बार-बार मोबाइल फोन चेक करना एक तरह की बीमारी है

Posted By:

शोधकर्ताओं के मुताबिक बार-बार मोबाइल में झांकना एक प्रकार की संक्रामक बीमारी है। यही वजह है कि हम बार-बार ऐसा करते हैं। समाचार पत्र 'डेली मेल' के मुताबिक बार-बार देखने की दृष्टि से यह घड़ी की जगह ले चुका है। लोग बार-बार इसमें नए संदेश की पड़ताल करते हैं या फेसबुक पर एक नजर डालने के लिए इसे देखते हैं।

बार-बार मोबाइल फोन चेक करना एक तरह की बीमारी है

मिशिगन विश्वविद्यालय के शोधार्थियों के एक दल ने अपने अध्ययन में पाया कि यदि आप किसी के साथ हैं और आपका साथी बार-बार अपना मोबाइल देख रहा है, तो आप भी सामान्य से दोगुनी आवृति के साथ अपने मोबाइल देखेंगे। साथ ही यही आवृति महिलाओं में पुरुषों की अपेक्षा और अधिक होती है। शोधार्थियों ने भोजन कक्ष और कॉफी की दुकान में बैठे विद्यार्थियों पर नजर रखकर यह अध्ययन किया और पाया कि युगल आम तौर पर 20 मिनट तक मेज पर बैठे और इस दौरान हर 10 सेकंड में उन्होंने अपने मोबाइल में झांका।

एक शोधार्थी डेनिएल क्रूगर ने कहा, "हमने यह सबसे रोचक जानकारी हासिल की कि लोग कितनी दफा अपने मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं।"उन्होंने कहा कि जिसे भी उन्होंने देखा, उसने कम से कम एक बार अपना मोबाइल जरूर देखा। उनके मुताबिक जब आप किसी को अपने संदेश की पड़ताल करते हैं, तो आपकी भी ऐसा करने की इच्छा हो जाती है।

Please Wait while comments are loading...
नए साल पर किया गया ये छोटा सा काम, देगा साल भर की खुशियां
नए साल पर किया गया ये छोटा सा काम, देगा साल भर की खुशियां
Gujarat Assembly Election 2017: गुजरात में 6 बूथों पर दोबारा मतदान , जिग्नेश मेवाणी ने कहा-एग्जिट पोल बकवास है
Gujarat Assembly Election 2017: गुजरात में 6 बूथों पर दोबारा मतदान , जिग्नेश मेवाणी ने कहा-एग्जिट पोल बकवास है
Opinion Poll

Social Counting

पाइए टेक्नालॉजी की दुनिया से जुड़े ताजा अपडेट - Hindi Gizbot