एलजी के शानदार फीचरों ने दी सैमसंग को मात

Posted By:

एलजी के शानदार फीचरों ने दी सैमसंग को मात

 

आजकल मोबाइल बाजार में हर कंपनी एक दूसरी कंपनी को चुनौती देती हुई नज़र आ रही है। चाहे वह सैमसंग, एचटीसी, एलजी या फिर नोकिया ही क्‍यों न हों, सभी एक के बाद एक अपने शानदार और फीचरों से लैस स्‍मार्टफोन लांच करती जा रहीं हैं। वहीं पर मोबाइल मार्केट में जल्‍द ही एलजी ऑप्‍टिमस ब्‍लैक और सैमसंग अपने रिप्‍लेनिश लांच करने जा रहे हैं।

दोनों ही फोन कैंडी बार के आधार पर डिजाइन किए हुए हैं। अब देखना यह है कि कौन सा मोबाइल कितना बेहतर है। अगर बात करें एलजी ऑप्‍टिमस ब्‍लैक के फीचरों की तो यह एक टच स्‍क्रीन फोन है जिसका आकार 122 x 64 x 9.2 एमएम और भार केवल 109 ग्राम ही है। इसकी 4 इंच की स्‍क्रीन का रेजूलूशन 480 x 800 पिक्‍सल है।

फोन में अच्‍छी परफार्मेंस के लिए एंड्राएड 2.2 फ्रयो आपरेटिंग सिस्‍टम दिया गया है जो 1 गीगाहर्ट के ड्यूल कोर प्रोसेसर पर रन करता है। इसके साथ ही इसमें 512 एमबी रैम, 1 जीबी बिल्‍ट इन मेमोरी के अलावा 32 जीबी तक मेमोरी बढाने की सुविधा दी हुई है। फोन में दो कैमरे दिए हुए हैं जिसमें से 5 मेगापिक्‍सल वाले केमरे में लिड फ्लैश और ऑटो फोकस की सुविधा है। और इसके साथ सामने की ओर 2 मेगापिक्‍सल कैमरा भी दिया हुआ है।

इसके अलावा अगर सैमसंग के रिप्‍लेनिश की बात करें तो 2.8 इंच की टीएफटी मल्‍टी टच स्‍क्रीन का रेजूलूशन 240 x 320 पिक्‍सल है। फोन में 2.2 फ्रयो ओएस के साथ 600 मेगा‍हर्ज का सिंगल कोर प्रोसेसर दिया हुआ है। इसके अलावा 512 एमबी रैम और 512 एमबी रौम दिया हुआ है। आप अपनी सुविधा अनुसार मोबाइल में 32 जीबी तक मेमोरी को बढा भी सकते हैं। कैमरे की जगहं इसमें केवल 2 मेगापिक्‍सल का कैमरा दिया हुआ है, जो कि आपको निराश कर सकता है।

फिलहाल दोनों ही कंपनियों कि तरफ से अभी कीमत के बारे में कोई खुलासा नहीं किया गया है पर संभावना है कि सैमसंग 10,000 रु के आसपास है और एलजी 20,000 रु के आसपास हो सकता है।

Please Wait while comments are loading...
दिवाली पर युसुफ पठान ने जवानों को खिलाई मिठाई, लोगों ने की तारीफ
दिवाली पर युसुफ पठान ने जवानों को खिलाई मिठाई, लोगों ने की तारीफ
Video: 78 ओवर में 4 रन भी नहीं बना पाई पाकिस्तानी टीम, खड़ा हुआ नया विवाद
Video: 78 ओवर में 4 रन भी नहीं बना पाई पाकिस्तानी टीम, खड़ा हुआ नया विवाद
Opinion Poll

Social Counting