इंडोनेशिया ने सायबर धोखाधड़ी में 143 लोगों को किया देश से बाहर

Written By:

सायबर अपराध के आरोप में गुरुवार को इंडोनेशिया में देश में रह रहे करीब 143 विदेशी नागरिकों को देश से बाहर कर दिया। रिपोर्ट्स के मुताबिक आरोपी विदेशी नागरिक पॉलिटिशियन और ऑफिसर्स की जानकारी इकट्ठा कर रहे थे और इसके लिए कम्प्यूटर एक्सपर्ट की मदद ले रहे थे। सरकार ने सभी आरोपियों को गुरुवार सुबह चीन के तियानजिन प्रत्यर्पित कर दिया है।

इंडोनेशिया ने सायबर धोखाधड़ी में 143 लोगों को किया देश से बाहर

खास फीचर की मदद से क्राइम रोक सकता है ट्विटर

'एफे' की रिपोर्ट के अनुसार, इंडोनेशिया सायबर पुलिस ने चीन और ताइवान के करीब 143 नागरिकों को प्रत्यर्पित किया गया था। इन विदेशी नागरिकों पर ने सायबर धोखाधड़ी के जरिए राजनेताओं और वरिष्ठ चीनी अधिकारियों के बारे में जानकारी इकट्ठा करने के का आरोप है। पुलिस के मुताबिक आरोपी इस काम के लिए कंप्यूटर विशेषज्ञों का इस्तेमाल करते थे और इसके बाद कानून प्रवर्तन अधिकारियों के रूप में खुद को पेश कर पैसे के बदले मामलों को निपटाने की पेशकश करते थे।

PAKISTAN सरकार की वेबसाइट पर हैक, तिरंगा फहराकर हैकर्स ने दिया ये मैसेज

पुलिस ने सभी आरोपियों को हिरासत में लेकर गुरुवार सुबह चीन के तियानजिन भेज दिया गया है। 29 जुलाई को जर्काता व अन्य इंडोनेशियाई शहरों से करीब 306 लोग गिरफ्तार किए गए थे, जिनमें चीनी, इंडोनेशियाई और मलेशियाई नागरिक शामिल हैं।

Paytm पर मनी ट्रांसफर हुआ और भी आसान, कंपनी ने लॉन्च की नई सर्विस

पुलिस के अनुसार, ये लोग कानूनी मामलों का सामना कर रहे राजनेताओं और वरिष्ठ चीनी अधिकारियों के बारे में जानकारी इकट्ठा करने के लिए इंडोनेशिया में इस आपराधिक संगठन ने लोगों से अनुमानित करीब 45 करोड़ डॉलर ठगे हैं।



Read more about:
English summary
50 Internet scammers deports to China by Indonesia. for more detail read in hindi.
Please Wait while comments are loading...
इस दर्दनाक दास्‍तां को सुन रो पड़ेंगे आप, पति के सामने रोज पत्‍नी से होता था रेप, दो बच्‍चों को दिया जन्‍म
इस दर्दनाक दास्‍तां को सुन रो पड़ेंगे आप, पति के सामने रोज पत्‍नी से होता था रेप, दो बच्‍चों को दिया जन्‍म
7 साल बाद अपनी जमीं पर खेले दिनेश कार्तिक, इस खिलाड़ी की जगह ली
7 साल बाद अपनी जमीं पर खेले दिनेश कार्तिक, इस खिलाड़ी की जगह ली
Opinion Poll

Social Counting