मोबाइल को साधारण टीवी पर कैसे करें मिररिंग

Written By:

आप अपने घर में अगर स्‍मार्टटीवी लाते हैं तो उसे फोन से कनेक्‍ट करते हुए उसमें टीवी को आसानी से देख सकते हैं। इसके लिए जरूरी नहीं है कि आपको एप्‍पल टीवी आदि की आवश्‍यकता पड़े।

मोबाइल को साधारण टीवी पर कैसे करें मिररिंग

अपने एंड्रायड फोन के जीपीएस की स्पीड बढाएं, फ़ॉलो करें ये स्टेप्स

आप अपने फोन से स्‍मार्टटीवी को कनेक्‍ट करना अच्‍छी तरह जानते हैं लेकिन अगर आपके पास स्‍मार्ट टीवी नहीं है तो ऐसे में क्‍या करना चाहिए, आइए जानते हैं कि किस तरह फोन की स्‍क्रीन को टीवी से मिररिंग कर सकते हैं:

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

एचडीएमआई

"High-Definition Multimedia Interface" या HDMI सबसे कॉमन तरीका है। स्‍मार्टफोन कनेक्‍शन के संदर्भ में, यह तीन श्रेणियों में आता है। ए, सी और डी। ये सामान्‍य, मिनी और माईक्रो कैटेगरी होती है। इनकी मदद से टीवी को कनेक्‍ट किया जा सकता है।

एमएचएल

मोबाइल हाई-डेफीनेशन लिंक -

अगर आपकी डिवाइस, एचडीएमआई को सपोर्ट नहीं करती है तो आप इसकी मदद से टीवी को कनेक्‍ट करके एंटरटेनमेंट का जरिया ढूंढ सकते हैं।

 

क्रोमकास्‍ट

गूगल का क्रोमकास्‍ट सबसे सरल और सस्‍ता तरीका है जिसकी मदद से टीवी को कनेक्‍ट किया जा सकता है। इसकी मदद से टीवी को स्‍मार्टफोन से मिररिंग किया जा सकता है।

मीराकास्‍ट

अगर आपके एंड्रायड फोन में वर्जन 4.2 से अधिक है तो इस वायरलेस डिस्‍प्‍ले के नाम से जाने जाने वाले विकल्‍प से आप अपनी टीवी को स्‍मार्टफोन से कनेक्‍ट करके लुत्‍फ़ उठा सकते हैं।


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज



English summary
Whether it is a Daredevil on Netflix, some viral video on Youtube, or watching the TED talks, your smartphone is a great way to access a huge amount of content without having to invest in some costly Apple TV or Set-Top box.
Please Wait while comments are loading...
नागालैंड की इन महिलाओं ने दुनिया के सामने पेश की नई मिसाल
नागालैंड की इन महिलाओं ने दुनिया के सामने पेश की नई मिसाल
अगर की ये गलती, तो jio phone के सिक्योरिटी वाले 1500 रुपए 3 साल बाद भी नहीं मिलेंगे वापस
अगर की ये गलती, तो jio phone के सिक्योरिटी वाले 1500 रुपए 3 साल बाद भी नहीं मिलेंगे वापस
Opinion Poll

Social Counting