कमरे में बनाई वेबसाइट, बेंचने पर मिल रहे थे 42 करोड़ रुपए ठुकराए

Written By:

यदि आपसे पूछें कि 16 साल कि उम्र में आप क्या कर रहे थे, तो शायद आप कहेंगे खेल-कूद और पढ़ाई। खली समय में तो बच्चे किताबों को हाथ लगाना भी पसंद नहीं करते।

वहीं अगर हाथ में कंप्यूटर, लैपटॉप हो तो बच्चे विडियो गेम, यूट्यूब आदि में मस्त रहते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि एक 16 साल के ही युवक ने ऐसी वेबसाइट डिज़ाइन की जिसके लिए उसने 42 करोड़ से भी अधिक का ऑफर ठुकरा दिया है।

इस देश में हैं 30 करोड़ से ज्यादा स्‍मार्टफोन यूजर

कमरे में बनाई वेबसाइट, बेंचने पर मिल रहे थे 42 करोड़ रुपए ठुकराए

हम बात कर रहे हैं 16 साल के मुहम्मद अली की, जिसने अपने कमरे में डिज़ाइन की हुई इस वेबसाइट के लिए 42 करोड़ से अधिक रुपए लेने से इनकार कर दिया है। उनका कहना है कि इस वेबसाइट की कीमत आगे चलकर काफी अधिक हो सकती है। मुहम्मद की वेबसाइट का नाम weneed1.com है।

लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

1:

डेव्सबरी, यॉर्कशायर के रहने वाले मुहम्मद अली का कहना है कि उन्हें यह ऑफर क्रिसमस से ठीक एक दिन पहले मिला था, जिसे उन्होंने ठुकरा दिया। वह इंवेस्टर्स से लंदन में मिले थे, जो कि ग्लोबल डाटा कंपनी से थे।

2:

उनका मानना है कि है कि जिस टेक्नोलॉजी कांसेप्ट के लिए उन्हें आज इतने रुपए दिए जा रहे हैं, उसकी कीमत तब और भी अधिक होगी जब लोग टेक्नोलॉजी को जान जाएंगे और उसका इस्तेमाल करने लगेंगे।

प्राइस कॉम्पैरिजन वेबसाइट

अली ने यह वेबसाइट अपने 60 साल के बिज़नस पार्टनर क्रिस थोर्प के साथ मिलकर बनाई है। यह एक प्राइस कॉम्पैरिजन वेबसाइट है।

4:

बता दें कि साल 2012 में अली को उनके प्रोजेक्ट 2006 विडियो गेम के लिए 30,000 पौंड दिए गए थे। इस तस्वीर में आप देख सकते हैं अली को जब वह महज 4 साल के थे।


लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

English summary
16 year old Mohommed ali has rejected 42 cr rupees for his website. Read more in Detail.
Please Wait while comments are loading...
काम की खबर: इस कोड से कराएं Jio रिचार्ज, 76 रुपए हो जाएंगे वापस
काम की खबर: इस कोड से कराएं Jio रिचार्ज, 76 रुपए हो जाएंगे वापस
TRICK: ऐसे चुपके से जानें किसी की भी कॉल डीटेल्स और मैसेज
TRICK: ऐसे चुपके से जानें किसी की भी कॉल डीटेल्स और मैसेज
Opinion Poll

Social Counting