जानिए एंड्रायड के अगले ऑपरेटिंग सिस्टम मार्शमेलो में कौन से नए फीचर होंगे

Written By:

    17 अगस्त 2015 यानि सोमवार को गूगल ने अपने नए मोबाईल आॅपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉयड-एम ओएस के अपग्रेडेबल वर्जन की औपचारिक रूप से घोषणा कर दी। गूगल के अगले एंड्रॉयड 6.0 एम ओएस को मार्शमैलो के नाम से जाना जाएगा। मीडिया की खबरों के अनुसार, गूगल का यह एंड्राॅयड-एम जल्द ही बाजार में उतार दिया जाएगा।

    एंड्रॉइड के वीपी ऑफ इंजीनियरिंग डेव बुर्के ने इस ओएस के नाम के बारे में जानकारी देते हुए ट्विटर किया। साथ ही उन्होंने इस ट्विटर पर एक फोटो पर साझा की। यदि आप गूगल नेक्सस मोबाईल रखते हैं तो आप उसपर इस ओएस की कुछ नई फैक्ट्री फोटोज़ देख सकते हैं। यह चित्र मार्शमैलो के लगभग फाइनल हो चुके वर्जन की झलक मात्र आपको दिखाती है। आपको बताते चले कि गूगल ने मई 2015 में ही अपनी वार्षिक डिवेलपर कॉन्फ्रेंस गूगल आई/ओ में एंड्रायड -एम 6.0 ओएस का प्रथम डिवेलपर प्रीव्यू दिखाया था। इसके बाद इस ओएस का द्वितीय डिवेलपर प्रीव्यू जुलाई 2015 में लांच किया गया।

    वास्तव में, मार्शमैलो एक प्रकार की शुगर कैंडी का नाम है। इस कैडी का विदेशों में बहुत अधिक चलन है। इस नाम के ऐलान के साथ ही गूगल ने अपने पहले लांच किए गए ओएस की पंरपरा को जारी रखते हुए अपने शेष परंपरागत नामों की तरह ही नए वर्जन को भी वैसा ही नाम दिया है। आपको बता दे कि गूगल के एंड्रॉयड ओएस कपकेक, डोनट, इक्लेयर, फ्रोयो, जिंजरब्रेड, हनी कॉम्ब, आइसक्रीम सैंडविच, जैलीबीन, किट-कैट और लॉलीपॉप आदि मिठाई के नामों पर ही रखे गए थे।

    एंड्रॉयड 6.0 एम ओएस मार्शमैलो अनेक रोचक फीचर के साथ लांच किया गया। इसके जरिए गूगल ने बेहतर परफॉर्मेंस व स्थिरता पर ध्यान केंद्रित किया है। चलिए आपको इसके फीचर की जानकारी दिए देते हैंः

    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    होमस्क्रीन हो सकेगी रोटेट:

    गूगल के नए वर्जन एंड्रॉयड 6.0 मार्शमैलो में अब आप अपनी होमस्क्रीन को भी रोटेट कर सकते हैं यानि अब आप उसको लैंडस्केप में भी होमस्क्रीन का प्रयोग कर सकेंगे।

    हो सकता है फिंगरप्रिंट ऑथेंटिकेशनः

    सूत्रों की माने तो मार्शमैलो में फिंगरप्रिंट ऑथेंटिकेशन भी आ सकता है। इससे यूजर्स पासवर्ड के बिना भी लॉगइन कर सकेगे। यह फीचर अभी तक कुछ महंगे मोबाइल्स जैसे गैलेक्सी एस6, गैलेक्सी एस6 एज, एचडीसी वन एम9 और आईफोन 6 आदि में उपलब्ध है। इस ओएस में इस फीचर के आने से अनेक कम बजट वाले मोबाइल्स में यह फिंगरप्रिंट ऑथेंटिकेशन फीचर आ जाएगा।

    डार्क स्क्रीन हो सकती है गायबः

    एंड्रॉयड एम में डार्क स्क्रीन लोऑउट गायब हो सकती है। यानि मोबाईल सेटिंग मेन्यू में अब आपको ब्लैक डार्क बैग्राउंट के स्थान पर सफेद बैग्राउंट दिखेगा।

    प्राइवेसी कंट्रोल पर जोरः

    इस नये एंड्रॉइड एम में प्राइवेसी कंट्रोल्स पर अधिक जोर दिये जाने की संभावना है। इसमें उपयोगकर्ता को फोटोज़, डाटा ऐप्स, लोकेशन डाटा, कॉन्टैक्ट्स इत्यादि को सेल करने व सुरक्षित रखने के और अधिक विकल्प दिये जाएंगे। यह सिक्योरिटी फीचर्स बहुत हद तक एप्पल द्वारा दिए गए फीचर्स की भांति ही रहने की संभावना है।

    रैम, बैटरी होगी फास्टरः

    मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो इस ओएस में बैटरी और रैम की परफॉर्मेंस को अधिक बेहतर बनाने पर ध्यान दिया गया है। इस नए वर्जन में किए गए बदलाव के बाद अब गूगल प्ले सर्विसेज के उपयोग पर बैटरी जल्दी खत्म नहीं होगी। साथ ही रैम की परफॉर्मेंस भी बढ़ जाएगी। मल्टीटास्किंग करने वालों और गेम खेलने के शौकीनों के लिए यह फीचर्स बहुत बढि़या कहे जा सकते हैं।

    वर्ड से कर सकेंगे अब एप को सर्च:

    इस नए वर्जन से वर्टिकल-स्क्रॉलिंग एप ड्रॉर के आने की संभावना जताई जा रही है। पहले आपको मेन्यू में जाना होता था फिर एप ढूंढने के लिए वर्टिकली स्क्रॉल करना होता था पर अब स्क्रॉल सर्च की जगह नए वर्जन में आपको बाईं ओर वर्ड बार दे दिया जाएगा जहां जिसमें आपको शब्दों के विकल्प मिलेगे। इसके द्वारा अब आप शब्द पर क्लिक करके सीधे किसी शब्द से आरंभ होने वाले एप का चुनाव कर सकेंगे। अब आप जिन प्रमुख चार ऐप्स का अधिक उपयोग करते हैं वो स्वतः टॉप पर दिखाई देंगे।आपको बताते चले कि विंडोज फोन में ये ऑप्शन पहले से ही दिया जा चुका है।


    लेटेस्ट टेक अपडेट पाने के लिए लाइक करें हिन्‍दी गिज़बोट फेसबुक पेज

    Read more about:
    English summary
    Google has confirmed the name of Android M Marshmallow. The new version will first make it to the expected new Nexus devices due for release later this year.
    Opinion Poll

    पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Gizbot sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Gizbot website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more