एयरटेल ने भारत में ब्‍लॉक की कई बड़ी वेबसाइट

Posted By:

एयरटेल ने भारत में ब्‍लॉक की कई बड़ी वेबसाइट

कुछ दिनों पहले अगर आपको ध्‍यान हो तो इंटरनेट पर एमटीएनएल, रिलायंस के यूजर वीडियो शेयरिंग, फाइल शेयरिंग से जुड़ी करीब 26 वेबसाइटों को ओपेन नहीं कर पा रहें थे ऐसा इंटरनेट में आई किसी गड़बड़ी के कारण नहीं बल्कि एमटीएनएल और रिलायंस ने इन सभी 26 साइटों को ब्‍लॉक कर दिया था अब भारती एयरटेल ने भी इन्‍हीं 26 टोरेंट वीडियो शेयरिंग और फाइल शेयरिंग वेबसाइटों को ब्‍लॉक कर दिया है।

इन तीनों प्रमुख इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स ने मद्रास कोर्ट के एक आदेश के तहत ऐसा किया है जिसमें कहा गया था इन वेबसाइटों पर ऐसा कंटेट दिया गया है जो कॉपीराइट कानून का उल्‍लंघन करता है और ऑनलाइन पाइरेसी को बढ़ावा भी देता है।

इन टोरेंट बेबसाइटों की वजह से सबसे ज्‍यादा नुकसान न्‍यू रिलीज फिल्‍मों को होता है जिनके गानें मार्केट में आने के बाद इनकी पॉयरेटेड कॉपी इंटरनेट से डाउनलोड की जा सकती है। ताजा आकड़ों के अनुसार इन टोरेंट बेबसाइटों की वजह से हर रोज फिल्‍म प्रोड्यूसरों को 3 से 5 करोड़ रुपए का नुकसान होता है।

ब्‍लॉक की गईं प्रमुख टोरेंट वेबसाइटें

1. thepiratebay.org/thepiratebay.se

2. Isohunt.com

3. torrentz.eu

4. torlock.com

5. kat.ph

6. torrentfunk.com

7. kickasstorrents.com

8. fenopy.eu

Video Sharing sites

1. DailyMotion.com

2. Vimeo.com

Others

1. Pastebin.com

2. Xmarks.com

इन वेबसाइटों को ओपेन करने पर " हाईकोर्ट के आदेश के तहत ये साइट ब्‍लॉक कर दी गई है" का मैसेज लिख कर आता है। वहीं इन साइटों को अभी बीएसएनएल के यूजर ओपेन कर सकते हैं। एमटीएनएल ने अपने दिल्‍ली और मुबंई उपभोक्‍ताओं के लिए इन सभी टोरेंट वेबसाइटों को ब्‍लॉक कर रखा है।

एयरटेल ने लांच किए नए डेटा प्‍लान

बैंगलोर और कोलकाता में 4जी डेटा प्‍लॉन मात्र 999 रुपए में

Please Wait while comments are loading...
मैदान पर लौटते ही बांग्लादेश पर टूटा डिविलियर्स का कहर, 'दोहरा शतक' लगाकर बनाए कई रिकॉर्ड
मैदान पर लौटते ही बांग्लादेश पर टूटा डिविलियर्स का कहर, 'दोहरा शतक' लगाकर बनाए कई रिकॉर्ड
प्रकाश राज के बाद एक और बड़े अभिनेता ने पीएम मोदी पर बोला हमला, कहा- नोटबंदी की गलती करें स्वीकार
प्रकाश राज के बाद एक और बड़े अभिनेता ने पीएम मोदी पर बोला हमला, कहा- नोटबंदी की गलती करें स्वीकार
Opinion Poll

Social Counting