आंखों और नींद पर मोबाइल का प्रभाव

Written By:

    कई बार आपने बड़े लोगों को कहते हुए सुना होगा कि रात में मोाबइल मत चलाओ, आंखें खराब हो जाएगी।

    आंखों और नींद पर मोबाइल का प्रभाव

    लेकिन क्‍या वाकई में ऐसा होता है। रात में मोबाइल चलाने से आंखों और नींद पर कितना दुष्‍प्रभाव पड़ता है इसके बारे में जानने के लिए इस आर्टिकल को ध्‍यान से पढें।

    लेईको की सुपर टीवी देगी मूवी देखने का सुपर मज़ा

    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    सोने-जागने पर कोई प्रभाव नहीं

    आपकी जानाकरी के लिए बता दें कि मोबाइल के चलाने से सोन या जागने के चक्र पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।

    स्‍लीप पैरामीटर में कोई फर्क नहीं

    मोबाइल के चलाने से इंसान के सोने के पैरामीटर में कोई फर्क नहीं पड़ता है। यह सर्वे, रात को मोबाइल चलाने वालों से पूछकर किया गया, जिसमें उन्‍होंने नींद से सम्‍बंधित किसी भी समस्‍या के लिए मोबाइल को कारण नहीं बताया।

    नींद में कमी

    हमारे शरीर में मेलाटोनिन नामक हारमोन होता है जो नींद के लिए जिम्‍मेदार होता है। मोबाइल के इस्‍तेमाल से यह शरीर में कम नहीं बनता है बल्कि सामान्‍य ही बनता है।

    मेलाटोनिन की कमी, कैंसर का कारण

    एक अध्‍ययन से मालूम चला है कि मेलाटोनिन की कमी से शरीर में कैंसर सेल्‍स के एक्टिव होने का खतरा बहुत ज्‍यादा रहता है।

    मेलाटोनिन की कमी से होता है डिप्रेशन

    अगर शरीर में नींद के हारमोन की कमी हो जाती है तो इससे डिप्रेशन होने का खतरा बहुत बढ़ जाता है।

    आंखों को नुकसान

    रात में मोबाइल से जो रोशनी निकलती है उसकी ब्राइटनेस को बहुत धीमा करने से आंखों पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए, रात में मोबाइल चलाना हो, तो कोई लाइट ऑन रखें।


    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    English summary
    A recent study has proved that using your smartphone at night before sleep is no more a problem as it is not linked to causing any disorder as it was believed to. Take a look!
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more