2014 के अविष्‍कार जो आपके भविष्‍य को बदलने के लिए काफी हैं

Written By:

    "आवश्यकता ही अविष्‍कार की जननी है" ये कहावत आप बचपन से सुनते आ रहे होंगे, अगर इसे एक उदाहरण के रूप में समझे तो बिजली को ही ले लीजिए ये अविष्‍कार से पहले हमारी धरती में मौजूद थी लेकिन जब इसकी आवश्‍यक्‍ता महसूस की गई तब अंग्रेज वैज्ञानिक William Gilbert ने इसे समझा और इसका अविष्‍कार किया।

    इतहास और विज्ञान का रिश्‍ता हमेशा से रहा है जिसमें कई नई चीजें निकल कर सामने आई हैं। हम आपके लिए आज कुछ ऐसे ही अविष्‍कार लाए हैं जो 2014 के दौरान किए गए हैं मगर ये हमारी आने वाले भविष्‍य की एक नई रूप रेखा तैयार करते हैं।

    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    Electro-telepathic Communication

    टेलिपेथी शब्‍द का मतलब एक तरह की साइंस फिक्‍शन तकनीक समझ सकते हैं जिसमें किसी एक व्‍यक्ति की सोंच किसी दूसरे व्‍यक्ति तक पहुंचती है यानी आप क्‍या सोंच रहे है इसे हजारों किलोमीटर दूर बैठे व्‍यक्ति तक पहुंचा सकते हैं। international consortium of neuroscientists, रोबोटिक्‍स और रिसचर ने दिमाग से दिमाग के बीच होने वाले संचार को खोज निकाला है। इसे बारसिलोना के स्‍टार लैब और फ्रांस के ऑक्‍सियम रोबोटिक्‍स इन स्‍टारबर्ग ने खोजा है। ये प्रोजेक्‍ट अभी अपनी शुरुआती चरण में हैं लेकिन इसमें 8,000 किलोमीटर की दूरी में बैठे लोगों के बीच संचार स्‍थापित करने में सफलता मिल चुकी है। यानी आने वाले समय में आप अपनी सोंच किसी को भी इस तकनीक के माध्‍यम में बता सकते हैं।

    Unhackable Quantum Internet

    क्‍वांटम तकनीक की मदद से इंटरनेट को न सिर्फ सुरक्षित रखा जा सकता है बल्‍कि इसे दुनिया में कोई हैक भी नहीं कर सकता, इसकी मदद से चाइना और स्‍विटजरलैंड जैसे देशों में कई प्रयोग भी किए गए हैं। इसमें इंटरनेट नेटर्वक में फोटॉन एक तरह की क्‍वांटम की बनाते हैं तो साधारण डेटा को इंनक्रिप्‍ट कर देता है। अगर इसे कोई चुराने की कोशिश करता है तो यूजर को पता चल जाता है कि उसकी ये Key कोई चुरा रहा है।

    Cheap Nanotube Hydrogen Fuel

    दुनिया में ऊर्जा के श्रोत धीरे-धीरे खत्‍म हो जाते हैं अगर इनका कोई ठोस विकल्‍प नहीं खोजा गया तो एक दिन पूरी दुनिया में अंधेरा हो जाएगा। मगर अब एक ऐसा तरीका खोज लिया है जो हमें सस्‍ते ऊर्जा मुहैया करा सकता है, ये हैं सस्‍ते नैनोट्यूब हैड्रोजन फ्यूल, न्‍यू जर्सी की Rutgers University के रिसर्चरों ने कार्बन हाईड्रोजन फ्यूल को ऊर्जा की तरह प्रयोग करने का विकल्‍प ढ़ूड़ निकाला है। मोटे तौर पर समझे तो वैज्ञानिकों ने कार्बन नैनो ट्यूब को इलेक्‍ट्रोलेसिस रिएक्‍शन की मदद से हाईड्रोजन फ्यूल में बदलने को तरीका खोज निकाला है।

    Liquid Data Storage Devices

    हमारे चारों तरफ डेटा है ये किसी भी रूप में हो सकता है चाहे सेलफोन को ले लीजिए या फिर क्‍लाउड सर्वर के रूप में, न्‍यूयार्क की University of Michigan के वैज्ञानिकों ने एक ऐसा तरीका डिज़ाइन किया है जिसकी मदद से ज्‍यादा से ज्‍यादा डेटा कम स्‍पेस में स्‍टोर किया जा सकता है। एक साधारण 1 टीबी की हार्डडिस्‍क का डेटा एक छोटे सेल फोन में आता है मगर इतना ही डेटा लिक्‍विड स्‍टोरज में रखा जाए तो ये एक चम्‍मच के आकार वाली हार्डडिस्‍क में सेव हो सकता है।

    Artificial Blood Supplies

    खून हमारी जिंदगी है जो हमारे शरीर को चलाने का काम करती है। लेकिन जब हमें इमरजेंसी में खून की जरूरत पड़ती है और उस समय खून न मिले तो ऐसे समय में जान का खतरा भी हो सकता है। मगर अब आर्टीफिशिल रेड और व्‍हाइट ब्‍लड सेल की मदद से किसी को भी आसानी से खून मिल सकेगा। फिलहाल ओ निगेटिक सेल बनाए गए है जो यूनीवर्सल डोनर है। यानी आने वाले समय में किसी को भी खून की कमी नहीं होगी।

    Cancer Controlling Gene

    कैंसर हर साल दुनियां में करोड़ों लोगों को जान लेता है, वैज्ञानिकों ने DIXDC1 नाम की एक जीन खोज निकाली है जो कैंसर को रोकने में कारगर साबित होती है। DIXDC1 जीन को ब्‍लॉक करने पर कैंसर सेल के बढ़ने की स्‍पीड रूक जाती है।


    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more