जानिए कैसे आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा रहे हैं ये गैजेट्स

Posted By:

    सेलफोन के कितने फायदे हो सकते हैं इस बारे में आप सभी जानते हों लेकिन इसके कौन-कौन से नुकसान है इसके बारे में शायद हम से काफी कम लोगों को पता होगा। गैजेट्स जहां एक ओंर हमारी लाइफ आसान बना रहे हैं वहीं ये हमारी सेहत को कई तरह से नुकसान भी पहुंचा रहे हैं।

    पढ़ें: नया एंड्रायड फोन लेने के बाद ध्‍यान में रखें ये 10 बातें

    मोबाइल रेडिएशन के बारे में तो आप सभी ने सुना होगा। ये रेडिएशन बात करते समय हमारे दिमाग पर असर डालता है। इसके अलावा ऐसे कई गैजेट्स है जो हमारी सेहत को अलग-अलग तरीके से नुकसान पहुंचाते हैं।

    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    1. Smartphone stress

    क्‍या आपने कभी ध्‍यान दिया है जो लोग दिन भर फोन में बात करते रहते हैं उन्‍हें थकान कुछ ज्‍यादा महसूस होती है। इसका कारण बार-बार फोन को रिसीव करना, उसे कॉनो में लगाना, बार-बार मैसेज चेक करना या फिर फोन में इंटरनेट सर्फिंग करना हो सकता है। ये सभी काम जो हम फोन में करते रहते हैं शाम तक हमें थका देता है इसका एक ही इलाज है फोन वाइब्रेट मोड पर लगा दें और जरूरी काल आने पर ही उसे रिसीव करें। फोन को टाइम पास का जरिया न बनाएं।

    2. Acne caused by cell phones

    ये थोड़ा अजीब है लेकिन लेकिन अगर आप अच्‍छी तरह नहीं सोते हैं तो रात में न सोने का कारण स्‍मार्टफोन हो सकता है। इसके अलावा फोन की स्‍क्रीन में लगे बैकटीरिया की वजह से हमारे चेहरे में इंफेक्‍शन और दाग हो सकते हैं।

    3. BlackBerry thumb

    अगर आप ब्‍लैकबेरी यूजर है तो आपके अंगूठे में दर्द हो सकता है, ब्‍लैकबेरी के पुराने मॉडल में ट्रैक बॉल होती थी जिसकी मदद से स्‍क्रीन में स्‍क्रॉल करते थे। दिन भर इस बॉल में अंगूठे से स्‍क्रॉल करने पर आपके अंगूठें में दर्द हो सकता है।

    4. Radiation from cell phones

    सेलफोन हमेशा रेडिएशन किरणें निकालते रहते हैं, खासकर जब सिग्‍नल कमजोर होता है उस समय सबसे ज्‍यादा रेडिएशन फोन से निकलता है। अक्‍सर देखा गया है रात में सोते समय लोग फोन अपने सिर के पास रखकर सोते हैं जो सेहत के लिए घातक हो सकता है।

    5. Cell phone sickness.

    रिसर्च में पता चला है हमारे मोबाइल फोन में करोंड़ों तरह से माइक्रोआर्गेनिज्‍म होते हैं तो हमें इंफेक्‍शन दे सकते हैं। खासकर छोटे बच्‍चों को अपना सेलफोन बिल्‍कुल न दें क्‍योंकि वे उन्‍हें तुरंत मुंह में डालने लगते हैं जो बच्‍चों की सेहत पर बुरा असर डाल सकता है।

    6. Cell phones and car accidents

    हर साल सेलफोन की वजह से ढेरों एक्‍सीडेंट होते हैं। कार ड्राइव करते टाइम फोन कॉल रिसीव करना, मैसेज करना एक्‍सीडेंट के मुख्‍य कारण होते हैं इसलिए जब भी कार ड्राइव करें सेलफोन को या तो बंद कर दें या फिर साइलेंट मोड में लगा दें।

    7. Allergies and cell phones

    जैसे कुछ लोगों को धूल या फिर कुत्‍तों से एलर्जी होती है वैसे ही कई लोगों को फोन से भी एलर्जी होती है। इससे लोगों को कई छोटे-छोटे रोग होने लगते हैं।

    8. Crazy phones

    आपने कई सिंड्रोम सुने होंगे सेलफोन सिंड्रोम भी एक तरह की बीमारी है जो कई लोगों को हो जाती है। ऐसे में हर थोड़ी देर में ऐसा लगेगा जैसे आपका फोन वाइब्रेट कर रहा है या फिर किसी ने कॉल किया है जबकि ऐसा कुछ भी नहीं होता।

    9. Computers causing wrist pain

    पीसी में देर तक काम करने वालों के हाथों में अक्‍सर दर्द होता रहता है इसके लिए हर 1 घंटे में कुछ देर के लिए पीसी के सामने से उठ कर चहल कदमी करना जरूरी है।

    10. Computers causing back and neck pain

    इसके अलावा पीसी में काम करने वालों के बैक यानी पीठ में दर्द की समस्‍या आम है, इसे अगर समय रहते दूर न किया गया तो ये भयानक दर्द में तब्‍दील हो जाता है।


    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    English summary
    With cell-phones confirming dinner reservations, Facebook giving us new friends, and laptops as light as air, technology may seem nothing but valuable.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more