Android के मुकाबले iPhones का ओपरेटिंग सिस्टम है दुगुना दमदार !

Written By:

विश्व स्तर पर स्मार्टफोन मार्केट तेजी से डेवलप हो रहा है और एंड्रॉइड स्मार्टफोन यूजर्स की संख्या बढ़ रही है। इसका पहला कारण ये है कि एंड्रॉइड फोन हर यूजर के बजट में होते हैं और कुछ एंड्रॉइड फोन निर्माता कंपनियां फोन में बेहतर ओपरेटिंग सिस्टम देती हैं। हालांकि 2017 की दूसरी तिमाही में एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम की रिपोर्ट यूजर्स को परेशान कर सकती है। 2017 की दूसरी तिमाही में एंड्रॉइड ओपरेटिंग सिस्टम ऐपल के ऑपरेटिंग सिस्टम का मुकाबला करने में बुरी तरह फेल हो गया।

Android के मुकाबले iPhones का ओपरेटिंग सिस्टम है दुगुना दमदार !

बता दें कि हाल ही में सामने आई रिपोर्ट के मुताबिक, एंड्रॉइड के फेल होने का रेट 25 परसेंट है, जबकि iOS के फेल होने का रेट सिर्फ 12 परसेंट यानी एंड्रॉइ़ड की तुलुना में दुगूना है। रिपोर्ट में बताया गया कि एंड्रॉइड की परफॉर्मेंस जहां गिरती जा रही है, वहीं ऐपल का ओपरेटिंग सिस्टम अभी भी दमदार भूमिका में है।

नया स्मार्टफोन खरीदने से पहले 77% इंडियन सोचते हैं ये बातें!

एंड्रॉइड में सैमसंग के मोबाइल में फेल रेट सबसे ज्यादा 61 परसेंट रहा, जबकि LG का 11 परसेंट, सोनी 6 परसेंट और ZTE का फेल रेट मात्र 5 परसेंट रहा। इसके अलावा सैमसंग गैलक्सी S7 ऐसा फोन है, जिसका फेल रेट एंड्रॉइड फोन्स में सबसे ज्यादा 6 परसेंट है।

Apple के बारे में ये अमेजिंग फैक्ट्स नहीं जानते होंगे आप

वहीं अगर बात आईफोन की करें, तो इस श्रेणी में सबसे पहला नाम iPhones 6 शीर्ष पर है। इसका फेल रेट 26 परसेंट है। iPhones 6S का फेल रेट 11 परसेंट और iPhones 7 प्लस का फेल रेट मात्र 7 परसेंट है। हेडफोन और स्क्रीन से जुड़ी परेशानियों का सामना यूजर्स अभी भी कर रहे हैं।



English summary
Android Phones Failure Rate In Q2 Was Twice Than iPhones. more detail in hindi.
Please Wait while comments are loading...
 EC bars 'Pappu': 'पप्पू' के इस्तेमाल पर लगी रोक तो परेश रावल को सूझी मसखरी,  लोगों के कहा PD लिख दो...
EC bars 'Pappu': 'पप्पू' के इस्तेमाल पर लगी रोक तो परेश रावल को सूझी मसखरी, लोगों के कहा PD लिख दो...
Pradyuman Murder Case: शक के दायरे से बाहर नहीं कंडक्‍टर अशोक, नहीं मिली बेल
Pradyuman Murder Case: शक के दायरे से बाहर नहीं कंडक्‍टर अशोक, नहीं मिली बेल
Opinion Poll

Social Counting