अल कायदा ने हैक की रेलवे वेबसाइट, मैसेज भी छोड़ा

Written By:

    वेबसाइट हैक होने की घटनाएं अब आम होती जा रही हैं, आतंकी संगठन अल कायदा ने मंगलवार को भारतीय रेलवे के रेलनेट पेज की साइट को कथित तौर पर हैक कर लिया। ऐसा पहली बार हुआ है कि इस संगठन ने सरकारी वेबसाइट पर सेंध लगाने में कामयाबी हासिल की है। संगठन ने इस पेज पर अपना संदेश भी छोड़ा।

    अल कायदा ने हैक की रेलवे वेबसाइट, मैसेज भी छोड़ा

    जानकारी के अनुसार, सेंट्रल रेलवे के पर्सनल डिपार्टमेंट के भुसावल डिवीजन के हैक्ड पेज और विभागीय जरूरत के लिए तैयार पेज को दक्षिण एशिया में अल कायदा के प्रमुख मौलाना आसिम उमर के संदेश से बदल दिया गया है। पेज पर भारतीय मुस्लिमों के नाम उमर का यह संदेश दिखाया जा रहा है। मैसेज में लिखा गया था 'आपके महासागर में तूफान क्यों नहीं आ रहा?' मौलाना आसिम उमर की ओर से भारतीय मुस्लिमों के लिए एक संदेश।'

    पढ़ें: गूगल की बिना ड्राईवर वाली कार ने बस को मारी टक्कर!

    जिहाद के लिए उकसाने की कोशिश
    वेब पेज हैक होने के बाद इसके साथ 11 पेज का डॉक्यूमेंट अटैच किया गया जिस पर लिखा था, 'क्या दिल्ली की धरती शाह मुहादिथ देहल्वी को जन्म नहीं देगी जो एक बार फिर भारत के मुसलमानों को जिहाद के भूले हुए पाठ पढ़ाए और जिहाद के लिए तैयार करे।' संदेश में लोगों को जिहाद में भाग लेने के लिए प्रोत्‍साहित किया गया था। इसमें अमेरिका और इसके सहयोगियों को 'हराने' के लिए भी मदद मांगी गई है।

    गौरतलब है कि यूपी के संभल के निवासी उमर को पिछले साल कथित तौर पर अल कायदा का दक्षिण एशिया का प्रमुख बनाया गया था। उमर को सनाउल हक के नाम से भी जाना जाता है और 1992 के बाबरी ढांचा विध्वंस के बाद वह जेहादी संगठन से जुड़ा था।

    English summary
    Terror outfit al-Qaida on Tuesday allegedly hacked a microsite of the Indian Railways' Railnet page. The hacked page of Bhusawal division of Personnel Department of the Central Railway and part of a large intranet created for the department's administrative needs, was replaced by a message purportedly....
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more