल में काम करते थे दोनों
मुंबई: सड़क हादसे में दो टीवी एक्टर्स की मौत, कलर्स के एक सीरियल में काम करते थे दोनों
Opinion Poll

Social Counting