Jio और Airtel के बाद अब Vodafone भी सिर्फ 4G सेवाओं पर देगा ध्यान

    भारत की जानी मानी टेलिकॉम कंपनियां आए दिन अपने यूजर्स के लिए प्लान्स निकालती रहती है। साथ ही कंपनियां एक दूसरे को कड़ी टक्कर देती रहती है। बाजार में रिलायंस जियो उतरने के बाद यह जंग और भी ज्यादा बढ़ गई है। सभी कंपनियां टॉप पर रहने के लिए कड़ी मेहनत कर रही हैं।

    Jio और Airtel के बाद अब Vodafone भी सिर्फ 4G सेवाओं पर देगा ध्यान

     

    बता दें, टेलिकॉन कंपनी एयरटेल ने अपने नेटवर्क का सफर 2G और 3G नेटवर्क से शुरु किया। बाद में कंपनी ने 4G LTE तक अपनी नेटवर्क कनेक्टिविटी को फैलाया। हालांकि अब कंपनी अपने 2जी और 3जी नेटवर्क को आराम देकर अपना पूरा ध्यान 4जी एलटीई पर लगा लिया है।। एयरटेल कंपनी अपने पुराने 2जी और 3जी नेटवर्क को बंद कर सिर्फ LTE ब्रांड बनने की तैयारी में लगा हुआ है। एयरटेल ने अपनी यह तैयारी पूरी नहीं की वोडाफोन भी इस दौड़ में शामिल हो गई है। नई विलय वाली टेलिकॉम कंपनी ने बताया की वह अपने स्पेक्ट्रम का इस्तेमाल करेगा। वोडाफोन इसके साथ रिलायंस जियो को भी टक्कर देगा।

    वोडाफोन-आइडिया का नया प्लान

    वोडाफोन-आइडिया 2जी नेटवर्क की बजाय बेहतर 4जी सेवाओं को तैनात करने के लिए देश में 900 मेगाहट्र्ज स्पेक्ट्रम का इस्तेमाल करेगा। जिसके लिए फिलहाल में स्पेक्ट्रम का इस्तेमाल किया जा रहा है। बता दें, दूरसंचार मुंबई में परीक्षण कर रहा है। जहां वह 4जी नेटवर्क सेवाओं के लिए 900 मेगाहर्ट्ज बैंड का इस्तेमाल कर रहा है और यह उम्मीद की जाती है कि इस बदलाव को जल्द ही बाकी सर्कल में लागू किया जाएगा।

    यह भी पढ़ें:- Jio के बाद अब Airtel और Voda ने भी पोर्न साइट्स को किया बैन

    वोडाफोन आइडिया के 17 सर्किलों में 900 मेगाहट्र्ज स्पेक्ट्रम है। वहीं, 3 जी स्पेक्ट्रम 22 बाजारों में 2100 मेगाहट्र्ज बैंड में है। वहीं भारतीय एयरटेल की बात करें तो एयरटेल की सीईओ गोपाल मित्तल ने ET से बात करते हुए कहा कि 3जी सर्विस में कंपनी को जितना रेवन्यू जनरेट करना चाहिए, उतना कंपनी कर नहीं रही है।

     

    दूसरी तरफ 4जी की बढ़ती डिमांड को देखते हुए कंपनी 2G सर्विस में इस्तेमाल होने वाले 900MHz बैंड की बजाए LTE सर्विस में इस्तेमाल होने वाले 1800MHz का इस्तेमाल कर सकती हैं। फिलहाल जियो ही एकमात्र टेलिकॉम कंपनी है जो एलटीई-ओनली सर्विस प्रोवाइड करती है। जियो में आपको 2जी और 3जी सर्विस नहीं मिलती है क्योंकि जियो कंपनी ने शुरू से ही इस कॉन्सेप्ट को अपनाया हुआ है। जिससे जियो कंपनी को काफी सफलता भी हासिल हुई। जिसकी वजह से ही शायद अब एयरटेल और वोडाफोन कंपनी भी इस फॉर्मूले को अपनाना चाहती है।

    यूजर्स को होगा काफी फायदा

    वोडाफोन की इस 4 जी योजना के चलते स्पेक्ट्रम प्रबंधन के विशेषज्ञों में से एक ने ईटी को बताया कि, "900 मेगाहट्र्ज बैंड को फिर से शुरू करने से वोडाफोन आइडिया की एलटीई क्षमता में काफी वृद्धि हो सकती है, क्योंकि इससे 4 जी ग्राहक भारी मात्रा में जुड़ सकेंगे। खासकर उन बाजारों में जहां जियो और एयरटेल का ज्यादा कवरेज नहीं है। वोडाफोन आइडिया के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला ने यह भी कहा कि कंपनी 4 जी नेटवर्क का विस्तार करने के लिए स्पेक्ट्रम को फिर से तैनात करने के लिए तेजी से काम करेगी। वोडाफोन आइडिया के चलते 4 जी नेटवर्क की अवधि में तीन से पांच गुना वृद्धि होने की उम्मीद है।

    English summary
    Vodafone-Idea will use 900 MHz spectrum in the country to deploy better 4G services rather than 2G networks. For which the spectrum is currently being used. There are 900 circles of spectrum in the 17 circles of Vodafone Idea. At the same time, the 3G spectrum is in 22 bands in 2100 Mhz band.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more